French Open Tennis : कभी क्रिकेटर थीं...आज वोंडरूसोवा से खिताबी जंग लड़ेंगी एश्ले बार्टी

एश्ले बार्टी ने पहली बार ग्रैंडस्लैम टेनिस टूर्नामेंट के महिला सिंगल्स वर्ग के फाइनल में जगह बनाई है.

एश्ले बार्टी ने पहली बार ग्रैंडस्लैम टेनिस टूर्नामेंट के महिला सिंगल्स वर्ग के फाइनल में जगह बनाई है.

सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया की बार्टी ने अमेरिका की 17 साल की अनिसिमोवा को तो चेक गणराज्य की मार्केटा वोंडरूसोवा ने ब्रिटेन की जोहाना कोंटा को दी मात. दोनों पहली बार फाइनल में पहुंचीं हैं.

  • Share this:
फ्रेंच ओपन ग्रैंडस्लैम टेनिस टूर्नामेंट के महिला सिंगल्स वर्ग में इस बार उन दो खिलाड़ियों का आमना-सामना होगा, जो पहली बार इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचीं हैं. टूर्नामेंट की खिताबी भिड़ंत चेक गणराज्य की मार्केटा वोंडरूसोवा और ऑस्ट्रेलिया की एश्ले बार्टी के बीच होगी. सेमीफाइनल में 19 साल की वोंडरूसोवा ने ब्रिटेन की जोहान कोंटा को 7-5, 7-6 से हराया, वहीं बार्टी ने अमेरिका की 17 साल की अमांडा अनिसिमोवा को 6-7, 6-3, 6-3 से शिकस्त देकर खिताबी मुकाबले में प्रवेश किया.



किसी ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में वोंडरूसोवा का इससे पहले सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन चौथे दौर में जगह बनाने का था. तब वे 2018 में यूएस ओपन के चौथे दौर में पहुंची थीं. इसके अलावा उन्होंने 2018 और 2019 में ऑस्ट्रेलियन ओपन के दूसरे दौर में जगह बनाई थी, जबकि 2017 और 2018 के विंबलडन में वे पहले दौर में बाहर हो गईं थीं .



वहीं, बार्टी इस साल ऑस्ट्रेलियन ओपन के क्वार्टर फाइनल में हार गई थीं, जो उनका ग्रैंडस्लैम में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था. वे 2018 के विंबलडन में तीसरे जबकि यूएस ओपन में चौथे दौर तक पहुंची थीं.





क्रिकेट भी खेल चुकी हैं बार्टी
ऑस्ट्रेलिया की बार्टी ने फ्रेंच ओपन के महिला सिंगल्स वर्ग के फाइनल में जगह बनाकर अपने करियर का नया मुकाम हासिल किया है. लेकिन यह सफर इतना आसान कभी नहीं था. बहुत कम लोगों को पता है कि आज टेनिस की नई सनसनी बन चुकीं बार्टी एक समय क्रिकेटर रह चुकी हैं. यहां तक कि टेनिस में हासिल की गई उनकी सफलता में क्रिकेट का योगदान भी कम नहीं है.



एश्ले बार्टी बिग बैश लीग में ब्रिस्बेन हीट का हिस्सा रह चुकी हैं. (फोटो-Cricket.com.au)




पांच साल के लिए छोड़ दिया था टेनिस

बार्टी ने पांच साल पहले टेनिस छोड़कर क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था. इसकी वजह उनका खुद को मानसिक रूप से मजबूत बनाने का लक्ष्य था. तब उन्होंने टेनिस खेलना, देखना और यहां तक कि इस खेल के बारे में बात करना तक बंद कर दिया था. बार्टी ने सितंबर 2014 में यूएस ओपन के पहले दौर में बाहर होने के बाद पेशेवर टेनिस से ब्रेक लेने का ऐलान किया था.



...और फिर बिग बैश के पहले ही मैच में बनाए 27 गेंद पर 39 रन

टेनिस से ब्रेक लेने के बाद बार्टी ऑस्ट्रेलिया की महिला बिग बैश लीग से जुड़ गईं. दो सीजन पहले वे ‌ब्रिस्बेन हीट का हिस्सा थीं. इससे पहले, बिग बैश लीग में पदार्पण करने के दौरान पहले ही मैच में उन्होंने मेलबर्न स्टार्स के खिलाफ 27 गेंदों पर 39 रनों की पारी खेली.



मानसिक रूप से मजबूत होना चाहती थी...

बार्टी ने टेनिस से ब्रेक लेने के काफी समय बाद इसकी वजह बताते हुए कहा था कि मुझे मानसिक तौर पर अधिक मजबूत होने के लिए कुछ समय चाहिए था. मैं टेनिस खेलने का उतना लुत्फ नहीं उठा पा रही थी. मैंने बेहद कम उम्र में ही टेनिस खेलना शुरू कर दिया था. मैं टीनएज लड़की के तौर पर अपने जीवन का आनंद और कुछ सामान्य अनुभव लेना चाहती थी.



यह भी पढ़ें- 



धोनी के घर में हुई चोरी, ये सारा सामान ले उड़े चोर


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज