लाइव टीवी

कॉल आने पर अब 45 सेकेंड नहीं बजेगी फोन की घंटी, घटकर अब हुई इतनी!

News18Hindi
Updated: October 5, 2019, 7:26 AM IST
कॉल आने पर अब 45 सेकेंड नहीं बजेगी फोन की घंटी, घटकर अब हुई इतनी!
आमतौर पर फोन की घंटी की अवधि 40 से 45 सेकंड होती है.

आमतौर पर कॉल आने के समय बजने वाली फोन की घंटी की अवधि 40 से 45 सेकंड होती है, लेकिन अब इसे घटा दिया गया है...जानें ऐसा क्यों हुआ

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 5, 2019, 7:26 AM IST
  • Share this:
एयरटेल (Airtel) और वोडाफोन-आइडिया (Vodafone-Idea) ने अपने नेटवर्क से बाहर जाने वाली कॉल पर घंटी (call ring) बजने का समय घटाकर अब सिर्फ 25 सेकेंड कर दिया है. आमतौर पर कॉल आने के समय बजने वाली फोन की घंटी की अवधि 40 से 45 सेकंड होती है, लेकिन अब इसे घटाकर 25 सेकेंड कर दिया है. एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया के उठाए गए इस कदम का मकसद कॉल जुड़े रहने के समय के मुताबिक उसपर लगने वाले इंटरकनेक्ट उपयोग शुल्क (IUC) की लागत घटाना भी है.

टेलिकॉल रेगुलेटरी ऑथेरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) ने इंटरकनेक्ट शुल्क मामले में उसके किसी आधिकारिक निर्णय पर पहुंचने से पहले आपस में कड़ी प्रतिस्पर्धा में उलझी दूरसंचार कंपनियों से सर्वसम्मति से किसी समाधान पर पहुंचने के लिए कहा था.

(ये भी पढ़ें- कमाल की है Jio की ये मुफ्त सर्विस, बिना जियो सिम वाले भी कर सकते हैं इस्तेमाल)

इंटरकनेक्ट उपयोग शुल्क किसी एक नेटवर्क को दूसरे नेटवर्क के दी जाने वाली सेवाओं पर दिया जाता है. इसमें जिस नेटवर्क से कॉल की जाती है वह कॉल पहुंचने वाले नेटवर्क को यह शुल्क अदा करता है. अभी इसकी दर छह पैसा प्रति मिनट है. एयरटेल ने इस निर्णय की जानकारी देने के निए ट्राई को 28 सितंबर को एक पत्र भेजा है. वहीं सूत्रों ने जानकारी दी कि वोडाफोन आइडिया ने भी चुनिंदा परिक्षेत्रों में फोन की घंटी बजने की अवधि घटाने का निर्णय किया है.



एयरटेल ने कहा कि उसने फोन की घंटी बजने की अवधि को 25 सेकंड तक सीमित करने का निर्णय किया है. नियामक की ओर से इस संबंध में कोई स्पष्ट निर्देश ना होने के चलते कंपनी के पास कोई और विकल्प नहीं बचा है. हालांकि, कंपनी नियामक के सामने इस बात को कई बार रख चुकी है.

14 अक्टूबर को होगी खुली चर्चा
Loading...

ट्राई से जुड़े सूत्रों ने पीटीआई-भाषा को बताया कि नियामक 14 अक्टूबर को ‘कॉल किए जाने वाले व्यक्ति के फोन की घंटी बजने की समयसीमा’ के मुद्दे पर एक खुली चर्चा कराने की योजना बना रहा है. इसके अलावा इस पूरे IUC मुद्दे पर भी बातचीत होगी. इसके लिए एक परिचर्चा पत्र पहले ही जारी कर दिया गया है. इस पर जल्द निर्णय किया जाएगा.

(ये भी पढ़ें-इन 46 Apps को अभी कर दें Delete, खतरनाक ऐप्स की लिस्ट में सेल्फी-Antivirus जैसी ऐप भी शामिल)



एयरटेल ने अपने पत्र में कहा कि हमने महसूस किया कि इससे ग्राहकों को परेशानी हो सकती है लेकिन ट्राई की ओर से कोई निर्देश नहीं होने और इंटरकनेक्ट शुल्क के घाटे से बचने के लिए हमारे पास कोई और विकल्प नहीं बचा है. इसलिए हमने हमारे नेटवर्क पर फोन की घंटी बजने की अवधि को घटाने का निर्णय किया है.

ये भी पढ़ें- बड़ी खबर! इन स्मार्टफोन्स पर अब नहीं चलेगा WhatsApp, देखें लिस्ट में आपका फोन तो नहीं...

बढ़ेंगी Missed Call की संख्या
एयरटेल का कहना है कि फोन की घंटी बजने की अवधि कम करने से मिस्ड कॉल की संख्या बढ़ेगी. इससे किसी व्यक्ति को कॉल लगाने और साथ ही मिस्ड कॉल देखने के बाद वापस कॉल करने की संख्या भी बढ़ेगी. इससे ग्राहकों के अनुभव के साथ-साथ नेटवर्क की क्वालिटी पर बुरा प्रभाव पड़ेगा.

पिछले महीने IUC के मुद्दे को लेकर सभी कंपनियों का विवाद नियामक के पास तक पहुंच गया था. वास्तव में आईयूसी को एक जनवरी, 2020 से खत्म किए जाने का प्रस्ताव है. लेकिन ट्राई इस समयसीमा की अभी समीक्षा कर रहा है.
(इनपुट-भाषा से)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गैजेट्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 5, 2019, 7:25 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...