ऋद्धिमान साहा ने IPL 2021 के बायो बबल पर उठाए सवाल, टूर्नामेंट में हो गए थे कोरोना संक्रमित

ऋद्धिमान साहा कोरोना को मात दे चुके हैं

ऋद्धिमान साहा कोरोना को मात दे चुके हैं

ऋद्धिमान साहा (wriddhiman saha) इस तरह नियंत्रित माहौल की कड़ाई पर सर्वाजनिक रूप से सवाल उठाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी हैं. साहा उन खिलाड़ियों में शामिल थे जो कोविड-19 संक्रमण का शिकार हुए.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा (wriddhiman saha) ने संकेत दिए हैं कि आईपीएल 14 के लिए तैयार किया गया जैविक रूप से सुरक्षित माहौल पिछले साल यूएई की तुलना में उतना अधिक अभेद्य नहीं था. साहा इस तरह नियंत्रित माहौल की कड़ाई पर सर्वाजनिक रूप से सवाल उठाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने हैं. साहा उन खिलाड़ियों में शामिल थे जो कोविड-19 संक्रमण का शिकार हुए. जैविक रूप से सुरक्षित माहौल का हिस्सा रहे खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ के बीच संक्रमण के कई मामले आने के बाद लीग के 14वें सत्र को बीच में ही निलंबित कर दिया गया था.

पीटीआई को दिए इंटरव्यू में साहा ने भारत में जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में संक्रमण के मामले आने पर बात की और कहा कि अगर आईपीएल पिछले साल की तरह यूएई में होता तो बेहतर रहता. साहा ने कहा कि इसका आकलन करना हितधारकों का काम है लेकिन मैं सिर्फ इतना कहूंगा कि पिछले साल यूएई में हमारी ट्रेनिंग के दौरान कोई व्यक्ति मौजूद नहीं था, मैदानकर्मी भी नहीं.

नहीं करना चाहते अधिक टिप्‍पणी 

उन्होंने कहा कि यहां लोग मौजूद रहते थे, बच्चे पास की दीवारों से झांक रहे होते थे. मैं अधिक टिप्पणी नहीं करना चाहता, लेकिन हमने देखा कि 2020 में यूएई में आईपीएल कितने आराम से हो गया और फिर इस साल भारत में शुरू हुआ जब मामले बढ़ रहे थे. बंगाल का यह अनुभवी क्रिकेटर दिल्ली के होटल में 14 दिन क्‍वारंटीन में बिताने के बाद कोलकाता में अपने घर पहुंचा और इंग्लैंड के आगामी दौरे की टीम में चयन के लिए खुद को उपलब्ध किया.
जैविक रूप से सुरक्षित माहौल पर साहा ने कहा कि मुझे नहीं पता कि क्या हुआ होगा, लेकिन निश्चित तौर पर मुझे लगता है कि इस बार भी अगर यह यूएई में होता तो बेहतर रहता. इसके बारे में सभी हितधारकों को सोचना है. साहा चार मई को कोविड-19 पॉजीटिव पाए गए थे और उसी दिन आईपीएल 2021 को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया था.

यह भी पढ़ें: 

प्रसिद्ध कृष्णा ने कोरोना को दी मात, 23 मई को टीम इंडिया से जुड़ेंगे



पैसों की तंगी के चलते ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज बना कारपेंटर, देश के लिए जीत चुका है विश्व कप

कोई कमजोरी महसूस नहीं कर रहे हैं 

इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा कि वह अब पूरी तरह उबर गया है और कोई कमजोर महसूस नहीं कर रहा. उन्होंने कहा कि मैं सामान्य काम कर रहा हूं, कोई थकान, बदन दर्द या किसी तरह की कमजोरी नहीं है, लेकिन जब मैं मैच ट्रेनिंग करूंगा, तभी मुझे पता चलेगा कि मेरा शरीर कसी प्रतिक्रिया दे रहा है. वायरस के साथ अपनी जंग पर साहा ने कहा कि शुरुआती कुछ दिनों में कुछ हल्का बुखार था, पांच दिन के बाद मुझे किसी चीज की महक नहीं आ रही थी, लेकिन चार दिन बाद महसूस होने लगा. उन्होंने कि फिलहाल में घर में नियमित फिटनेस गतिविधियां कर रहा हूं, लेकिन असल फिटनेस ट्रेनिंग मुंबई में टीम के साथ जुड़ने के बाद शुरू होगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज