• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo Olympics: ओलंपिक खत्‍म होने तक जापान के पास इकट्ठा हो जाएगा 5 लाख मिलीलीटर से ज्‍यादा थूक, जानिए पूरा मामला

Tokyo Olympics: ओलंपिक खत्‍म होने तक जापान के पास इकट्ठा हो जाएगा 5 लाख मिलीलीटर से ज्‍यादा थूक, जानिए पूरा मामला

Tokyo Olympics 2020 टोक्‍यो ओलंपिक में रोज 30 हजार लोगों की कोरोना जांच हो रही है (AFP)

Tokyo Olympics 2020 टोक्‍यो ओलंपिक में रोज 30 हजार लोगों की कोरोना जांच हो रही है (AFP)

टोक्‍यो ओलंपिक (tokyo olympics) के कारण जापान के पास रोज 30 हजार मिलीलीटर थूक इकट्ठा हो रहा है, जो 8 अगस्‍त तक 5 लाख मिलीलीटर हो जाएगा

  • Share this:

    टोक्‍यो. इस समय पूरी दुनिया की नजर टोक्‍यो में चल रहे ओलंपिक (Tokyo Olympics) पर है. कौन सा देश सबसे ज्‍यादा मेडल जीत रहा है. किसने पहली बार मेडल जीता, बड़ा उलटफेर, रिकॉर्ड सब पर दुनिया की नजर बनी हुई है, मगर इन सबके अलावा एक और चीज है, जो टोक्‍यो ओलंपिक में हो रही है और शायद ही ज्‍यादा लोगों को इसकी जानकारी हो. टोक्‍यो ओलंपिक खत्‍म होने तक जापान के पास 5 लाख मिलीलीटर से भी ज्‍यादा थूक इकट्ठा हो जाएगा और यह सब होगा कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण.

    दरअसल कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को हिला दिया है. कोरोना के कारण टोक्यो ओलंपिक को पिछले साल 2021 तक के लिए स्‍थगित कर दिया गया था. कोरोना के साये में इतने बड़े टूर्नामेंट का आयोजन करना जापान के लिए सबसे बड़ी चुनौती भी है. ऐसे में बिना किसी बाधा के टूर्नामेंट आयोजन के लिए रोज 30 हजार लोगों की कोरोना जांच की जा रही है.

    ओलंपिक खत्‍म होने तक इकट्ठा होगी 5 लाख शीशियां 

    इस जांच के लिए सभी के थूक के नमूने लिए जा रहे हैं, जो करीब हर शख्‍स का एक मिलीलीटर होता है और रोजाना 30 हजार शीशियां इकट्ठा हो जाती है. ओलंपिक के दौरान रोजाना करीब 30 हजार लोग छोटी छोटी प्लास्टिक की शीशियों में थूक के नमूने दे रहे हैं जो करीब एक मिलीलीटर होता है. इनमें दुनिया भर से खेलों में भाग लेने आये लोग शामिल हैं. 8 अगस्त को ओलंपिक खत्म होने तक करीब 5 लाख शीशियों में पांच लाख मिलीलीटर थूक जमा हो जाएगा.

    Tokyo Olympics: अमित पंघाल प्री क्‍वार्टर फाइनल में हारे, भारतीय उम्‍मीदों को बड़ा झटका लगा

    Tokyo Olympic, Archery: अतनु दास प्री-क्वार्टर फाइनल में हारे, तीरंदाजी में नहीं मिला मेडल

    फीवर क्लीनिक पर की जा रही है जांच

    इस थूक को ट्यूबों में जमा करके बारकोड लगाकर रखा जा रहा है. जिनके नतीजों में संशय होता है, उनकी दोबारा जांच होती है. ये जांच ‘फीवर क्लीनिक’ नामक एक केंद्र पर की जा रही है जो पृथकवास में रह रहे लोगों का भी ध्यान रखता है. यहां जांच नाक में एक स्टिक डालकर नहीं की जा रही जो कोरोना जांच का प्रचलित एक अन्य तरीका है. खिलाड़ियों, टीम अधिकारियों, मीडिया और खेलों से जुड़ लोगों की मुफ्त जांच हो रही है जबकि इसका खर्च करीब 10 हजार येन या सौ डॉलर आता है . अभी तक खेलों से जुड़े 220 लोग पॉजिटिव पाये गए हैं जिनमें 23 खिलाड़ी हैं. (भाषा इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज