कोरोना वायरस टीके पर जोकोविच के विरोध में सामने आए नडाल, कहा-नियम सबके लिए जरूरी

इससे पहले मई में फ्रेंच ओपन को स्थगित कर दिया गया था और इसका आयोजन अमेरिकी ओपन के खत्म होने के एक हफ्ते बाद करने की योजना है. इस बीच 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध के बाद विंबलडन को पहली बार रद्द किया गया.

जोकोविच (Novak Djokovic) ने हाल ही में कहा कि यात्रा के लिए अनिवार्य होने की स्थिति में भी वह कोरोना वायरस का टीका नहीं लेंगे

  • Share this:
    नई दिल्ली. टेनिस के दिग्गज खिलाड़ी राफेल नडाल  (Rafael Nadal) ने कहा कि अगर इस खेल को संचालित करने वाली संस्था ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के टीके को खिलाड़ियों के लिए जरूरी किया तो नोवाक जोकोविच (Novak Djokovic) को भी इसका पालन करना होगा. जोकोविच ने हाल ही में कहा कि यात्रा के लिए अनिवार्य होने की स्थिति में भी वह कोरोना वायरस का टीका नहीं लेंगे. उन्होंने हालांकि बाद में कहा कि वह अपनी बातों पर फिर से विचार करने के लिए तैयार हैं.

    सभी खिलाड़ियों को करना होगा नियमों का पालन
    नडाल ने स्पेनिश अखबार ‘ला वोज डी ग्लेसिया’ से कहा कि जोकोविच (Novak Djokovic) सहित सभी खिलाड़ी को नियमों का पालन करना होगा. नडाल ने कहा कि किसी के साथ जोर-जबरदस्ती नहीं करना चाहिये और हर किसी को अपने बारे में फैसला करने का अधिकार है. लेकिन हर खिलाड़ी को टेनिस अधिकारियों द्वारा तय नियमों का पालन करना होगा. यह हर किसी के बचाव के लिए होगा.

    उन्होंने कहा, ‘अगर जोकोविच शीर्ष स्तर पर खेलते रहना चाहते हैं तो उन्हें टीका लगाना होगा. मेरे लिये भी ऐसा ही होगा. हर किसी को नियमों का पालन करना होगा.’ कोरोना वायरस का टीका हालांकि अभी तक लोगों के लिये उपलब्ध नहीं है. इस महामारी से दुनिया भर में 2,70,000 से अधिक लोगों की मौत हो गयी है.

    जोकोविच ने टीका लगवाने का किया था विरोध
    इससे पहले ही सर्बिया के टेनिस स्टार और वर्ल्ड नंबर-1 नोवाक जोकोविच ने इसका व्यक्तिगत तौर पर विरोध किया है. उन्होंने कहा कि टीका लगवाना है या नहीं, यह लोगों की मर्जी होनी चाहिए. इसके लिए किसी को मजबूर नहीं किया जाना चाहिए.

    जोकोविच (Novak Djokovic) ने साथी प्लेयर्स के साथ एक लाइव फेसबुक चैट में कहा, ‘व्यक्तिगत तौर पर मैं वैक्सीन का विरोध कर रहा हूं. मैं इस बात से सहमत नहीं हूं कि किसी खिलाड़ी को विदेश यात्रा करने से पहले वैक्सीन लगाया जाए. यदि यह अनिवार्य हो जाता है, तो क्या होगा? मुझे खुद को यह फैसला करना चाहिए. मैं इस मामले में अपने विचार अलग रखता हूं, जो किसी फैसले में बदल जाएंगे, मुझे नहीं पता.

    कोरोना वायरस के कारण टेंट में रहने को मजबूर है यह क्रिकेटर, कहा- इस बीमारी ने सब तबाह कर दिया

    लॉकडाउन के बावजूद पाकिस्तान के खिलाड़ियों ने खेला क्रिकेट, किया चाइनीज ऐप का इस्तेमाल!