Home /News /sports /

Tokyo Paralympics: योगेश कथूनिया ने सिल्वर मेडल जीत रचा इतिहास, भारत को टोक्यो पैरालंपिक में मिला 5वां पदक

Tokyo Paralympics: योगेश कथूनिया ने सिल्वर मेडल जीत रचा इतिहास, भारत को टोक्यो पैरालंपिक में मिला 5वां पदक

योगेश कथूनिया पैरालंपिक खेलों में चक्का फेंक (डिस्कस थ्रो) में सिल्वर जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी हैं.

योगेश कथूनिया पैरालंपिक खेलों में चक्का फेंक (डिस्कस थ्रो) में सिल्वर जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी हैं.

Tokyo Paralympics: भारत के योगेश कथूनिया (Yogesh Kathuniya) ने टोक्यो पैरालंपिक में सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है. 8 साल की उम्र में लकवाग्रस्त होने वाले योगेश ने अंतिम प्रयास में 44.38 मीटर चक्का फेंककर दूसरा स्थान हासिल किया.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारत के योगेश कथूनिया (Yogesh Kathuniya) ने पैरालंपिक खेलों (Tokyo Paralympics) में पुरुषों की चक्का फेंक स्पर्धा के एफ56 वर्ग में इस सीजन का अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए सिल्वर मेडल जीता. आठ साल की उम्र में लकवाग्रस्त होने वाले योगेश ने अपने छठे और अंतिम प्रयास में 44.38 मीटर चक्का फेंककर दूसरा स्थान हासिल किया. ब्राजील के बतिस्ता डोस सांतोस ने 45.59 मीटर के साथ स्वर्ण जबकि क्यूबा के लियानार्डो डियाज अलडाना (43.36 मीटर) ने कांस्य पदक जीता. योगेश पैरालंपिक खेलों में चक्का फेंक (डिस्कस थ्रो) में सिल्वर जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी हैं.

    विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता योगेश ने टोक्यो में अपने इवेंट की शुरुआत की. उनका पहला, तीसरा और चौथा प्रयास विफल रहा जबकि दूसरे और पांचवें प्रयास में उन्होंने क्रमश: 42.84 और 43.55 मीटर चक्का फेंका था.

    कथूनिया ने विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2019 में 42.51 मीटर चक्का फेंककर पैरालंपिक के लिये क्वालीफाई किया था. जब वह किरोड़ीमल कॉलेज में थे तब कई प्रशिक्षकों ने उनकी प्रतिभा पहचानी. इसके बाद जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में सत्यपाल सिंह ने उनके कौशल को निखारा. बाद में उन्हें कोच नवल सिंह ने कोचिंग दी. कथूनिया ने 2018 में बर्लिन में पैरा एथलेटिक्स ग्रां प्री के रूप में पहली अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में हिस्सा लिया और विश्व रिकॉर्ड बनाया था.

    भारत का यह टोक्यो पैरालंपिक खेलों में तीसरा रजत पदक है. रविवार को महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल और ऊंची कूद के एथलीट निषाद कुमार ने रजत पदक जीते जबकि विनोद कुमार का चक्का फेंक की एफ52 स्पर्धा में कांस्य पदक अपने नाम किया.

    Tokyo Paralympics: अवनि लेखरा ने गोल्ड जीत रचा इतिहास, पैरालंपिक खेलों में रिकॉर्ड भी बनाया

    Tokyo Paralympics: जेवलिन थ्रो में देवेंद्र झाझरिया ने सिल्वर और सुंदर सिंह ने ब्रॉन्ज मेडल जीता

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रजत पदक जीतने पर योगेश कथूनिया को बधाई दी और कहा कि उनकी शानदार सफलता से उभरते खिलाड़ियों को प्रेरणा मिलेगी. मोदी ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘योगेश कथूनिया का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा. उनके रजत पदक जीतने से बेहद खुशी हुई है. उनकी शानदार सफलता उभरते खिलाड़ियों को प्रेरित करेगी. उन्हें बधाइयां. भविष्य के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं.’’

    Tags: Paralympics 2020, Sports news, Tokyo Paralympics, Tokyo Paralympics 2020

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर