• Home
  • »
  • News
  • »
  • tamil-nadu
  • »
  • एआईएडीएमके से शशिकला और दिनाकरण की छुट्टी

एआईएडीएमके से शशिकला और दिनाकरण की छुट्टी

ऐसे वक्त पर जब दो फाड़ हो चुकी दक्षिण भारत की पार्टी एआईएडीएमके में सुलह के आसार कम दिख रहे थे, शशिकला और दिनाकरण को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है.

ऐसे वक्त पर जब दो फाड़ हो चुकी दक्षिण भारत की पार्टी एआईएडीएमके में सुलह के आसार कम दिख रहे थे, शशिकला और दिनाकरण को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है.

ऐसे वक्त पर जब दो फाड़ हो चुकी दक्षिण भारत की पार्टी एआईएडीएमके में सुलह के आसार कम दिख रहे थे, शशिकला और दिनाकरण को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है.

  • Share this:
    ऐसे वक्त पर जब दो फाड़ हो चुकी दक्षिण भारत की पार्टी एआईएडीएमके में सुलह के आसार कम दिख रहे थे, शशिकला और दिनाकरण को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है.

    पार्टी के 20 मंत्रियों ने यह फैसला लिया. इस फैसले से लगता है कि पार्टी के दोनों गुटों में विलय अब संभव है.

    बता दें कि तमिलनाडू के पूर्व मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम ने साफ़ कर दिया था कि शशिकला और दिनाकरण के पार्टी में रहते हुए सुलह संभव नहीं है.

    10 करोड़ नहीं दिए तो 13 महीने ज्यादा जेल में रहेंगी शशिकला

    पन्नीरसेल्वम ने तर्क दिया था कि एआईएडीएमके के संस्थापक एमजी रामचंद्रन और जयललिता, पार्टी पर किसी परिवार के नियंत्रण के खिलाफ थे.

    उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि एमजीआर ने जब एआईएडीएमके का गठन किया तो उन्होंने अपने भाई तक को पार्टी के कामकाज में कभी शामिल नहीं किया.

    वहीं पन्नीरसेल्वम ने कहा था कि जयललिता ने केवल शशिकला को पार्टी में शामिल किया था, उनके परिवार के किसी सदस्य को नहीं.

    बात दें कि जयललिता के निधन के बाद एआईएडीएमके दो धड़ों में बंट गई थी. एक का नेतृत्व जेल में बंद पार्टी महासचिव शशिकला कर रही हैं, तो दूसरे का नेतृत्व पन्नीरसेल्वम कर रहे हैं.

    उल्लेखनीय है कि सोमवार रात कई मंत्रियों ने पन्नीरसेल्वम के साथ सुलह पर विचार-विमर्श किया था.

    एआईएडीएमके के दोनों गुटों के बीच विवाद के कारण पार्टी के चुनाव चिन्ह 'दो पत्ती' को निर्वाचन आयोग ने ज़ब्त कर लिया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज