Olympics Countdown Days 148 Days: जब एक घंटे में तीन पहलवानों को चित कर योगेश्वर दत्त ने जीता कांस्य

Olympics Countdown Days 148 Days: जब एक घंटे में तीन पहलवानों को चित कर योगेश्वर दत्त ने जीता कांस्य
योगेश्वर दत्त ने लंदन ओलिंपिक्स में जीता था कांस्य

योगेश्वर दत्त (Yogeshwar Dutt) ने लंदन ओलिंपिक्स (London Olympics) में 60 किलो फ्रीस्टाइल रेसलिंग में ब्रॉन्ज मेडलकर जीता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2020, 8:09 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. प्री क्वार्टर फाइनल में हार और इसके बावजूद लंदन ओलिंपिक्स (London Olympics) में जीता ब्रॉन्ज मेडल. कुछ ऐसी कहानी है योगेश्वर दत्त (Yogeshwar Dutt) की जिन्होंने साल 2012 में लंदन ओलिंपिक्स के दौरान हारी हुई बाजी जीत ली थी. योगेश्वर दत्त ने रैपचेज राउंड में तीन पहलवानों को मात देकर ओलिंपिक्स कांस्य जीता था. योगेश्वर दत्त ने ब्रॉन्ज मेडल मैच में नॉर्थ कोरिया के पहलवान रि जोंग म्योंग को मात देकर इस कारनामे को अंजाम दिया.

ऐसे जीता योगेश्वर ने ब्रॉन्ज मेडल
शानदार तकनीक और जबर्दस्त स्टैमिना ये वो दो चीज थी जिसने योगेश्वर (Yogeshwar) को ओलंपिक मेडल दिलाया. रैपचेज के अपने ब्रॉन्ज मेडल मैच में योगेश्वर की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी और वो पहले गेम में रि जोंग म्योंग से पहला अंक गंवा बैठे. हालांकि उन्होंने दूसरे गेम में वापसी करते हुए स्कोर बराबर कर लिया. आखिरी राउंडर में योगेश्वर दत्त ने कमाल का प्रदर्शन करते हुए 6 तकनीकी अंक हासिल किये और वो ब्रॉन्ज मेडल जीतने में कामयाब रहे.

किस्मत ने दिया योगेश्वर का साथ



योगेश्वर दत्त को उनकी मेहनत के साथ-साथ किस्मत का साथ भी मिला. तीसरी बार ओलिंपिक में खेल रहे भारतीय पहलवान ने जबर्दस्त शुरुआत करते हुए पहले मैच में बुल्गारिया के पहलवान एनोतोली को हराकर प्री क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई. इसके बाद उन्हें दूसरे ही दौर में रूसी पहलवान बेसिक कुदुकोव से हार झेलनी पड़ी. इसके बाद योगेश्वर को किस्मत का साथ मिला क्योंकि योगेश्वर को हराने वाले रूसी पहलवान कुदुकोव फाइनल में पहुंच गए जिससे उन्हें रैपचेज में खेलने का अवसर मिल गया.



अब रैपचेज राउंड में योगेश्वर दत्त को ब्रॉन्ज मेडल जीतने के लिए लगातार तीन मैच जीतने थे. रैपचेज के पहले राउंड में योगेश्वर ने प्यूर्तो रिको के पहलवान मातोज फ्रैंकलिन को आसानी से 3-0 से मात दी. अगले मुकाबले में योगेश्वर ने ईरान के पहलवान मसूद इस्माइलपूरजोबरी को 3-1 से हरा फाइनल में जगह बनाई. योगेश्वर ने तीसरे मुकाबले में भी जबर्दस्त प्रदर्शन करते हुए नॉर्थ कोरियाई पहलवान को मात देकर अपने करियर का पहला ओलिंपिक मेडल जीत लिया.

वर्ल्ड कप में कप्तान को जड़ा था थप्पड़, आचार संहिता के उल्लंघन में लगा बैन, अब फिर टीम में शामिल होगा ये ओपनर

जिस भारतीय मूल की लड़की ने मानसिक बीमारी से उबारा, ग्लेन मैक्सवेल ने उसी से की सगाई
First published: February 27, 2020, 8:09 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading