कोरोना वायरस का खात्मा करेगी 5G टेक्नोलॉजी! भारत में भी चल रही तैयारी

5G कोरोना वायरस से निपटने में मदद कर सकता है.

COVID-19: दो चीनी कंपनियों ने एक ज्वाइंट स्टडी में कहा है कि एक खास तकनीक की मदद से कोरोना वायरस (Corona Virus) और किसी भी प्राकृतिक आपदा से समय रहते निपटा जा सकता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. चीन में पहली बार सामने आने वाले कोरोना वायरस (Corona Virus) ने दुनिया के एक बड़े हिस्से को अपनी जद में ले लिया है. कई देशों में इसके कहर ने रोजमर्रा के जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है. लेकिन जिस चीन से इस कोरोना वायरस (COVID-19) की शुरुआत हुई है, उसी चीन से अब इसके खात्मे की भी शुरुआत हो सकती है. दरअसल, चीन ने दावा किया है कि 5G तकनीक की मदद से कोरोना वायरस जैसी आपदा को पूरी तरह से खत्म किया जा सकता है.

    एक स्टडी में हुआ खुलासा
    चीन का कहना है कि 5G थर्मल इमेजिंग तकनीक Contagion (छूत की बीमारी) मॉनिटरिंग भी करता है. इस तकनीक की मदद से काफी सटीकता से किसी भी चलने वाली वस्तु का तापमान मापा जा सकता है. इसके लिए उस वस्तु को बिना छुए ही तापमान के बारे में पता लगाकर अलर्ट भेजा जा सकता है. गुरुवार को चीन ने एक स्टडी के हवाले से यह बात कही है.

    यह भी पढ़ें:  Google ने हटा दिया अपना ये ज़रूरी फीचर, एंड्रॉयड-iOS और वेब पर भी नहीं चलेगा

    महामारी से निपटने के लिए सबसे बेहतर टूल बन सकता है 5G
    चीनी कंपनी Huawei और Deloitte की ज्वाइंट स्टडी के मुताबिक, COVID-19 ने पब्लिक हेल्थेकयर सिस्टम (PHS) पर बहुत अधिक दबाव डाला है. साथ ही किसी भी तरह की महामारी (Epidemic) को लेकर होने वाले रिस्पॉन्स सिस्टम पर भी इसका असर देखने को मिल रहा है. चीन जैसे देश में जहां एक बड़ा लैंडस्केप है, ज्यादा मोबाइल पॉपुलेशन, रिसोर्सेज के लिए उनकी मांग और डेटा एक्सचेंज इन्फेक्टेड लोगों की स्क्रीनिंग में एक प्रमुख भूमिका अदा करता है. ऐसे में यह तकनीक फ्रंट लाइन स्टॉफ को ग्राउंड पर सपोर्ट करने और इस आपदा को खत्म करने में मदद कर सकता है.

    कैसे 5G कर सकता है मदद
    चीन के कई टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने हुवावे के साथ मिलकर COVID-19 का ट्रीटमेंट कर रहे हॉस्पिटल्स में 5G नेटवर्क को अलग तौर पर सेटअप किया. 5G तकनीक की बेहतर स्पीड, निर्भरता और बेहद कम लेटेंसी की वजह से यहां के हेल्थकेयर सिस्टम को काफी फायदा मिला है. इससे मरीजों की मॉनिटरिंग, डेटा कलेक्शन और उनका एनालिसिस करने में मदद मिली है. कंपनी ने कहा है कि इस तरह की आपदा से निपटने के लिए 5G तकनीक बड़ी मदद कर सकता है.

    यह भी पढ़ें: OFFER! 20 हज़ार वाली Fully Automatic वॉशिंग मशीन सिर्फ 10,999 रु में लाएं घर

    मिलेगा नए बिजनेस का मौका
    इस स्टडी में कहा गया है कि पब्लिक हेल्थ के क्षेत्र में 5G एप्लीकेशन की सफलता एक नए तरह के बिजनेस और इससे जुड़े नए सेक्टर को जन्म दे सकती है. साथ ही, प्राकृतिक आपदा और इंटरनेट ऑफ थिंग्स को भी 5G तकनीक से जोड़कर काफी हद तक अपने रिस्पॉन्स को बेहतर किया जा सकता है. इसे फ्रंटलाइन खपत, इन्वेन्टरी लेवल्स, प्रोडक्शन क्षमता जैसी चीजों को ध्यान में रखते हुए समय रहते सही फैसला लिया जा सकता है.

    भारत में भी 5G लाने की तैयारी चल रही है
    इस स्टडी के मुताबिक, 5G की मदद से किसी भी मरीज को एक जगह से दूसरे जगह पर ट्रांसफर करते समय लगातार मॉनिटर और उचित उपचार किया जा सकता है. टेलीकॉन्फ्रेंसिंग की जरूरतों को पूरा करने के लिए यह सबसे कुशल तकनीक है. इस तकनीक की मदद से मेडिकल एक्सपर्ट अपने मरीज का कहीं से भी ट्रीटमेंट कर सकते हैं. बता दें कि भारत में भी 5जी तकनीक लाने की तैयारी चल रही है. संभवत: अगले साल इसके ​लिए स्पेक्ट्रम आवंटन की नीलामी प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी. इसके बाद विभिन्न टेलीकॉम कंपनियां इसे बाजार में ला सकती हैं.

    यह भी पढ़ें: Xiaomi के इस 4 कैमरे वाले फोन की दीवानगी, कुछ सेकेंड में हुआ out of stock

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.