पिता को कोच बनाकर जीता खिताब, बनीं दुनिया की नंबर चार खिलाड़ी, अब पद से हटाया

पिता के साथ सोफिया केनिन (फोटो क्रेडिट: Sofia Kenin इंस्‍टाग्राम)

पिछले साल टेनिस कोर्ट पर अपने खेल से इतिहास रचने वाली इस महिला खिलाड़ी ने अपने पिता को कोच बनाकर कई उपलब्धियां हासिल की है, मगर अब वह नई तकनीकी टीम के साथ अपने सफर को आगे बढ़ाना चाहती हैं

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. जिस पिता को कोच बनाकर महिला टेनिस खिलाड़ी सोफिया केनिन (Sofia Kenin) ने ऑस्‍ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता, दुनिया की नंबर चार टेनिस खिलाड़ी बनी, खूब सारे सम्‍मान हासिल किए. उन्‍हें केनिन ने अपने कोच पद से हटाया दिया है. अब केनिन के पिता उन्‍हें कोचिंग नहीं देंगे. केनिन ने यह कठिन फैसला फ्रेंच ओपन शुरू होने से कुछ सताह पहले लिया. वह एक नई तकनीकी टीम को साथ रखना चाहती है. केनिन ने 2020 में ऑस्‍ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता था और वह फ्रेंच ओपन की रनर अप भी रही थीं.

    केनिन ने इंस्‍टाग्राम पर पिता और ऑस्‍ट्रेलियन ओपन ट्रॉफी के साथ एक तस्‍वीर शेयर करके उनसे अलग होने की घोषणा की. उन्‍होंने लिखा कि मैं सभी को यह बताना चाहती थी कि कई साल साथ रहने के बाद मैंने बतौर कोच अपने पिता से अलग होने का फैसला किया है. मेरे लिए यह फैसला लेना बिल्‍कुल भी आसान नहीं था. हमने साथ में कई यादगार लम्‍हें बिताए हैं और बहुत सफलता मिली है.



    केनिन ने कहा कि मैं आज जहां हूं, वहां तक पहुंचाने में योगदान देने और बलिदानों के लिए मैं अपने पिता की आभारी रहूंगी. 22 साल की अमेरिका की केनिन की डब्‍ल्‍यूटीए रैंकिंग 4 है. केनिन के पिता उनके दौरों पर हमेशा स्‍टैंड में मौजूद रहते हैं.

    यह भी पढ़ें: 

    Video: जोफ्रा आर्चर ने केले की तरह गेंद फेंककर लिया विकेट, देखता रह गया बल्‍लेबाज

    आकाश चोपड़ा ने भारतीय टीम के चयन पर सवाल उठाया, पूछा-कुलदीप यादव क्यों नहीं शामिल

    कई बार तो मैच के दौरान केनिन को कोचिंग देने के लिए चेयर अंपायर से उन्‍हें चेतावनी भी मिली है. केनिन के जन्‍म से काफी साल पहले उनका परिवार मास्‍को से न्‍यूयॉर्क शहर में बस गया था. जहां केनिन के पिता एलेक्‍स इंग्लिश क्‍लास लेते थे. दिन में कम्‍प्‍यूटर स्‍कूल जाते थे. रात में कार सर्विस के लिए जाते थे. केनिन के जन्‍म से कुछ समय पहले ही वह परिवार सहित रूस वापस चले गए थे. इसके बाद वह फिर से न्‍यूयॉर्क आ गए और फ्लोरिडा में बस गए, जो अब केनिन का घर है