अब एक बटन दबाते ही महिलाओं को मिलेगी सुरक्षा, आज से शुरू हुई सर्विस

गृहमंत्री राजनाथ सिंह आज विशेष रूप से तैयार 'इनवेस्टीगेशन ट्रैकिंग सिस्टम फॉर सेक्सुअल आफेंसेस' का भी उद्घाटन किया.

News18Hindi
Updated: February 19, 2019, 10:02 PM IST
अब एक बटन दबाते ही महिलाओं को मिलेगी सुरक्षा, आज से शुरू हुई सर्विस
प्रतीकात्मक फोटो
News18Hindi
Updated: February 19, 2019, 10:02 PM IST
महिलाओं की सुरक्षा के के लिए केंद्र सरकार ने आज इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर 112 की शुरुआत की है. इस नंबर के जरिए महिलाएं किसी भी मुसीबत में होने पर तुरंत मदद पा सकेंगी. इस हेल्पलाइन नंबर के साथ ही 112 ऐप भी डेवलप किया गया है जिसे किसी भी मोबाइल फोन पर डाउनलोड किया जा सकता है और इमरजेंसी में सुविधाएं ली जा सकती हैं.

इसके अलावा महिलाओं के खिलाफ क्राइम की जांच की ऑनलाइन मॉनिटरिंग और दो महीने के भीतर उसकी जांच पूरी करने के लिए इन्वेस्टिगेशन ट्रैकिंग सिस्टम भी बनाया गया है. इस सर्विस की शुरुआत मंगलवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह द्वारा की गई.





iOS और एंड्रॉयड दोनों के लिए 112 ऐप
Loading...

इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर के साथ 112 ऐप भी लॉन्च किया गया है, जो iOS और एन्ड्रॉयड दोनों के लिए गूगल प्लेस्टोर और ऐपस्टोर पर मौजूद है. इसकी मदद से कोई भी महिला इमरजेंसी में हेल्पलाइन के माध्यम से या फिर ऐप के जरिए हेल्प मांग सकती है. मैसेज मिलते ही सबसे नजदीक थाने की पुलिस टीम को मदद करने के लिए रवाना कर दिया जाएगा और महिला की शिकायत पर होने वाली सभी जांच की ऑनलाइन मॉनिटरिंग की जाएगी.

(ये भी पढ़ेंः Jio SIM यूजर्स को मिलती ये खास सर्विस, आज ही करें Activate


इस ऐप में महिलाओं और बच्चों को फटाफट मदद पहुंचाने के लिए "SHOUT" नाम से फीचर मौजूद होगा, जिससे एरिया के आस-पास वाले रजिस्टर्ड स्वयंसेवकों को मदद के लिए तुंरत भेजा जाएगा.

गृह मंत्रालय के मुताबिक आप इमरजेंसी सर्विस के लिए 112 डायल कर सकते हैं या फिर अपने स्मार्टफोन के पावर बटन को 3 बार प्रेस कर सकते हैं. इसके अलावा नॉर्मल मोबाइल में 5 या फिर 9 नंबर को लॉन्ग प्रेस करें, इससे ये इमरजेंसी नंबर एक्टिवेट हो जाएगा.

ये भी पढ़ेंः Vivo V15 Pro में है 32 मेगापिक्सल का खास Selfie कैमरा, इतनी हो सकती है कीमत

गृहमंत्री राजनाथ सिंह आज विशेष रूप से तैयार 'इनवेस्टीगेशन ट्रैकिंग सिस्टम फॉर सेक्सुअल आफेंसेस' का भी उद्घाटन किया. इस ऑनलाइन मॉनिटरिंग द्वारा सुनिश्चित किया जाएगा कि महिलाओं के खिलाफ अपराध की जांच दो महीने के भीतर पूरा किया जा सके, ताकि अपराधी को जल्द-से-जल्द सजा मिले.



इन राज्यों और केंद्र साशित प्रदेशों में शुरू होगी सेवा
आंध्रप्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, केरल, मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, पुडुचेरी, अंडमान, लक्ष्यद्वीप, दादर नगर हवेली और दमन व दीव के साथ-साथ मुंबई में इस सेवा की शुरुआत की जाएगी. इससे पहले ये इमरजेंसी नंबर हिमाचल और नागालैंड में चालू था.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...