• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo 2020: मीराबाई चानू बोलीं-5 साल में सिर्फ 5 दिन मां के साथ रही, रियो की नाकामी ने दिलाया मेडल

Tokyo 2020: मीराबाई चानू बोलीं-5 साल में सिर्फ 5 दिन मां के साथ रही, रियो की नाकामी ने दिलाया मेडल

Tokyo Olympics 2020: मीराबाई चानू ने अपनी सफलता का राज बताया (PC-AP)

Tokyo Olympics 2020: मीराबाई चानू ने अपनी सफलता का राज बताया (PC-AP)

मीराबाई चानू (Mirabai Chanu wins Silver Medal) ने टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारत को पहला मेडल दिलाया. वेटलिफ्टर चानू ने 49 किलोग्राम वर्ग में सिल्वर मेडल जीता. अपनी जीत के बाद चानू ने लड़कियों को पढ़ाई के साथ-साथ खेलों में भी आगे बढ़ाने की अपील की.

  • Share this:
    नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारत को पहला मेडल दिलाने वाली मीराबाई चानू (Mirabai Chanu wins Silver Medal) ने अपनी जीत की सबसे बड़ी वजह रियो ओलंपिक की नाकामी को बताया. टोक्यो में सिल्वर मेडल जीतने वाली चानू ने पिछले ओलंपिक में बेहद खराब प्रदर्शन किया था. चानू ने टोक्यो में मेडल जीतने के बाद कहा कि रियो में मिली उस नाकामी ने ही उन्हें बहुत ज्यादा मेहनत करने के लिए प्रेरित किया, जिसका नतीजा सबके सामने है. चानू ने ये भी बताया कि वो पिछले पांच सालों से घर से बाहर हैं और वो महज 5 दिन ही अपने परिवार के साथ रही हैं. लेकिन अब टोक्यो में सिल्वर मेडल जीतने के बाद वो अपनी मां के हाथ से चावल खाना चाहती हैं.

    शनिवार को मेडल (Mirabai Chanu wins Silver Medal) जीतने के बाद मीराबाई चानू ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, 'मैं पांच साल में सिर्फ पांच दिन घर गई हूं. अब मैं मां के पास ये मेडल लेकर जाऊंगी और उनके हाथ से खाना खाऊंगी. मेरी मां ने व्रत लिया था और कहा था कि जबतक मैं मेडल नहीं जीत जाती वो भूखी रहेंगी. मैंने जीतने के बाद मां से दो मिनट बात की और उन्होंने बताा कि मेरे गांव के सब लोग बहुत खुश हैं.'

    रियो ओलंपिक की नाकामी के बाद बदली ट्रेनिंग
    मीराबाई चानू ने बताया कि उन्होंने रियो ओलंपिक की नाकामी के बाद अपनी ट्रेनिंग में बदलाव किया. उन्होंने कहा, ' ओलंपिक में मेडल जीतने का मेरा सपना पूरा हो गया है. मैंने रियो ओलंपिक की बहुत तैयारी की थी लेकिन वहां सपना टूट गया. उस नाकामी से काफी कुछ सीखा. मैंने अपनी ट्रेनिंग में बदलाव किया और उस हार से सबक लिया. जो रियो में नहीं हुआ वो टोक्यो में हो गया. मुझे मेहनत का फल मिला है.'

    Mirabai Chanu: भारत की मिट्टी अपने साथ रखती हैं मीराबाई चानू, विदेश में खाती हैं गांव के चावल

    मेरी जीत से बहुत लड़कियां वेटलिफ्टिंग खेल में आएंगी-चानू
    मीराबाई चानू ने भरोसा जताया कि टोक्यो में उनके मेडल जीतने से और लड़कियों का वेटलिफ्टिंग के प्रति रुझान बढ़ेगा. उन्होंने कहा, 'मेरे इस मेडल से लड़कियां इस खेल की ओर आकर्षित होंगी. मैं चाहती हूं कि लड़कियां खेल में ज्यादा से ज्यादा हिस्सा लें. लड़कियां सिर्फ पढ़ाई ही नहीं खेल में भी नाम कमा सकती हैं. लड़कियों में बहुत ताकत होती है और वो मेडल जीतकर देश का नाम रोशन कर सकती है.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज