• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo Olympics: वर्ल्ड नंबर-1 विनेश फोगाट हुईं उलटफेर का शिकार, क्वार्टर फाइनल में हारीं, अब भी ब्रॉन्ज जीतने का मौका

Tokyo Olympics: वर्ल्ड नंबर-1 विनेश फोगाट हुईं उलटफेर का शिकार, क्वार्टर फाइनल में हारीं, अब भी ब्रॉन्ज जीतने का मौका

Tokyo Olympics: विनेश फोगाट क्वार्टर फाइनल में बेलारूस की पहलवान वानेसा से हार गईं. (फोटो-AP)

Tokyo Olympics 2020: रेसलिंग में गुरुवार (5 अगस्त) को भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही. वर्ल्ड नंबर-1 विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) क्वार्टर फाइनल में बेलारूस की पहलवान से हार गईं. वहीं अंशु मलिक (Anshu Malik) को भी रेपेचेज राउंड में हार का सामना करना पड़ा. हालांकि भारत को रवि दहिया गोल्ड और दीपक पूनिया ब्रॉन्ज दिला सकते हैं.

  • Share this:

    नई दिल्ली. भारतीय पहलवान विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) ओलंपिक खेलों (Tokyo Olympics) के क्वार्टर फाइनल मुकाबले में बेलारूस की वानेसा कालादजिन्सकाया से हारीं. बेलारूस की पहलवान ने विनेश को 9-3 से मात दी. भारत की पदक की प्रबल दावेदार विनेश फोगाट महिला 53 किग्रा वर्ग के पहले दौर में रियो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता स्वीडन की सोफिया मैटसन को हराकर अंतिम आठ में पहुंची थी. हालांकि विनेश के पास अब भी मेडल जीतने का मौका है. अगर बेलारूस की पहलवान वानेसा फाइनल में पहुंचती हैं तो विनेश को रेपेचेज में हिस्सा लेने का मौका मिलेगा.

    विनेश ने पहले मुकाबले में डिफेंस को आक्रमण में बदलने का शानदार नजारा पेश किया. भारत की 26 साल की पहलवान ने स्वीडन की खिलाड़ी सोफिया को 7-1 से हराया. विनेश ने 2019 विश्व चैंपियनशिप में भी मैटसन को हराया था. मैटसन ने जब भी विनेश के दायें पैर पर हमला किया जो भारतीय पहलवान ने पलटवार करते हुए अंक जुटाए. भारतीय खिलाड़ी ने पूरे मुकाबले के दौरान जज्बा बनाए रखा और विरोधी पहलवान को चित्त करने का मौका भी बनाया लेकिन स्वीडन की खिलाड़ी इससे बचने में सफल रही.

    अंशु मलिक रेपेचेज राउंड में हारीं
    हालांकि युवा अंशु मलिक 57 किग्रा वर्ग में रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता रूस की वालेरा कोबलोवा के खिलाफ रेपेचेज मुकाबले में 1-5 की हार के साथ पदक की दौड़ से बाहर हो गई. अंशु हालांकि अपनी मजबूत प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ लगातार हमले करती रही और एक समय बढ़त पर थी लेकिन रूस की पहलवान ने दो अंक के साथ बढ़त बनाई और फिर जीत दर्ज करने में सफल रही.

    यह भी पढ़ें:

    भारतीय हॉकी को 41 साल बाद Olympics मेडल, 2 गोल से पिछड़कर भी जीता महारोमांचक मुकाबला

    Tokyo Olympics 2020: भारत के 5 हीरो, जिन्होंने खत्म कराया 41 साल का इंतजार

    उन्नीस साल की अंशु अपने पहले दौर में यूरोपीय चैंपियन इरिना कुराचिकिना से हार गई थी और बेलारूस की खिलाड़ी के फाइनल में जगह बनाने के बाद उन्हें रेपेचेज में हिस्सा लेने का मौका मिला. आज भारत के पुरुष पहलवान रवि दहिया (57 किग्रा) और दीपक पूनिया (86 किग्रा) क्रमश: स्वर्ण और कांस्य पदक के लिए चुनौती पेश करेंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज