लाइव टीवी

लॉकडाउन के बीच छात्रों की पढ़ाई: ऐप और सॉफ्टवेयर के ज़रिए हो रहें हैं लाइव लेक्चर

भाषा
Updated: April 5, 2020, 2:17 PM IST
लॉकडाउन के बीच छात्रों की पढ़ाई: ऐप और सॉफ्टवेयर के ज़रिए हो रहें हैं लाइव लेक्चर
File Photo

कॉलेज विभिन्न ऐप, सॉफ्टवेयर और वेबसाइट्स के माध्यमों से छात्रों को पढ़ा रहें हैं, ताकि मौजूदा परिस्थितियों से उनकी पढ़ाई किसी तरह प्रभावित ना हो.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (coronavirus) लाकडाउन के चलते देशभर में कालेज बंद हैं. लेकिन बहुत से कालेजों में पढ़ाई जारी है. छात्र छात्राएं अब कक्षाओं में नहीं बल्कि वर्चुअल कक्षाओं में पढ़ाई कर रहे हैं. लाकडाउन जहां नई चुनौतियां पेश कर रहा है तो वहीं नए उपाय भी खोजने को मजबूर कर रहा है. छात्रों की पढ़ाई बड़ी-बड़ी कक्षाओं से सिमट कर लैपटॉप, डेस्कटॉप और फोन में आ गई है. कॉलेज विभिन्न ऐप, सॉफ्टवेयर और वेबसाइट्स के माध्यमों से छात्रों को पढ़ा रहें हैं, ताकि मौजूदा परिस्थितियों से उनकी पढ़ाई किसी तरह प्रभावित ना हो.

दिल्ली विश्विद्यालय के किरोड़ीमल कॉलेज की छात्रा उन्नति ने बताया कि उनकी पढ़ाई ऐप के ज़रिए शुरू हो गई है जिस पर लाइव लेक्चर किए जा रहे हैं. इकोनॉमिक्स ऑनर्स की छात्रा उन्नति ने कहा, ‘हमारी ऑनलाइन कक्षाएं शुरू हो गई है, 'ज़ूम ऐप' के ज़रिए लाइव लेक्चर हो रहे हैं.

(ये भी पढ़ें- लॉकडाउन के बीच Airtel ने करोड़ो ग्राहकों को दी राहत, अब ATM, ग्रोसेरी और मेडिकल स्टोर से भी कराएं रिचार्ज)



इस दौरान कक्षाओं की तरह ही छात्रों और शिक्षकों के बीच किसी भी विषय पर संवाद होता है. वहीं नोट्स एवं असाइनमेंट वॉट्सऐप पर PDF फॉर्म में उपलब्ध कराए जा रहे हैं.’



इंद्रप्रस्थ कॉलेज से संबद्ध 'दिल्ली मेट्रोपोलिटन एजुकेशन' के असिस्टेंट प्रोफेसर मोहम्मद कामिल ने बताया कि उनके कॉलेज में ‘ज़ूम ऐप’ के अलावा कॉलेज के सॉफ्टवेयर पर छात्रों को पढ़ने की पूरा कंटेंट उपलब्ध कराया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कॉलेज के सॉफ्टवेयर 'कॉल पॉल' पर छात्रों को पढ़ने की पूरा कंटेंट उपलब्ध कराई जा रही है. इस पर पाठ्यक्रम से जुड़े वीडियो उपलब्ध कराए जा रहे हैं, जिस पर छात्र अपनी राय प्रकट कर सकते हैं और अपनी दुविधाओं को दूर कर सकते हैं. इसके लिए प्रोफेसर वॉट्सऐप पर भी हमेशा उपलध रहते हैं.’

(ये भी पढ़ें- Xiaomi, Vivo, Samsung समेत महंगे हो गए ये 31 स्मार्टफोन्स, अब इतना करना होगा खर्च)

खेल पत्रकारिता एवं पर्यावरण संचार पढ़ाने वाले कामिल ने बताया कि इस सॉफ्टवेयर के अलावा ‘ज़ूम ऐप’ का इस्तेमाल भी किया जा रहे, जिस पर लाइव लेक्चर लिए जा रहे हैं. राम लाल आनंद कॉलेज के हिंदी विभाग के प्रोफेसर मानवेश ने बताया कि सभी विभाग के प्रोफेसर कॉलेज पोर्टल पर अपने अपने विभाग की पढ़ने की सामग्री अपलोड कर रहे हैं. इसके अलावा सभी प्रोफेसर वॉट्सऐप ग्रुप पर भी छात्रों के साथ जुड़े हैं और उनकी हर तरह से मदद के लिए हमेशा उपलब्ध हैं.

उन्होंने साथ ही बताया कि छात्रों को असाइनमेंट भी दिए गए हैं और अगर बंद को 21 दिन से ज़्यादा बढ़ाया गया तो वे भी सॉफ्ट कॉपी के जरिये मंगवा लिए जाएंगे. इस बीच,कुछ छात्र ऐसे भी हैं जिन्हें अब भी नहीं पता कि उनकी आगे की पढ़ाई कब शुरू होगी. उनका दावा है कि उनके कालेजों ने अभी तक इस संबंध में उन्हें कोई दिशा निर्देश नहीं दिए हैं.

(ये भी पढ़ें- लॉकडाउन के बीच Paytm का धमाकेदार ऑफर! रिचार्ज पर पाएं 50% कैशबैक!)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 5, 2020, 2:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading