Home /News /sports /

vishwanathan anand wons world chess championship india independence 75 years sports pride know full details

Azadi Ka Amrit Mahotsav: भारतीय चेस को दिया नया मुकाम, पहले ग्रैंड मास्टर....पहले वर्ल्ड चैंपियन विश्वनाथन आनंद

विश्वनाथन आनंद ने 5 बार वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप खिताब अपने नाम किया. (PTI)

विश्वनाथन आनंद ने 5 बार वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप खिताब अपने नाम किया. (PTI)

75 years of independence India's Sports Pride Viswanathan Anand: आजादी के पिछले सात दशक में भारतीय खिलाड़ियों ने विश्व पटल पर अपनी छाप छोड़ी है. भारतीय ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद ने एक या दो नहीं बल्कि पांच बार वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप का खिताब जीतकर भारतीय तिरंगे का मान बढ़ाया है. आनंद ने 'शह' और 'मात' के इस खेल में अपनी बादशाहत कायम की है. 52 वर्षीय आनंद वर्तमान में फिडे के उपाध्यक्ष हैं. भारत ने हाल में 44वें ओलंपियाड का सफल आयोजन किया.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

विश्वनाथन आनंद ने 5 बार वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप का खिताब जीता है
भारत में आजादी के 75 साल के उपलक्ष्य में अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है
आजादी के बाद भारतीय खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तिरंगे का मान बढ़ाया है

नई दिल्ली. देश को आजाद हुए 75 साल हो गए. इसके उपलक्ष्य में भारत में आजादी का अमृत महोत्सव (Azadi Ka Amrit Mahotsav) मनाया जा रहा है. साल 1947 से लेकर 2022 तक भारत ने सभी क्षेत्रों में तरक्की की. खेल भी इससे अछूता नहीं है. पिछले सात दशकों में विश्वनाथन आनंद (Viswanathan Anand) ने उस खेल में भारत को आगे बढ़ाया है, जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी. भारत ने हाल में पहली बार शतरंज ओलंपियाड (Chess Olympiad) का सफल आयोजन किया. आनंद ने ‘शह’ और ‘मात’ यानी शतरंज की दुनिया में भारत को कई बार गौरवान्वित किया है.

साल 2000 में विश्वनाथन आनंद ने इस खेल में इतिहास रचा था. भारतीय ग्रैंड मास्टर ने 24 दिसंबर 2000 को शतंरज की दुनिया में विश्व चैंपियन (World Chess Championship)  बनने का गौरव हासिल किया. उन्होंने दिग्गजों को हराकर यह जता दिया कि इस खेल में आने वाला समय हिंदुस्तानियों का है. इस उपलब्धि को हासिल करने वाले आनंद पहले भारतीय हैं.

यह भी पढ़ें:Chess Olympiad 2022: बेहद दुखद है 36 वर्षीय ग्रैंडमास्टर की कहानी, गोल्ड जितने के बाद बताई यूक्रेन में मची तबाही की कहानी

विराट कोहली हुए Commonwealth Games पदकवीरों के मुरीद, फोटो शेयर कर खास अंदाज में दी बधाई

साल 2000 के बाद विश्वनाथन आनंद इस खेल में चार बार वर्ल्ड चैंपियन बने. कुल मिलाकर भारत ने लगातार इस खेल में अपना वर्चस्व बनाए रखा है. जब विश्वनाथन आनंद ने इस खेल में इंटरनेशनल स्तर पर कदम रखा, उस समय रूस और यूरोपियन खिलाड़ियों बादशाहत थी. सबसे पहले आनंद ने जूनियर वर्ल्ड कप जीतकर विश्व शतरंज पटल पर अपने आने की घोषणा कर दी थी. आनंद साल 1987 में यह खिताब हासिल करने वाले पहले एशियाई खिलाड़ी बने. इसके साथ ही देश का पहला ग्रैंडमास्टर बनने का गौरव भी हासिल किया.

विश्वनाथन आनंद 24 महीने तक रहे नंबर वन
पांच बार के वर्ल्ड चैंपियन विश्वनाथन आनंद इतिहास के उन 9 खिलाड़ियों में से एक हैं, जिन्होंने फीडे विश्व चेस चैंपियनशिप (FIDE Chess Championship) में पुराने रिकॉर्ड्स को तोड़ते हुए 21 महीनों तक वर्ल्ड के नंबर 1 कुर्सी पर विराजमान रहे. तमिलनाडु में जन्मे 52 वर्षीय विश्वनाथन आनंद दुनिया के चौथे खिलाड़ी हैं जिन्होंने चेस रेटिंग सिस्टम ईएलओ में 2800 का अंक पार किया है. इस लिस्ट में आनंद के अलावा गैरी कास्परोव, व्लादिमीर क्रैमनिक और वेसेलिन तापोलोव यह कारनामा कर चुके हैं.

विश्वनाथन आनंद 6 बार जीत चुके हैं शतरंज ऑस्कर
राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित विश्वनाथन आनंद ने छह बार शतरंज ‘ऑस्कर’ अपने नाम किया है. उन्होंने 1997, 1998, 2003, 2004, 2007 और 2008 में इसे अपने नाम किया. वर्तमान में आनंद अंतरराष्ट्रीय शतरंज महासंघ (FIDE) के उपाध्यक्ष हैं. आनंद को शतरंज विरासत में मिला है. उनमी मां पहले शतरंज खेला करती थीं लेकिन किन्हीं कारणों से वह आगे नहीं बढ़ पाईं.

पहली बार भारत में हुआ शतरंज ओलंपियाड का आयोजन
आजादी के बाद देश में पहली बार शतरंज ओलंपियाड का आयोजन हुआ. आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर भारत ने इस खेल का सफल आयोजन किया और पदक भी अपने नाम किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने 19 जून को नई दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में पांच बार के विश्व चैंपियन विश्वनाथन आनंद को मशाल सौंपकर ओलंपियाड के पहले मशाल रिले का उद्घाटन किया था. ओलंपिक खेलों के बाद शतरंज ओलंपियाड विश्व का सबसे बड़ा खेल आयोजन है. चेन्नई महाबलीपुरम (तमिलनाडु) में आयोजित इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में 188 से ज्यादा देश के एथलीटों को एक छत के नीचे अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिला.

Tags: Azadi Ka Amrit Mahotsav, Chess, Chess Olympiad, Viswanathan Anand, World Chess Championship

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर