vidhan sabha election 2017

ऑस्ट्रेलिया में हुई थी सानिया-शोएब की पहली मुलाकात, पढ़ें उनकी लव स्टोरी

News18Hindi
Updated: November 15, 2017, 7:26 PM IST
ऑस्ट्रेलिया में हुई थी सानिया-शोएब की पहली मुलाकात, पढ़ें उनकी लव स्टोरी
सानिया-शोएब (twitter)
News18Hindi
Updated: November 15, 2017, 7:26 PM IST
जूनियर खिलाड़ी के रूप में 10 सिंगल्स खिताब और 13 डबल्स खिताब जीतकर टेनिस जगत में खलबली मचाने वाली सानिया मिर्जा आज अपना 31वां जन्मदिन मना रही हैं.

सानिया भारत में ही हैं और उनके पति शोएब जोकि पकिस्तानी क्रिकेटर हैं, अपने मुल्क में हैं. शोएब ने सानिया के जन्मदिन को ख़ास बनाने के लिए कुछ खास तरह से ही जन्मदिन की बधाई दी है.

उन्होंने सोशल मीडिया पर एक फोटो शेयर करके सानिया के लिए मेसेज लिखा, जिसमें उन्होंने सानिया को बधाई देते हुए उन्हें याद करने की बात भी लिखी.



सानिया-शोएब की पहली मुलाकात
सानिया और शोएब की लव स्टोरी काफी दिलचस्प रही. टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक की लव स्टोरी की शुरुआत एक रेस्तरां से हुई थी. सानिया मिर्जा ने ऑटोबायोग्राफी ‘Ace against Odds’ में शोएब मलिक से मुलाकात और फिर शादी के बारे में जिक्र किया है. किताब के मुताबिक सानिया और शोएब पहली बार ऑस्‍ट्रेलिया के होबार्ट शहर में एक रेस्तरां के अंदर मिले थे.

पहली बार डब्लूटीए में मिला खेलने का मौका 
साल 2002 में एशियन गेम्स में भारत को मिक्स्ड डबल्स खिताब दिलाने में उन्होंने एहम योगदान देकर करोड़ों दिल जीत लिए थे. उसके बाद साल 2003 में रूस की अलीसा क्लेबोनोवा के साथ उन्होंने प्रतिष्ठित विंबलडन ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट का गर्ल्स खिताब अपने नाम किया. साथ ही उसी साल सानिया को वाइल्ड कार्ड के जरिए पहली बार डब्लूटीए टूर्नामेंट में भी खेलने का मौका भी मिला. 2007 में वो विश्व रैंकिंग में टॉप-30 के अंदर पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला बन गईं। इसके बाद भारतीय पुरुष खिलाड़ी महेश भूपति के साथ वो सिंगल्स से डबल्स की तरफ कदम बढ़ाने निकलीं और देखते ही देखते भारतीय महिला टेनिस की पहचान बन गईं.

विवादों से घिरी सानिया
सानिया और विवादों का भी नाता लंबा रहा है. टेनिस मैचों के दौरान छोटी ड्रेस पहनने के लिए मुस्लिम संगठनों ने उनकी आलोचना की. 2008 में उनके उस बयान ने खलबली मचाई जिसमें उन्होंने भारत में ना खेलने का फैसला सुनाया. हालांकि बाद में वो भारत में खेलने के लिए आयीं. 2008 में तिरंगे के अपमान के भी उन पर आरोप लगे. कहा गया कि उन्होंने एक समारोह के दौरान तिरंग को पैरों से छुआ. इस मामले में उन पर केस भी दर्ज हुआ. लेकिन सानिया मिर्जा कभी किसी विवाद से विचलित नहीं हुई. सानिया ने हर कठिनाई खूबी से सामना किया और उनसे बाहर आती रहीं

 

ये भी पढ़ें:

EXCLUSIVE: कोहली-धोनी नहीं ये हैं पंड्या के पसंदीदा क्रिकेटर

EXCLUSIVE: क्यों है टीम इंडिया नं-1 जानिए अंजिक्य रहाणे की ज़ुबानी
First published: November 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर