Home /News /sports /

Tokyo Paralympics 2020: डीएम सुहास यतिराज ने बताया, मेडल जीतकर भी क्‍यों हैं इतने निराश

Tokyo Paralympics 2020: डीएम सुहास यतिराज ने बताया, मेडल जीतकर भी क्‍यों हैं इतने निराश

Tokyo Paralympics:  सुहास यतिराज ने टोक्‍यो पैरालंपिक में सिल्‍वर मेडल जीता (pc: Paralympic India twitter )

Tokyo Paralympics: सुहास यतिराज ने टोक्‍यो पैरालंपिक में सिल्‍वर मेडल जीता (pc: Paralympic India twitter )

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी और आईएएस सुहास यतिराज ने टोक्‍यो पैरालंपिक में सिल्‍वर मेडल जीतने के बाद कहा कि उनकी जिंदगी में पहली बार इस तरह की मिश्रित भावनाएं आ रही हैं.

    टोक्‍यो. भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी और नोएडा के डीएम सुहास यथिराज (suhas yathiraj) ने टोक्‍यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics 2020) में सिल्‍वर मेडल जीतने के बाद कहा कि पहली बार उनकी जिंदगी में इस तरह की मिश्रित भावनाएं आ रही हैं. उन्होंने कहा कि जिंदगी में पहली बार एक ही समय उन्हें इतनी खुशी हो रही है और साथ ही निराशा भी. नोएडा के 38 वर्षीय जिलाधिकारी सुहास रविवार को टोक्यो पैरालंपिक की पुरुष एकल एसएल4 क्लास बैडमिंटन स्पर्धा के फाइनल में शीर्ष वरीय फ्रांस के लुकास माजूर से 21-15, 17-21, 15-21 से हार गए, जिससे उन्हें सिल्‍वर मेडल से अपना अभियान समाप्त करना पड़ा.

    भारतीय पैरालंपिक समिति के जरिए पोस्ट किये गये वीडियो में उन्होंने मैच जीतने के बाद कहा कि बहुत ही भावुक क्षण है. मैंने कभी भी एक साथ इतनी खुशी और इतनी निराशा महसूस नहीं की. खुश इसलिए हूं कि सिल्‍वर मेडल जीता, लेकिन निराश इसलिए हूं क्योंकि मैं गोल्‍ड से करीब से चूक गया.

    एक साथ इतनी खुशी और निराशा महसूस नहीं की

    सुहास को एक टखने में विकार है. उन्होंने कहा कि लेकिन भाग्य वही देता है जिसका मैं हकदार हूं और शायद मैं सिल्‍वर मेडल का हकदार था, इसलिये मैं कम से कम इसके लिये खुश हूं. उन्होंने कहा कि वह उम्मीद कर रहे थे कि योयोगी नेशनल स्टेडियम में राष्ट्रगान बजेगा, लेकिन उनके हाथों से गोल्‍ड मेडल फिसल गया और ऐसा नहीं हुआ.

    Tokyo Paralympics: नोएडा के डीएम सुहास यतिराज ने सिल्वर जीत रचा इतिहास, भारत को मिला 18वां पदक

    डीएम सुहास यतिराज की पत्‍नी रह चुकी हैं मिसेज इंडिया, मुख्‍तार अंसारी के अवैध निर्माण पर चला दी थी JCB

    एसएल4 क्लास एकल के दुनिया के तीसरे नंबर के खिलाड़ी ने कहा कि मैं कभी इतना निराश और इतना खुश नहीं हुआ था. इतना करीब आकर, फिर भी इतनी दूर, लेकिन पैरालंपिक में पदक जीतना कोई छोटी उपलब्धि नहीं है. मैंने पिछले कुछ दिनों में जो प्रदर्शन किया है, उससे मुझे गर्व है. रविवार को वह पैरालंपिक में पदक जीतने वाले पहले आईएएस अधिकारी बन गये.

    Tags: Badminton, Sports news, Tokyo Paralympics, Tokyo Paralympics 2020

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर