केंद्र सरकार ने चीन के 59 ऐप्‍स पर रोक लगाने के लिए इस कानून का किया इस्‍तेमाल

केंद्र सरकार ने चीन के 59 ऐप्‍स पर रोक लगाने के लिए इस कानून का किया इस्‍तेमाल
केंद्र सरकार ने चीन के ऐप्‍स पर रोक लगाने के लिए सूचना प्रौद्योगिक अधिनियम की खास धारा का इस्‍तेमाल किया.

केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Ministry of Information Technology) ने कहा कि विभिन्न स्रोतों से शिकायतें मिली हैं कि एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कुछ ऐप यूजर्स का डाटा भारत के बाहर मौजूद सर्वर को अनधिकृत तरीके से भेजते हैं. इसलिए चीन के 59 ऐप्‍स (Chinese Apps) पर पाबंदी लगाने का फैसला लिया गया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार ने चीन से जारी तनाव और कल यानी मंगलवार को दोनों देशों के बीच भारतीय क्षेत्र में होने वाली कोर कमांडर स्तर (Corps Commander Level) की बातचीत से एक दिन पहले यानी आज 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध (India Bans Chinese Apps) लगा दिया है. इनमें टिकटॉक (TikTok Apps), लाइकी (Likee), शेयरइट (Shareit), हेलो (Helo) और यूसी ब्राउजर (UC Browser) जैसे ऐप्स शामिल हैं. सरकार का कहना है कि देश के करोड़ों मोबाइल और इंटरनेट यूजर्स के हितों की रक्षा, इंडियन साइबरस्‍पेस की सुरक्षा के मद्देनजर ये फैसला लिया गया है.

नॉन-मोबाइल बेस्‍ड इंटरनेट डिवाइस में भी नहीं चलेंगे ऐप्‍स
केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बताया कि इंफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी एक्‍ट (IT Act) की धारा-69ए और इंफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी (प्रोसीजर एंड सेफगार्ड्स फॉर ब्‍लॉकिंग ऑफ एक्‍सेस ऑफ इंफॉर्मेशन बाई पब्लिक) रूल्‍स 2009 के संबंधित प्रावधान उसे विदेशी ऐप्‍स पर प्रतिबंध लगाने की शक्तियां प्रदान करता है. बता दें कि केंद्र की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, ये ऐप्स ऐसी गतिविधियों में शामिल हैं, जो भारत की रक्षा, ​सुरक्षा, संप्रभुता और अखंडता के लिए हानिकारक है. केंद्र ने कहा कि इन ऐप्स का मोबाइल और नॉन-मोबाइल बेस्ड इंटरनेट डिवाइसेज में भी इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा.

ये भी पढ़ें- चीन पर सरकार का बड़ा फैसला, टिक टॉक समेत 59 चीनी एप्स पर लगाया बैन



यूजर्स का डाटा चुराकर बाहर भेजना भारत के लिए है खतरा


सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा कि उसे विभिन्न स्रोतों से मिली शिकायतों में एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कुछ मोबाइल ऐप के दुरुपयोग की रिपोर्ट शामिल हैं. इनमें कहा गया है कि ये ऐप उपयोगकर्ताओं (Users) का डाटा चुराकर भारत के बाहर मौजूद सर्वर को अनधिकृत तरीके से भेजते हैं. भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति शत्रुता रखने वाले तत्वों की ओर से इन आंकड़ों को इकट्ठा करना, इनकी जांच-पड़ताल व प्रोफाइलिंग भारत की संप्रभुता और अखंडता के लिए खतरा है. इसे रोकने के लिए आपातकालीन उपायों की जरूरत थी. वहीं, गृह मंत्रालय के तहत आने वाले साइबर अपराध समन्वय केंद्र ने ऐसे ऐप्‍स पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश भी की थी.

ये भी पढ़ें- भारत से पंगा लेना चीन को पड़ा भारी, पूरी दुनिया में घटी चीनी सामानों की मांग

ऐसे अन-इंस्‍टॉल, डिसेबल या डिलीट कर सकते हैं चीनी ऐप
अगर आपके स्‍मार्टफोन में भी चीनी ऐप है और आप उसे हटना चाहते है तो ऐप को कुछ सेकेंड तक प्रेस करने पर अनइंसटाल (Unistall) का ऑपशन दिखाई देगा. ऐप को ड्रैग कर ऑप्‍शन तक ले जाकर छोड़ दें. ऐप आपके स्‍मार्टफोन से पूरी तरह से हट जाएगा. हालांकि, कुछ ऐप्‍स सिस्‍टम में इंटीग्रेटेड होते हैं, जिससे उन्‍हें डिलीट नहीं किया जा सकता है. ऐसे में आप उन्‍हें डिसेबल (Disable) कर सकते हैं. डिसेबल करने के लिए फोन के सेटिंग ऑप्‍शन पर क्लिक करें. इसके बाद ऐप्‍स ऑप्‍शन पर क्लिक करें. यहां आपको अपने मोबाइल फोन में मौजूद सभी ऐप्‍स दिखने लगेंगे. इनमें प्रतिबंधित ऐप्‍स को सेलेक्‍ट कर उन्‍हें डिसेबल या डिलीट कर सकते हैं. अगर अन-इंस्‍टॉल का ऑप्‍शन आता है तो उस पर टैप करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading