ओलंपिक में उतरने वाले पहलवान 3 देशों में करेंगे ट्रेनिंग, साई में कड़े नियम के कारण कैंप टला

बजरंग पूनिया भी यूरोप के दौरे पर जाएंगे. (Bajrang Punia Instagram)

बजरंग पूनिया भी यूरोप के दौरे पर जाएंगे. (Bajrang Punia Instagram)

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympic) के लिए 8 भारतीय पहलवानों ने क्वालिफाई किया है. ये सभी खिलाड़ी कैंप के लिए मई के अंतिम सप्ताह में पोलैंड, तुर्की और हंगरी जाएंगे. इसका उद्देश्य तैयारी को पुख्ता करना है. वे इस दौरान इंटरनेशनल इवेंट में भी उतरेंगे.

  • Share this:

नई दिल्ली. ओलंपिक (Tokyo Olympic) के लिए क्वालिफाई कर चुके 8 भारतीय पहलवानों के लिए सोनीपत में प्रस्तावित शिविर को कड़े क्वारेंटाइन नियमों के कारण रद्द कर दिया गया है. इस बीच राष्ट्रीय महासंघ ने खिलाड़ियों के लिए यूरोप के शहरों में प्रशिक्षण का इंतजाम किया है, जहां वे अपने पंसद के जोड़ीदार के साथ अभ्यास करेंगे. पुरुष और महिला पहलवानों को मंगलवार को बहलगढ़ स्थिल साई (SAI) केंद्र में इकट्ठा होना था.

भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) द्वारा तैयार की गई नई योजना के मुताबिक ये सभी मई के आखिरी सप्ताह में वारसॉ (पोलैंड) रवाना होंगे. पोलैंड की राजधानी में 8 से 13 जून तक टोक्यो खेलों से पहले रैंकिंग सीरीज की आखिरी प्रतियोगिता का आयोजन होगा. पहलवानों के पास कुछ अहम रैंकिंग अंक अर्जित करने का मौका होगा, जिससे उन्हें ओलंपिक में बेहतर ड्राॅ प्राप्त करने में मदद मिलेगी.

हर खिलाड़ी एक साथी को ले जा सकेगा

डब्ल्यूएफआई के सहायक सचिव विनोद तोमर ने कहा, ‘हमने बहलगढ़ में एक शिविर की योजना बनाई थी, लेकिन उन्हें क्वारेंटाइन के दौरान 14 दिनों तक प्रशिक्षण की अनुमति नहीं थी. इसलिए हमने सोचा कि बेहतर होगा कि वे अपने-अपने अखाड़ों में अभ्यास करें और फिर पोलैंड की यात्रा करें.’ उन्होंने कहा कि हम सभी पहलवानों को अभ्यास के लिए उनकी पसंद के एक साथी के साथ यात्रा करने की अनुमति भी दे रहे हैं. विनेश फोगट, बजरंग पुनिया, रवि दहिया और दीपक पुनिया जैसे कुछ लोगों के साथ उनके निजी कोच भी होंगे.’
कैंप के अलावा इवेंट में भी उतरेंगे

डब्ल्यूएफआई ने पोलैंड के कुश्ती संघ से भारतीय पहलवानों को अगले महीने वारसॉ में होने वाले टूर्नामेंट से पहले प्रशिक्षण शिविर के लिए उनकी सुविधाओं का उपयोग करने की अनुमति मांगी है. टूर्नामेंट खत्म होने के बाद भारतीय पहलवान एक और प्रशिक्षण शिविर के लिए वारसॉ में रहेंगे, जिसका आयोजन पोलैंड के संघ द्वारा किया जा रहा है. वारसॉ के बाद भारतीय दल अभ्यास शिविर के लिए हंगरी और फिर तुर्की जाएगा. तुर्की में वे यासर डोगु प्रतियोगिता (25 से 27 जून) में भाग लेने के बाद जुलाई में भारत वापस लौटेंगे. विनेश पहले से ही हंगरी के अपने कोच वोलेर अकोस के साथ हैं. वे वहां से सीधे पोलैंड पहुंचेंगी.

सोनम और सुमित चोट से उबर रहे



यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या युवा पहलवान सोनम मलिक (62 किग्रा) और सुमित मलिक (125 किग्रा) करीब 40 दिनों की यात्रा का हिस्सा होंगे या नहीं. ये दोनों घुटने की चोट से उबर रहे हैं. तोमर ने कहा, ‘यात्रा के सारे इंतजाम करने में करीब 10 दिन और लगेंगे. इसलिए उम्मीद है कि वे चोटों से उबर कर इसका हिस्सा बन सकेंगे. इस बार ओलंपिक में पहलवानों से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज