WhatsApp पर अनचाहे ग्रुप से हैं परेशान? सरकार ने दिया बड़े बदलाव का आदेश

पिछले दिनों कुछ सरकारी एजेंसियों को यूज़र्स से लगातार शिकायतें मिल रही थी कि कई बार उनकी मर्जी के खिलाफ WhatsApp Groups में जोड़ दिया जा रहा है.

News18Hindi
Updated: December 11, 2018, 9:56 AM IST
WhatsApp पर अनचाहे ग्रुप से हैं परेशान? सरकार ने दिया बड़े बदलाव का आदेश
पिछले दिनों कुछ सरकारी एजेंसियों को यूज़र्स से लगातार शिकायतें मिल रही थी कि कई बार उनकी मर्जी के खिलाफ WhatsApp Groups में जोड़ दिया जा रहा है.
News18Hindi
Updated: December 11, 2018, 9:56 AM IST
केंद्र सरकार ने लोगों की निजता को ध्यान में रखते हुए वॉट्सऐप से एक नया फीचर लाने का निर्देश दिया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस ताज़ा निर्देश में कहा गया है WhatsApp यूज़र को किसी भी ग्रुप में ऐड करने से पहले उनकी इजाजत लेनी जरूरी होनी चाहिए. दरअसल पिछले दिनों कुछ सरकारी एजेंसियों को यूज़र्स से लगातार शिकायतें मिल रही थी कि कई बार उनकी मर्जी के खिलाफ WhatsApp Groups में जोड़ दिया जा रहा है.

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय (MeitY) ने इस बारे में कई एजेंसियों से राय ली, जिसके बाद इस मामले पर मैसेजिंग प्लैटफॉर्म WhatsApp से बात करने का फैसला लिया गया.

WhatsApp पर ऐसे चेक कर सकते हैं किसने किया आपको Block

अधिकारी ने बताया कि WhatsApp ने अपनी पॉलिसी का हवाला देते हुए बताया कि ग्रुप एडमिन की फोनबुक में उस यूज़र का नंबर Save होना चाहिए और अगर यूज़र दो बार ग्रुप से बाहर (Exit) निकलता है, तो उसे तीसरी बार जोड़ा नहीं जा सकता है.

हालांकि कई बार ऐसा देखा गया है कि यूज़र के दो बार ग्रुप छोड़ने के बाद भी कोई दूसरा एडमिन उसे वापस उस ग्रुप में जोड़ लेता है. इतना ही नहीं यूज़र को दूसरे नंबर से बनाए गए नए ग्रुप में ऐड कर लेने का प्रयास भी किया जाता है.

WhatsApp यूज़र्स के लिए खुशखबरी, आने वाले हैं ये 6 इंट्रेस्टिंग फीचर्स

ऐसे अभ्यासों के लिए MeitY ने WhatsApp की भले ही सराहना की है, हालांकि साथ ही लिखा कि सिर्फ ये उपाय पर्याप्त नहीं है. इसलिए मंत्रालय ने फिर से वॉट्सऐप को ऐसी सुविधा पेश करने के लिए कहा है, जहां किसी भी Group में यूज़र को जोड़ने से पहले उसकी सहमति जरूरी हो. फिलहाल इस बात पर वॉट्सऐप के जवाब का इंतज़ार किया जा रहा है.
Loading...

दरअसल केंद्र सरकार WhatsApp पर भेजे जाने मैसेजेज़ को लेकर काफी सतर्कता बरत रही है. हाल ही में पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के दौरान WhatsApp group पर फेक और भड़काने वाले मैसेज फैलाए जाने की रिपोर्ट आई है. ऐसे में WhatsApp ने भी 2019 के लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए फर्जी खबरों को रोकने के लिए टेलीविजन पर विज्ञापन प्रसारित करने का निर्णय लिया है.

VIDEO: आप अपने PHONE में ऐसे चला सकते हैं दो WHATSAPP अकाउंट
इस वजह से फट सकता है आपका मोबाइल फोन, कहीं आप भी तो नहीं कर रहे ये गलती
WhatsApp पर बिना नंबर सेव किए ऐसे भेजें किसी को भी Message
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार