केरल सरकार को झटका, SC ने दिया पूर्व डीजीपी सेनकुमार की बहाली का आदेश

स्रोत: News18.com

स्रोत: News18.com

सुप्रीम कोर्ट ने करेल सरकार को सोमवार को राज्य के पूर्व पुलिस महानिदेशक डीजीपी) टीपी सेन कुमार को फिर से बहाल करने का आदेश दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2017, 3:10 PM IST
  • Share this:

सुप्रीम कोर्ट ने करेल सरकार को सोमवार को राज्य के पूर्व पुलिस महानिदेशक डीजीपी) टीपी सेन कुमार को फिर से बहाल करने का आदेश दिया है. ये फैसला मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

मदन बी लाकुर और दीपक गुप्ता की बेंच ने ये फैसला सेनकुमार द्वारा दायर याचिका पर सुनाया है. कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि सेनकुमार का तबादला मनमाने ढंग से और बिना कानून का पालन किए किया गया. इसका मतलब यह है कि सरकार को अब मौजूदा डीजीपी लोकनाथ बेहरा को हटाना पड़ेगा.

हिमाचल की तरह केरल विधानसभा भी होगी पेपरलेस !



इस मामले पर सीएम पिनाराई विजयन ने कहा, 'हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार करते हैं. अभी तक फैसले का केवल एक छोट हिस्सा बाहर आया है. आगे जो भी कानूनी तौर पर वैध होगा किया जाएगा.' वहीं, सेनकुमार ने कहा कि उन्हें बहाली की कोई जल्दी नहीं है. यह मामला एक वजह से था. विशेषरूप से युवा पीढ़ी के आने के लिए.
पद स्वीकार न करके कोर्ट में दी चुनौती

सुप्रीम कोर्ट ने केरल हाई कोर्ट के उस आदेश को रद्द कर दिया जिसमें केंद्रीय प्रशासनिक प्राधिकरण (CAT) के फैसले को बरकरार रखा गया था. प्राधिकरण के फैसले में राज्य सरकार द्वारा सेनकुमार के तबादले को सही पाया गया था.

मई 2016 में सेनकुमार को नवनिर्वाचित विजयन सरकार ने जिशा हत्या मामला और पुतिंगल मंदिर में आग लगने की घटना की जांच में चूक के चलते तबादला कर दिया था. सेनकुमार का तबादला पुलिस हाउसिंग कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरेशन के प्रमुख के तौर पर किया गया था लेकिन उन्होंने पद संभालने की बजाए फैसले को कोर्ट में चुनौती दे दी.

विवादित ऑडियो सामने आने के बाद केरल के मंत्री ने दिया इस्‍तीफा

केरल सरकार ने 11 अप्रैल को अदालत में सेनकुमार के तबादले के अपने फैसले का बचाव करते हुए दलील दी थी कि उन्होंने साल 2016 में पुतिंगल मंदिर में लगी आग की घटना के जिम्मेदार पुलिस अधिकरियों को बचाया था. राज्य सरकार ने कोर्ट से कहा था कि सेनकुमार का तबादला उस हादसे के कारण नहीं बल्कि हादसे के बाद उन्होंने हालात को जिस तरह संभाला उसकी वजह से किया गया था.

पिछले साल 10 अप्रैल को सेनकुमार के डीजीपी पद पर कार्यरत होने के दौरान कोल्लम जिले में पुतिंगल मंदिर में एक बड़ा हादसा हुआ था. मंदिर में पटाखों के प्रदर्शन के दौरान विस्फोट से आगने के कारण 110 लोगों की मौत हो गई थी. हाटसे में 300 लोग घायल हो गए थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज