59 चीनी ऐप्स बंद होने के बाद आपके पास क्या हैं ऑप्शंस? इन देसी ऐप्स से बन जाएगा काम

59 चीनी ऐप्स बंद होने के बाद आपके पास क्या हैं ऑप्शंस? इन देसी ऐप्स से बन जाएगा काम
भारत में 59 चाइनीज़ ऐप बैन हो गए हैं.

सरकार द्वारा 59 चीनी ऐप्स बैन होने के बाद इंडियन स्मार्टफोन यूजर्स के पास कई अन्य ऐप्स का विकल्प है. इनमें से कुछ ऐप पूरी तरह से इंडियन हैं. सरकार ने सुरक्षा कारणों की वजह से चीनी ऐप्स को बैन किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने बीते सोमवार को 59 चाइनीज ऐप्स को भारत (Chinese Apps banned in India) में इस्तेमाल करने से बैन कर दिया है. सरकार ने एक बयान में कहा कि ये ऐप्स कुछ ऐसी गतिविधियों में संलिप्त हैं जो भारत की रक्षा, ​सुरक्षा, संप्रभुता और अखंडता के लिए हानिकारक है.' केंद्र सरकार ने कहा है कि इन ऐप्स का मोबाइल और नॉन-मोबाइल बेस्ड इंटरनेट डिवाइसेज में भी इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा.

सरकार द्वारा बैन किए गए इन ऐप्स में अधिकतर यूटिलिटी ऐप्स थे जो चुटकिटयों में रोज़मर्रा की जिंदगी आसान कर देते थे. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल है कि आखिर इनका विकल्प क्या है. तो आइए जानते हैं इन चीनी ऐप्स के कुछ विकल्प के बारे में...

टिकटॉक: बैन किए गए सभी चीनी ऐप्स में सबसे पॉपुलर ऐप्स टिकटॉक है. इस ऐप के भारत में करीब 10 करोड़ एक्टिव यूजर्स हैं. लेकिन अब आप इसकी जगह पर शेयरचैट व चिंगारी ऐप का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. शेयरचैट देश के 1000 से भी ज्यादा शहरों में उपलब्ध है और 15 से ज्यादा भाषाओं में काम करता है. शेयरचैट और चिंगारी ऐप की सबसे खास बात है कि ये दोनों ऐप पूरी तरह इंडियन हैं.



यह भी पढ़ें: केंद्र ने चीन के 59 ऐप्‍स पर रोक लगाने के लिए इस कानून का किया इस्‍तेमाल



Xender और ShareIT: इन दोनों ऐप्स का इस्तेमाल गेम्स और वीडियो जैसी बड़ी फाइल्स को ट्रांसफर करने के लिए किया जाता था. लेकिन, अब इनके बैन होने के बाद आप Dropbox का इस्तेमाल कर सकते हैं. आप गूगल ड्राइव का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. हालांकि, इस सेग्मेंट में कुछ ऐसे ऐप्स भी हैं जो पेड हैं.

Kwai, Helo, Likee, Bigo Live: ये सब भी वीडियो शेयरिंग ऐप ही है. भारतीयों के बीच टिकटॉक ज्यादा पॉपुलर था. अगर आप इन ऐप्स के विकल्प खोज रहे हैं तो हम आपको बता दें ShareChat, Roposo या चिंगारी ऐप का इस्तेमाल कर सकते हैं.

CamScanner: कैमस्कैनर भी भारतीयों के बीच सबसे ज्यादा पॉपलुर ऐप में से एक था. यह ​हार्ड कॉपी को डिजिटल कॉप में कन्वर्ट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था. लेकिन इस ऐप के बैन होने के बाद आप एडोब स्कैन, माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस लेन्स का इस्तेमाल कर सकते हैं.

UCBrowser और Apus Browser: आमतौर पर ये दोनों ब्राउजर अधिकतर चाइनीज स्मार्टफोन में पहले से ही डाउनलोडेड होते हैं. लेकिन, अब इनकी जगह आाप गूगल क्रो, ब्रेव और अन्य ब्राउजर का इस्तेमाल कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: अगर आपने भी इंस्टॉल किये हैं TikTok समेत ये 59 ऐप्स तो जानिए अब क्या होगा?

UCNews: यूसी स्टेबल का यह भी ऐप एक पार्ट है. ऐसे में आप न्यूज के लिए संबंधित न्यूज संस्था का मोबाइल ऐप डाउनलोड कर सकते हैं. इनशॉर्ट्स और डेलीहंड भी आपके पास विकल्प में रूप में हैं.

Baidu Maps: इस ऐप की जगह आप गूगल ऐप्स और MapMyIndia का इस्तेमाल कर सकते हैं.

Club Factory और Shein: ये दोनों ऐप भारत में मिंत्रा और फ्लिपकार्ट जैसे शॉपिंग ऐप्स को टक्कर देते थे. अब इसके बैन होने के बाद आप अन्य ई-कॉमर्स ऐप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं. आपके पास फ्लिपकार्ट, मिंत्रा व अमेजन जैसे विकल्प हैं.

Virus Cleaner: यह स्मार्टफोन्स के लिए एक एंटी-वायरस ऐप है. अब इसके बैन होने के बाद आप प्लेस्टोर से कई तरह के एंटी-वायरस ऐप डाउनलोड कर सकते हैं. आप Avast Antivirus भी डाउनलोड कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading