सावधान! 30 लाख एंड्रॉयड फोन की फोटोज़ और Call पर बड़ा खतरा! पाई गईं 400 खामियां

फोन के प्रोसेसर से जुड़ी एक बड़ी खामी का पता चला है.

फोन के प्रोसेसर से जुड़ी एक बड़ी खामी का पता चला है.

इस खामी के चलते हैकर किसी भी स्मार्टफोन के ज़रिए जासूसी कर सकते हैं. इससे हैकर को यूज़र के फोटोज़, वीडियोज़, कॉल रिकॉर्डिंग्स, रियल टाइम माइक्रोफोन डेटा, GPS और लोकेशन डेटा को एक्सेस मिल जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 1:05 PM IST
  • Share this:
एंड्रॉयड फोन (Android) में इस्तेमाल होने वाली क्वालकॉम चिप ने दुनियाभर के 30 लाख यूज़र्स के डेटा को खतरे में डाल दिया है. चेकपॉइंट सिक्योरिटी के रिसर्चर्स ने क्वालकॉम के डिजिटल सिग्नल प्रोसेसर चिप (DCP) में 400 खामियां पाई हैं. क्वालकॉम चिप (Qualcomm) स्मार्टफोन बाज़ार के 40% में इस्तेमाल की जाती है और ये अलग-अलग प्राइस कैटेगरी के फोन में पाई जाती हैं. इतना ही नहीं क्वालकॉम चिप का इस्तेमाल गूगल (Google), सैमसंग (Samsung), LG, शियोमी (Xiaomi) और बाकी कई प्रीमियम फोन में भी इस्तेमाल किया जाता है.

चेक पॉइंट के रिसर्चर ने DCP चिप को टेस्ट किया और इसमें खामी वाले 400 कोड पीस को डिस्कवर किया है. बताया गया कि इस खामी के चलते हैकर बिना यूज़र के इंटरैक्शन के किसी भी स्मार्टफोन के ज़रिए जासूसी कर सकते हैं. इससे हैकर को यूज़र के फोटोज़, वीडियोज़, कॉल रिकॉर्डिंग्स, रियल टाइम माइक्रोफोन डेटा, GPS और लोकेशन डेटा को एक्सेस मिल जाता है.

(ये भी पढ़ें- एक साथ 4 फोन में कैसे चलेगा WhatsApp? नए फीचर्स के साथ पूरा प्रोसेस आया सामने)





खामी की वजह से कोई मैलिशस ऐप कॉल रिकॉर्ड कर सकता है, या फिर माइक्रोफोन की मदद से जासूसी कर सकता है. इतना ही नहीं इससे हैकर सर्विस अटैक के ज़रिए फोन को फ्रीज़ भी कर सकता है. इस तरह फोन के डेटा हमेशा के लिए रह जाएंगे. इसके अलावा हैकर एक और खतरनाक एक्टिविटी को अंजाम दे सकता है.
इससे वह फोन में मैलवेयर और मैलिशियस कोड डाल सकता है, जिससे ना सिर्फ हैकर की एक्टिविटी छुप जाएगी, बल्कि उसे डिलीट भी नहीं किया जा सकेगा.

(ये भी पढ़ें- बेहद सस्ता हो गया दुनिया का सबसे ज़्यादा पसंद किया जाने वाला ये धांसू एंड्रॉयड फोन, जानें नई कीमत)

क्वालकॉम की ओर से ये खामियां सामने आने के बाद वॉर्निंग जारी की गई है. फोन मैन्युफैक्चरर्स की ओर से अपडेट देकर ही इन कमियों को दूर किया जा सकता है. साथ ही बताया गया कि 'चेकपॉइंट द्वारा खोजी गई कमियों को हमने परखा और इससे जुड़ी कार्रवाई की है लेकिन अब तक हमारे पास ऐसा कोई सबूत नहीं कि किसी ने इसका फायदा उठाया हो. चेकप्वाइंट ने सभी मोबाइल फोन यूजर्स को डिवाइस अपडेट करने को कहा है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज