होम /न्यूज /खेल /

टोक्यो ओलंपिक के बाद विनेश फोगाट नहीं खेलना चाहती थी कुश्ती, PM मोदी ने बदला मन

टोक्यो ओलंपिक के बाद विनेश फोगाट नहीं खेलना चाहती थी कुश्ती, PM मोदी ने बदला मन

विनेश फोगाट ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में गोल्ड मेडल जीता है. (AP)

विनेश फोगाट ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में गोल्ड मेडल जीता है. (AP)

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में गोल्ड मेडल जीतने वाली विनेश फोगाट का कहना है कि टोक्यो ओलंपिक के बाद वग कुश्ती छोड़ना चाहती थी. हालांकि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के बाद उनका मन बदल गया है. जानिए पूरी कहानी...

नई दिल्ली. विनेश फोगाट ने शनिवार को कहा कि टोक्यो में ओलंपिक में लगातार दूसरी बार मेडल से चूकने के बाद उन्होंने लगभग कुश्ती छोड़ने का मन बना ही लिया था लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की बातचीत ने उन्हें खेल में जारी रहने के लिए प्रेरित किया. 2016 रियो ओलंपिक में क्वार्टर फाइनल में घुटने की चोट से उनकी पदक की उम्मीद टूट गई लेकिन टोक्यो में वह अंतिम आठ चरण में बाहर हो गयीं. बता दें कि वह अपने वजन वर्ग में दुनिया की नंबर पहलवान के तौर पर उतरी थीं.

विनेश ने स्वीकार किया कि इन दो निराशाओं ने उन्हें कुश्ती छोड़ने की कगार पर पहुंचा दिया था लेकिन उन्होंने फिर वापसी करते हुए हाल में समाप्त हुए बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीता. इस स्टार पहलवान ने कहा, ‘‘निश्चित रूप से, आप कह सकते हैं (विनेश 2.0 रिलोडिड). मैं मानसिक रूप से बहुत बड़े ‘बैरियर’ को पार करने में सफल हुई हूं. मैंने लगभग कुश्ती छोड़ ही दी थी क्योंकि दो ओलंपिक में मैं एक पदक नहीं जीत सकी थी. ओलंपिक किसी भी खिलाड़ी के लिए बड़ा मंच होता है। लेकिन मेरे परिवार ने हमेशा मेरा समर्थन किया, उन्हें हमेशा मेरी काबिलियत पर भरोसा रहा.’’

उन्होंने कहा, ‘‘जब मैं निराश थी तो मैं मोदी जी (नरेंद्र मोदी) से मिली थी और उन्होंने मुझे प्रेरित किया. उन्होंने कहा कि हमें आप पर भरोसा है और आप कर सकती हो. इससे मेरे अंदर जज्बा फिर से जाग गया.’’

Tags: Commonwealth Games, PM Modi, Tokyo olympic, Vinesh phogat

अगली ख़बर