Home /News /sports /

Year Ender 2021: ओलंपिक में 121 साल का सूखा खत्म, पैरालंपिक में भी लहराया भारत का परचम

Year Ender 2021: ओलंपिक में 121 साल का सूखा खत्म, पैरालंपिक में भी लहराया भारत का परचम

Year Ender 2021: भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक यादगार रहे. भारत ने ट्रैक एंड फील्ड इवेंट में 121 साल के पदक के सूखे को खत्म किया. साथ ही पैरालंपिक खेलों में अब तक सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. (AP)

Year Ender 2021: भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक यादगार रहे. भारत ने ट्रैक एंड फील्ड इवेंट में 121 साल के पदक के सूखे को खत्म किया. साथ ही पैरालंपिक खेलों में अब तक सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. (AP)

Year Ender 2021: कोरोना के कारण ओलंपिक 1 साल बाद हुए. लेकिन 140 करोड़ भारतीयों के लिए यह खेल यादगार बन गए. भारत ने ट्रैक एंड फील्ड इवेंट में 121 साल में पहला मेडल जीता. नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने जैवलिन थ्रो में गोल्ड मेडल जीतकर यह सपना सच कर दिखाया. हॉकी में भी 41 साल के मेडल का सूखा खत्म हुआ. भारत ने 1980 के बाद पहली बार कोई पदक जीता. वहीं, पीवी सिंधु (PV Sindhu) भी इतिहास रचने में सफल रहीं. पैरालंपिक में भी भारतीय खिलाड़ियों ने देश का परचम बुलंद किया और पहली बार भारत ने इन खेलों में सबसे ज्यादा पदक जीते.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. कोरोना के कारण 2020 के ओलंपिक 2021 (Tokyo Olympics) में हुए. लेकिन एक साल की देरी कम से कम भारत के लिहाज से, तो फायदेमंद रही. क्योंकि टोक्यो ओलंपिक में भारत ने ट्रैक एंड फील्ड इवेंट में 121 साल का सूखा खत्म हुआ. भारत ने 1900 में हुए दूसरे ओलिंपिक में पहली बार शिरकत की थी. तब से टोक्यो गेम्स तक कोई भारतीय एथलेटिक्स के किसी इवेंट में मेडल नहीं जीत पाया था. 1900 के ओलंपिक में ब्रिटिश इंडिया की तरफ से हिस्सा लेते हुए स्प्रिंटर नॉर्मन प्रिचार्ड (Norman Prichard) ने दो सिल्वर मेडल जीते थे. लेकिन, प्रिचार्ड अंग्रेज थे.

    वहीं, बैडमिंटन कोर्ट पर भी पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने इतिहास रचा. सिंधु ओलंपिक में दो पदक जीतने वालीं भारत की पहली महिला खिलाड़ी बनीं. उनसे पहले सुशील कुमार (Sushil Kumar) ने कुश्ती में 2008 के बीजिंग ओलंपिक (2008 Beijing Olympics) और 2012 के लंदन ओलंपिक में 2 मेडल जीते थे.

    भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक सबसे सफल रहे. भारत ने इन खेलों में कुल 7 पदक अपने नाम किए. भारत 1900 से ओलंपिक गेम्स में हिस्सा ले रहा है. इसके बाद से पहली बार हुआ, जब टीम ने एक ओलंपिक में सबसे ज्यादा पदक जीते. इससे पहले भारत ने 2012 के लंदन ओलंपिक में 6 पदक जीते थे.

    1900 से 2021 तक ओलंपिक में भारत के 10 स्वर्ण पदक समेत कुल 35 मेडल हैं. सबसे ज्यादा 11 पदक हॉकी में हैं. देश के लिए इंडिविजुअल गोल्ड मेडल शूटिंग में अभिनव बिंद्रा (Abhinav Bindra) और जैवलिन थ्रो में नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) के नाम है. भारत ने हॉकी में भी 8 गोल्ड मेडल जीते हैं.

    टोक्यो में भारत को पहला गोल्ड मिला
    टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारत को नीरज चोपड़ा ने सबसे पहली सफलता दिलाई. नीरज ने ओलंपिक में 13 साल बाद भारत को स्वर्ण पदक दिलाया. उनसे पहले 2008 में अभिनव बिंद्रा ने शूटिंग में व्यक्तिगत गोल्ड मेडल जीता था. यही नहीं, टोक्यो में 121 साल में पहली बार भारत को ट्रैक एंड फील्ड में स्वर्ण पदक हासिल हुआ.

    भारत को टोक्यो ओलंपिक में पहला पदक वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने दिलाया. उन्होंने वेटलिफ्टिंग में देश के लिए रजत पदक जीता. इसके बाद पीवी सिंधु ने इतिहास रचा. उन्होंने महिला सिंगल्स में भारत को कांस्य पदक दिलाया. इसी के साथ सिंधु ओलंपिक में दो पदक जीतने वाली दूसरी भारतीय खिलाड़ी बनीं. इससे पहले सुशील कुमार ने कुश्ती में दो पदक मिले थे.

    हॉकी में भी 41 साल का सूखा खत्म
    टोक्यो ओलंपिक भारतीय हॉकी के लिए यादगार रहा. भारतीय मेंस हॉकी टीम ने कांस्य पदक अपने नाम किया. भारत ने 41 साल बाद ओलंपिक में मेडल जीता. इससे पहले भारत ने 1980 के मॉस्को ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता था. टोक्यो में भारत की महिला हॉकी टीम ने भी शानदार खेल दिखाया और पहली बार ओलंपिक में चौथे स्थान पर रही.

    बॉक्सिंग में भी ब्रॉन्ज मेडल जीता
    पहली बार ओलंपिक में हिस्सा ले रही लवलीना बोरगोहेन को 69 किलोग्राम वेट कैटेगरी के सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा. हालांकि, वे ब्रॉन्ज मेडल नहीं जीत पाईं. उन्होंने भारत की झोली में कांस्य पदक तो डाला ही. अगर वे सेमीफाइनल मुकाबला जीत जीतीं तो पहली बार कोई भारतीय बॉक्सर ओलंपिक में गोल्ड या सिल्वर मेडल की दावेदारी पेश करता.

    Year Ender 2021: भारतीय कुश्ती में एक नायक का पतन, ओलंपिक सफलता और नए नायकों का उदय

    कुश्ती में भारत को 2 मेडल जीते
    कुश्ती में रवि कुमार दहिया ने सिल्वर मेडल जीतकर भारत की झोली में एक और पदक डाला. उनके अलावा बजरंग पूनिया ने कांस्य पदक जीतकर कुश्ती में भारत का झंडा बुलंद किया. इस तरह भारत ने 8 साल बाद कुश्ती में दो पदक जीते. इससे पहले 2012 के लंदन ओलंपिक में सुशील कुमार और योगेश्वर दत्त ने भारत के लिए दो मेडल जीते थे.

    टोक्यो पैरालंपिक में भी लहराया भारत का परचम
    टोक्यो ओलंपिक के बाद पैरालंपिक में भी भारतीय एथलीट्स ने देश का नाम रोशन किया. इन खेलों में भारतीय खिलाड़ियों ने अब तक सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 5 गोल्ड, 8 रजत और 6 कांस्य पदक मिलाकर कुल 19 पदक जीते और पदक तालिका में भारत 24वें स्थान पर रहा. इससे पहले भारत ने रियो पैरालंपिक में सबसे बेहतर प्रदर्शन किया था. तब भारत ने 2 गोल्ड समेत 4 पदक जीते थे.

    Tags: Bajrang poonia, Indian Hockey Team, Neeraj Chopra, PV Sindhu Tokyo 2020, Tokyo Olympics 2020, Tokyo Olympics 2021, Tokyo Paralympics 2020, Year Ender 2021

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर