• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • TENNIS SUMIT NAGAL ALSO FAILED TO MAKE IT TO THE MAIN DRAW OF THE FRENCH OPEN

सुमित नागल भी फ्रेंच ओपन के मुख्य ड्रॉ में जगह बनाने में नाकाम

सुमित नागल भी फ्रेंच ओपन क्वॉलिफायर्स के दूसरे दौर में हारे (Sumit Nagal/Instagram)

भारत के शीर्ष खिलाड़ी सुमित नागल भी फ्रेंच ओपन क्वॉलिफायर्स के दूसरे दौर में सीधे सेटों में हार के कारण इस ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट के मुख्य ड्रॉ में जगह नहीं बना पाए.

  • Share this:
    पेरिस. भारत के शीर्ष खिलाड़ी सुमित नागल भी फ्रेंच ओपन क्वॉलिफायर्स के दूसरे दौर में सीधे सेटों में हार के कारण इस ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट के मुख्य ड्रॉ में जगह नहीं बना पाए. हरियाणा के ​इस युवा खिलाड़ी को क्ले कोर्ट के इस प्रमुख टूर्नामेंट के क्वॉलिफाईंग मुकाबले में कल रात चिली के अलेजांद्रो ताबिलो से 3-6, 3-6 से हार का सामना करना पड़ा.

    यह मुकाबला डेढ़ घंटे तक चला जिसमें नागल ने विश्व रैंकिंग में अपने से 23 पायदान नीचे 146वें स्थान पर काबिज ताबिलो की दो बार सर्विस तोड़ी, लेकिन इस बीच उन्होंने पांच बार अपनी सर्विस भी गंवाई. इस 23 वर्षीय खिलाड़ी की हार के साथ ही भारत का क्वालीफायर्स में अभियान भी समाप्त हो गया.

    रामकुमार रामनाथन, प्रजनेश गुणेश्वरन और अंकिता रैना पहले ही टूर्नामेंट से बाहर हो गए थे. रोहन बोपन्ना और दिविज शरण अब फ्रेंच ओपन में पुरुष युगल के मुख्य ड्रॉ में भारत का प्रति​निधित्व करेंगे. इन दोनों के लिये यहां अच्छा प्रदर्शन करके रैंकिंग अंक हासिल करना महत्वपूर्ण है क्योंकि 10 जून तक की आधिकारिक रैंकिंग से यह तय होगा कि कौन सा खिलाड़ी तोक्यो ओलंपिक में भाग लेगा.

    सानिया मिर्जा ने टूर्नामेंट में भाग नहीं लेने का फैसला किया है क्योंकि वह विंबलडन चैंपियनशिप में प्रवेश के लिये अपनी 'विशेष रैंकिंग' का उपयोग करना चाहती हैं. बता दें कि अंकिता रैना का फ्रेंच ओपन के दूसरे क्वॉलिफायर मुकाबले में बुधवार को हार के साथ ग्रैंड स्लैम के एकल वर्ग के मुख्य दौर में जगह बनाने का सपना एक बार फिर पूरा नहीं हुआ.

    अंकिता खुद से बेहतर रैंकिंग वाली जर्मनी की खिलाड़ी ग्रीट मिन्नेन के खिलाफ एक घंटे 21 मिनट तक चले मुकाबले में सिर्फ दो गेम ही जीत पाई. विश्व रैंकिंग में 125वें स्थान पर काबिज अंकिता तीन ब्रेक प्वाइंट में से सिर्फ एक को भुना सकी और 2-6, 0-6 से हार गई. अंकिता सातवीं बार ग्रैंडस्लैम के मुख्य दौर में जगह बनाने की कोशिश कर रही थी. वह इस साल ऑस्ट्रेलियाई ओपन के क्वॉलिफाइंग के आखिरी दौर तक पहुंची थी.