सानिया मिर्जा का शोएब मलिक पर बड़ा बयान, कहा-पता नहीं, मेरा बेटा दोबारा कब अपने पिता को देख पाएगा

मगर आ रही खबरों के मुताबिक‍ उनकी इस योजना में देरी हो सकती है. अब वह अगस्‍त के दूसरे सप्‍ताह में इंग्‍लैंड के लिए रवाना होंगे. दरअसल भारत ने इंटरनेशनल फ्लाइट पर प्रतिबंध 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है. जिस वजह से उन्‍हें परिवार से मिलने में देरी हुई.

सानिया मिर्जा (Sania Mirza) अपने बेटे के साथ भारत में हैं वहीं शोएब मलिक (Shoaib Malik) पाकिस्तान के सियालकोट में हैं

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा (Sania Mirza) हैदराबाद (Hyderabad) में अपने परिवार के साथ हैं. हालांकि इस बीच उन्हें लगातार यह ख्याल परेशान कर रहा है कि उनका बेटा इजहान कब अपने पिता का चेहरा देखेगा. सानिया के पति और पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक (Shoaib Malik) अपनी अम्मी  के साथ पाकिस्तान के सियालकोट में हैं. कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में लॉकडाउन की स्थिति है. लोग जहां हैं वहीं कैद हो गए. ऐसे में सानिया और शोएब अलग-अलग देश में कैद हो गए हैं.

    सानिया को सता रही है चिंता
    कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण लॉकडाउन से पहले सानिया अमेरिका में थी. फेड कप प्लेऑफ में ऐतिहासिक जीत के बाद सानिया को इंडियन वेल्स टूर्नामेंट खेलने अमेरिका जाना था लेकिन जब तक वह पहुंची टूर्नामेंट रद्द हो गया था. वह भारत लौट आई वहीं शोएब उस समय पाकिस्तान सुपर लीग (Pakistan Super league) खेल रहे थे. सानिया ने कहा, 'शोएब मलिक पाकिस्तान में हैं और मैं यहां. हमारे लिए यह मुश्किल समय क्योंकि हमारा छोटा बच्चा है. मैं नहीं जानती इजहान कब दोबारा अपने अब्बा से मिल पाएगा. हम दोनों काफी पॉजिटिव इंसान हैं. शोएब की मां 65 साल की हैं और सियालकोट में अकेले में रहती हैं तो उन्हें शोएब की ज्यादा जरूरत थी. हमने वही किया जो सही लगा. मैं उम्मीद करती हूं कि हम जल्द ही इन महामारी से सुरक्षित बाहर आएंगे.

    सानिया को भविष्य को लेकर सता रहा है डर
    सानिया (Sania Mirza) ने कहा कि इन दिनों वह केवल अपने परिवार के बारे में सोच रही हैं. उन्होंने कहा, 'मुझे आमतौर चीजों को लेकर चिंता नहीं होती. लेकिन कुछ दिन पहले रात को मैं भविष्य के बारे में सोचकर काफी घबरा गई थी. घर में जब छोटा बच्चा और बूढ़े मां-बाप हो तो आप बस उसके बारे में सोचते हैं, काम और टेनिस का ख्याल दिल में नहीं आता.'

    सानिया ने मां बनने के दो साल बाद इसी साल जनवरी में कोर्ट में वापसी की थी.  उन्होंने होबार्ट इंटरनेशनल टेनिस टूर्नामेंट का डबल्स खिताब जीता था. इसके साथ ही उन्होंने फेड कप में भी शानदार प्रदर्शन करते हुए भारत को पहली बार प्लेऑफ में पहुंचाया था, जिसके कारण उन्हें फेड कप हर्ट अवॉर्ड दिया गया है.

    कोरोना के बीच इंग्लैंड दौरे पर जाएगी पाकिस्तान की टीम, 5 अगस्त को पहला टेस्ट

    AFI ने दिया खिलाड़ियों को बड़ा झटका, अगले साल तक विदेश नहीं जाएगा कोई भी एथलीट