जनवरी से 5जी का ट्रायल होगा शुरू, DoT और टेलीकॉम कंपनियों के बीच बनी सहमति

2020 में आ रहे हैं कई 5G फोन

यह मीटिंग 5-जी टेस्टिंग के लिए कंपनियों के नाम नोटीफाई करने के सरकार के कल के फैसले के ठीक बाद बुलाई गई.

  • Share this:
    दूरसंचार विभाग बहुत जल्दी ही 5जी का ट्रायल शुरू करेगा और जनवरी में कई टेलीकॉम कंपनियों को स्पेक्ट्रम का आवंटन करेगा. उम्मीद की जा रही है कि ये स्पेक्ट्रम काफी कम शुल्क पर कंपनियों को एक साल के लि 5जी ट्रायल के लिए दिए जाएंगे. इस संबंध में आज टेलीकॉम कंपनियों के एक प्रतिनिधि मंडल ने डीओटी से मुलाकात की. स्पेक्ट्रम के लिए कंपनियों को सिर्फ 5 हज़ार रुपये की फीस चुकानी होगी.

    Huawei को भी ट्रायल के लिए मंजूरी मिली है. इससे पहले चाइनीस कंपनी हुआ वे के 5G ट्रायल में शामिल होने पर विवाद था. बता दें कि मार्च-अप्रैल में स्पेक्ट्रम नीलामी की डेडलाइन है. इसको देखते हुए जनवरी से 5G का ट्रायल शुरू होने जा रहा है.

    बता दें कि यह बैठक 5-जी टेस्टिंग के लिए कंपनियों के नाम नोटीफाई करने के सरकार के कल के फैसले के ठीक बाद बुलाई गई. दूरसंचार सचिव अंशु प्रकाश की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई बैठक एक घंटे से अधिक समय तक चली. दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोमवार को कहा कि सरकार सभी टेलीकम्युनिकेशन सर्विस प्रोवाइडर्स को सुपर-फास्ट स्पीड 5जी नेटवर्क की टेस्टिंग के लिए एयरवेव का आवंटन करेगी.

    आज की स्थिति के मुताबिक भारत, 5-जी के आने वाली टेस्टिंग में किसी भी उपकरण की आपूर्ति करने वालों पर रोक नहीं लगाएगा. इस संदर्भ में विशेष रूप से हुवावे की स्थिति के बारे में पूछे जाने पर, मंत्री ने कहा था, 'सभी कंपनियों का मतलब है कि सभी कंपनियां होंगी.' इस रुख से चीनी कंपनी हुवावे को भी राहत मिलने की उम्मीद है, जो अमेरिका में प्रतिबंधों का सामना कर रही है.

    चीन की हुवावे एरिक्सन और नोकिया जैसी पश्चिमी उपकरण निर्माताओं और दक्षिण कोरिया की सैमसंग को टक्कर दे रही है. हालांकि, कई देशों ने दूरसंचार सेवा प्रदाताओं को चीनी उपकरण का उपयोग करने की अनुमति दी है. और अब, भारत ने किसी भी कंपनी को 5-जी टेस्टिंग से बाहर रखने के प्रति अपनी अनिच्छा का संकेत दिया है. इसका मतलब है कि इस टेस्टिंग में सभी कंपनियां शामिल होंगी,जिन्होंने ने किसी न किसी नेटवर्क उपकरण की सप्लाई करने वाले से टाई-अप कर रखा है.

    मंत्री ने सोमवार को एक दूरसंचार कार्यक्रम के मौके पर कहा था, 'मैं 5-जी में भारतीय कंपनियों द्वारा नए इनोवेशन की अपेक्षा करता हूं. 5-जी हमारा भविष्य है. इसलिए, हम 5-जी में नए इनोवेशन को प्रोत्साहित करेंगे.' हुआवे इंडिया के सीईओ जे चेन ने सोमवार को एक ई-मेल द्वारा बयान में कहा था कि कंपनी का पूरा विश्वास है कि केवल प्रौद्योगिकी इनोवेशन और हाई क्वालिटी वाले नेटवर्क से ही भारतीय दूरसंचार उद्योग का कायाकल्प हो सकेगा.’ सूत्रों ने बताया कि 5-जी टेस्टिंग जनवरी-मार्च के बीच शुरू हो सकती है.

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.