Apple के ऐप स्टोर वालों के लिए खुशखबरी! कंपनी ने अपनी कमीशन फीस में आधे से लेकर 15 फीसदी तक कटौती की

Apple के ऐप स्टोर वालों के लिए खुशखबरी!
Apple के ऐप स्टोर वालों के लिए खुशखबरी!

एप्पल ने एक नए डेवलपर कार्यक्रम का ऐलान किया है कि कंपनी अगले साल ऐप स्टोर कमीशन की दर को घटाकर 15 प्रतिशत कर देगी. जानिए किसको मिलेगा इसका लाभ..

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2020, 12:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एप्पल ने एक नए डेवलपर कार्यक्रम का ऐलान किया है कि कंपनी अगले साल ऐप स्टोर कमीशन की दर को घटाकर 15 प्रतिशत कर देगी. 'ऐप स्टोर स्मॉल बिज़नेस' नामक इस प्रोग्राम का लाभ उन्हीं डेवलपर्स को मिलेगा जिनकी सालाना कमाई एक मिलियन डॉलर (लगभग 7.41 करोड़ रुपये) से कम है. आपको बता दें अभी एप्पल पेड ऐप्स और इन-ऐप पर्चेज पर डेवलपर्स से 30 प्रतिशत का कमिशन लेता है.

एप्पल के इस नए प्रोग्राम की शुरुआत 1 जनवरी 2021 से होगी. प्रोग्राम में भाग लेने के इच्छुक सभी डेवलपर्स को इसके लिए आवेदन करना होगा. इससे संबंधित अन्य जानकारी दिसंबर 2020 की शुरुआत में एप्पल द्वारा जारी की जाएगी.

इस प्रोग्राम का लाभ स्टोर पर मौजूद उन सभी एप्स को मिलेगा जिन्होंने साल 2020 में अपने सभी ऐप्स से एक मिलियन डॉलर (लगभग 7.41 करोड़ रुपये) की कमाई की है. यदि डेवलपर की सालाना कमाई एक मिलियन से ज्यादा हो जाती है तो उस पर स्टैंडर्ड कमीशन रेट (30 प्रतिशत) लागू होगा. एप्पल ने यह घोषणा भी की है कि अगर किसी डेवलपर का बिजनेस भविष्य में निर्धारित सीमा से नीचे आ जाता है तो वह 15 प्रतिशत कमीशन की योग्यता दोबारा हासिल कर सकता है.



एप्पल सीईओ टिम कुक ने इस प्रोग्राम को अर्थव्यवस्था की रीढ़ माने जाने वाले छोटे व्यवसायों के लिए एक सराहनीय कदम बताया है. एप्पल का मानना है कि इस प्रोग्राम से डेवलपर्स की एक बहुत बड़ी आबादी को फायदा होगा जो स्टोर पर डिजिटल सर्विस उपलब्ध कराते हैं. कंपनी ने यह भी साफ कर दिया है कि सालाना एक मिलियन से अधिक की कमाई करने वाले डेवलपर्स से 30 प्रतिशत कमीशन ही लिया जाएगा.
कंपनी के लिए यह साल मुश्किलों भरा था. इन-एप खरीद के मुद्दे पर कंपनी को कोर्ट के चक्कर भी काटने पड़े थे. कंपनी को भले कुछ मुद्दों पर परेशानी का सामना करना पड़ा था लेकिन रिपोर्ट्स की मानें तो एप्पल ने 2020 के पहले 6 महीने में ऐप स्टोर से ग्लोबली 32.8 बिलियन डॉलर की कमाई की है जो 2019 से 24.7 प्रतिशत ज्यादा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज