WTC फाइनल पर बोले युवराज सिंह, नुकसान की स्थिति में है भारतीय टीम

युवराज सिंह ने कहा कि WTC फाइनल तीन मैचों का मुकाबला होना चाहिए. (Instagram/Yuvraj Singh)

युवराज सिंह ने कहा कि WTC फाइनल तीन मैचों का मुकाबला होना चाहिए. (Instagram/Yuvraj Singh)

भारत और न्यूजीलैंड के बीच 18 जून से साउथम्पटन में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (WTC 2021) फाइनल खेला जाना है. युवराज सिंह ने कहा कि यह फाइनल तीन मैचों का मुकाबला होना चाहिए. उन्होंने साथ ही कहा कि अभ्यास मैच की भरपाई किसी भी तरह नहीं हो सकती.

  • Share this:

नई दिल्ली. पूर्व भारतीय धुरंधर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) का मानना है कि भारत और न्यूजीलैंड के बीच वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल तीन मैचों का मुकाबला होना चाहिए था क्योंकि मौजूदा कार्यक्रम के कारण विराट कोहली की टीम थोड़े नुकसान की स्थिति में है. गुरुवार को इंग्लैंड पहुंचने वाली भारतीय टीम 18 जून से साउथम्पटन में होने वाले टेस्ट मैच में सीमित तैयारी के साथ उतरेगी जबकि न्यूजीलैंड की टीम मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेल रही है.

युवराज ने ‘स्पोर्ट्स तक’ से कहा, ‘मेरा मानना है कि इस तरह की स्थिति में बेस्ट ऑफ थ्री टेस्ट की सीरीज होनी चाहिए क्योंकि अगर आप पहला मैच गंवा दो तो अगले दो मैचों में वापसी कर सकते हो. भारत थोड़े नुकसान की स्थिति में है क्योंकि न्यूजीलैंड की टीम पहले ही इंग्लैंड में टेस्ट मैच खेल रही है.’ उन्होंने कहा, ‘आठ से 10 अभ्यास सत्र मिलेंगे लेकिन मैच अभ्यास की भरपाई किसी चीज से नहीं हो सकती. यह बराबरी का मुकाबला होगा लेकिन न्यूजीलैंड की टीम थोड़े फायदे की स्थिति में रहेगी.’

इसे भी पढ़ें, विराट कोहली ने रियान पराग को बैट पर क्या लिखकर दिया था गिफ्ट? शेयर की तस्वीर

39 वर्षीय युवराज ने कहा कि भारत का बल्लेबाजी क्रम केन विलियमसन की अगुआई वाली न्यूजीलैंड की टीम की तुलना में मजबूत है. उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि भारतीय टीम मजबूत है क्योंकि पिछले कुछ समय में हमने देश के बाहर जीत दर्ज की है. मुझे लगता है कि हमारी बल्लेबाजी मजबूत है और गेंदबाजी में हम उनके बराबर हैं.’
'रोहित और गिल पर दारोमदार'

विश्व कप 2011 में भारत की खिताब जीत में अहम भूमिका निभाने वाले युवराज ने कहा कि इंग्लैंड में पहली बार सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभा रहे रोहित शर्मा और शुभमन गिल को जल्द से जल्द ड्यूक्स गेंदों का आदी होना होगा. युवराज ने कहा, ‘रोहित शर्मा अब टेस्ट मैचों में काफी अनुभवी हैं. उनके नाम सात शतक हैं और इनमें से चार उन्होंने सलामी बल्लेबाज के रूप में बनाए हैं लेकिन रोहित और शुभमन गिल, दोनों ने इससे पहले इंग्लैंड में कभी पारी का आगाज नहीं किया है.’

ड्यूक्स गेंद पर काफी कुछ निर्भर



करियर में 402 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले युवराज ने कहा, ‘वे चुनाती से वाकिफ हैं, ड्यूक्स गेंद शुरुआत में स्विंग करती है. उन्हें हालात से जल्दी सामंजस्य बैठाना होगा. इंग्लैंड में यह महत्वपूर्ण है कि आप एक बार में एक सत्र पर ध्यान दें. सुबह गेंद स्विंग और सीम करती है और दोपहर में आप रन बना सकते हो, चाय के विश्राम (Tea Break) के बाद गेंद फिर स्विंग करती है. एक बल्लेबाज के रूप में अगर आप इन चीजों से सामंजस्य बैठा लो तो आप सफल हो सकते हो.’

इसे भी पढ़ें, थप्पड़ मारने पर खिलाड़ी पर लगा 5 साल का बैन, मां के इलाज के लिए 18 महीने बाद ही वापसी

युवी ने गिल पर जताया भरोसा

गिल ने ऑस्ट्रेलिया में अपनी पहली टेस्ट सीरीज में प्रभावित किया था लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में रन बनाने के लिए जूझते दिखे. युवराज चाहते हैं कि गिल ऑस्ट्रेलिया में अपने प्रदर्शन से आत्मविश्वास लें. उन्होंने कहा, ‘शुभमन काफी युवा हैं, अभी अनुभवहीन हैं लेकिन ऑस्ट्रेलिया में सफलता से उनका आत्मविश्वास बढ़ना चाहिए. इसलिए अगर वह आत्मविश्वास के साथ उतरते हैं तो दुनिया में कहीं भी अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं.’

बायो-सिक्योर माहौल को बताया कड़ा

युवराज ने लंबे दौरे के दौरान जैविक रूप से सुरक्षित माहौल (Bio-Secure) में रहने की अतिरिक्त चुनौती पर भी बात की. भारत को इस दौरे पर इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट की सीरीज भी खेलनी है जो चार अगस्त से शुरू होगी. उन्होंने कहा, ‘अपने देश की ओर से खेलने की शारीरिक और मानसिक चुनौती पहले ही होती है और अब इसमें जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में रहने को भी जोड़ दीजिए. मुझे लगता है कि यह बेहद कड़ा है. उम्मीद करता हूं कि कोविड-19 जल्द ही खत्म होगा और लोग अपना सामान्य जीवन जी सकेंगे.’

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज