Home /News /sports /

Tokyo Paralympics : शटलर प्रमोद भगत टोक्यो पैरालंपिक के सेमीफाइनल में, सुहास, कृष्णा और तरुण की भी जीत

Tokyo Paralympics : शटलर प्रमोद भगत टोक्यो पैरालंपिक के सेमीफाइनल में, सुहास, कृष्णा और तरुण की भी जीत

शटलर प्रमोद भगत ने टोक्यो पैरालंपिक के सेमीफाइनल में जगह बना ली है. (Instagram)

शटलर प्रमोद भगत ने टोक्यो पैरालंपिक के सेमीफाइनल में जगह बना ली है. (Instagram)

वर्ल्ड चैंपियन शटलर प्रमोद भगत (Pramod Bhagat) ने यूक्रेन के चिरकोव को 26 मिनट में 21-12, 21-9 को हराया और अपने ग्रुप में शीर्ष पर रहते हुए टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) के एसएल3 वर्ग के अंतिम-4 में जगह बनाई. अन्य भारतीयों सुहास यथिराज, तरुण ढिल्लों और कृष्ण नागर ने पुरुष एकल में जीत से शुरुआत की और अगले राउंड में जगह बना ली.

अधिक पढ़ें ...

    टोक्यो. दुनिया के नंबर-1 पैरा-शटलर प्रमोद भगत (Pramod Bhagat) ने गुरुवार को टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) की पुरुष एकल स्पर्धा के ग्रुप-ए के अपने दूसरे मैच में यूक्रेन के ओलेक्सांद्रे चिरकोव को हराकर सेमीफाइनल में जगह बना ली. देश के अन्य बैडमिंटन खिलाड़ियों ने भी उम्मीद के मुताबिक अच्छा प्रदर्शन किया. सुहास यथिराज, तरुण ढिल्लों और कृष्ण नागर ने पुरुष एकल में अपने अभियान की शुरुआत जीत के साथ की.

    गत विश्व चैंपियन 33 साल के भगत ने चिरकोव को 26 मिनट में 21-12, 21-9 से हराया और अपने ग्रुप में शीर्ष पर रहते हुए एसएल3 वर्ग के अंतिम-4 में जगह बनाई. भगत ने कहा, ‘आज मैं लय में था और काफी अच्छा खेला. चिरकोव अच्छे खिलाड़ी हैं और मैच में उन्होंने कुछ अच्छे शॉट खेले. मुझे बेहद खुशी है कि मैं सेमीफाइनल में पहुंच गया हूं. नॉकआउट शुरू होने के साथ अब यहां से चीजें मुश्किल होंगी. मेरा ध्यान एक बार में एक मैच पर है और मिश्रित युगल के अंतिम लीग मैच पर भी जो हमारे लिए करो या मरो का मुकाबला होगा.’

    इसे भी पढ़ें, गौतमबुद्ध नगर के डीएम सुहास का टोक्यो पैरालिंपिक बैडमिंटन में जीत से आगाज

    भगत और पलक कोहली शुक्रवार को मिश्रित युगल के एसएल3-एसयू5 वर्ग में शुक्रवार को सिरिपोंग तेमारोम और निपादा सेनसुपा से भिड़ेंगे.  वहीं, सुहास और तरुण ने एसएल4 वर्ग में क्रमश: जर्मनी के येन निकलास पोट और थाईलैंड के सिरीपोंग तेमारोम के खिलाफ आसान जीत दर्ज की जबकि दूसरे वरीय नागर ने एसएच6 वर्ग में मलेशिया के तारेशॉ दिदिन को हराया. युवा पलक ने ग्रुप ए में महिला एकल के अपने दूसरे मैच में तुर्की की जेहरा बगलार को शिकस्त दी.

    पुरुष एकल के ग्रुप ए के एकतरफा मुकाबले में 38 साल के सुहास ने सिर्फ 19 मिनट में पोट को 21-9, 21-3 से हराया. ग्रुप बी में 27 साल के तरूण को भी अधिक पसीना नहीं बहाना पड़ा और वह तेमारोम को सिर्फ 23 मिनट में 21-7, 21-13 से हराने में सफल रहे. नागर ने ग्रुप बी में कड़े मुकाबले में दिदिन को 33 मिनट में 22-20 21-10 से हराया. अगले मुकाबले में सुहास का सामना शुक्रवार को इंडोनेशिया के हैरी सुसांतो और फिर फ्रांस के शीर्ष वरीय लुकास माजुर से होगा जबकि तरूण को कोरिया के शिन क्युंग ह्वान और इंडोनेशिया के फ्रेडी सेतियावान से भिड़ना है.

    22 साल के नागर शुक्रवार को ब्राजील के विटोर गोंजालवेज तवारेज से भिड़ेंगे. सुहास के एक टखने में समस्या है. उन्होंने उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले के जिला मजिस्ट्रेट के रूप में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अहम भूमिका निभाई है. दूसरी तरफ, तरुण को आठ साल की उम्र में फुटबॉल खेलते हुए घुटने में गंभीर चोट लगी थी जिससे उनके घुटने की मूवमेंट प्रभावित हुई. वह अभी दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी और दो बार के पूर्व विश्व चैंपियन हैं.

    इसे भी पढ़ें, अवनि लेखरा मिश्रित प्रोन इवेंट के क्वालीफिकेशन से बाहर, 2 दिन पहले जीता था गोल्‍ड

    नागर की लंबाई सामान्य से कम है और वह एसएच6 वर्ग में दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी हैं. उन्होंने 2019 विश्व चैंपियनशिप में एकल और युगल में क्रमश: कांस्य और रजत पदक जीते थे. महिला एकल एसयू5 वर्ग में पलक ने जेहरा को 27 मिनट में 21-12 21-18 से हराया. भारतीय खिलाड़ी को अपने पहले मुकाबले में जापान की अयाको सुजूकी के खिलाफ शिकस्त झेलनी पड़ी थी.

    इससे पहले सुबह के सत्र में 19 साल की पलक और पारूल परमार की जोड़ी को एसएल3-एसयू5 वर्ग के ग्रुप बी के महिला युगल मुकाबले में चेंग हेफांग और मा हुईहुई की चीन की दूसरी वरीय जोड़ी के खिलाफ 7-21 5-21 से हार का सामना करना पड़ा. भारतीय जोड़ी का सामना शुक्रवार को लेनेग मोरिन और फॉस्टीन नोएल की फ्रांस की जोड़ी से होगा. एसएल3 वर्ग में चुनौती पेश करने वाली 48 साल की पारूल महिला एकल के ग्रुप डी में चीन की चेंग हेफांग को कोई चुनौती नहीं दे पाई और 18 मिनट में 8-21 2-21 से हार गई. उन्हें आज ही जर्मनी की कैटरिन सीबर्ट का सामना करना है.

    सुहास ने कहा कि वह शुक्रवार को शीर्ष वरीय और खिताब के प्रबल दावेदार माजुर के खिलाफ मुकाबले को लेकर उत्साहित हैं. उन्होंने कहा, ‘हम दोनों इस मुकाबले को लेकर उत्साहित हैं. पैरालंपिक से पहले टूर्नामेंटों के हमारे बीच कड़ी टक्कर रही थी और मैंने उसके खिलाफ कुछ मुकाबले गंवाए और कुछ में जीत दर्ज की. यह अच्छी चुनौती होगी.’ सुहास ने कहा, ‘उनकी लंबाई के कारण कुछ शॉट ऐसे होते हैं जिसके आप आदी नहीं हैं लेकिन मैंने विशेष तौर पर इसकी ट्रेनिंग की है. मुझे यकीन है कि उसने भी मुझे ध्यान में रखते हुए ट्रेनिंग की होगी.’

    उन्होंने कहा, ‘मेरे कोच कुर्सी पर बैठ जाते थे. मुझे मूवमेंट करनी होती थी. मेरे कोच पहले एक जगह और फिर दूरी जगह शटल फेंकते थे. वास्तविक मैच अलग होता है लेकिन आप उपलब्ध चीजों के साथ ही सर्वश्रेष्ठ तैयारी कर सकते हो.’ बैडमिंटन इस साल पैरालंपिक में पदार्पण कर रहा है.

    Tags: Badminton, Indian para athletes, Indian para badminton player, Indian Paralympics, Sports news, Tokyo Paralympics, Tokyo Paralympics 2020

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर