Whatsapp एडमिन को राहत! मेंबर के किसी गलत पाेस्ट के लिए एडमिन जिम्मेदार नहीं: बॉम्बे हाईकोर्ट

जिला मजिस्ट्रेट के पास दायर याचिका भी हाईकोर्ट ने खारिज कर दी.

जिला मजिस्ट्रेट के पास दायर याचिका भी हाईकोर्ट ने खारिज कर दी.

कोर्ट ने कहा व्‍हाट्सऐप ग्रुप (WhatsApp) में अगर कोई मेंबर गलत पोस्ट करता है तो उसके लिए एडमिन को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है. अगर मेंबर की तरफ से पोस्ट किए मेसेज में एडमिन का "कॉमन इंटेंशन" नहीं है या पहले से तय किया गया मेसेज नहीं है तो इसके लिए एडमिन को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 6:45 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. व्‍हाट्सऐप (WhatsApp) पर ग्रुप बनाने वालों के लिए राहत की खबर है. अब उनके ग्रुप पर किसी मेंबर की ओर से गलत पोस्ट करने पर सीधे ग्रुप एडमिन (Group Admin) को जिम्मेदार नहीं माना जाएगा. यह महत्वपूर्ण बात बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay Hight Court) की नागपुर बेंच (Nagpur Bench) ने कही है. कोर्ट ने कहा व्‍हाट्सऐप ग्रुप में अगर कोई मेंबर गलत पोस्ट करता है तो उसके लिए ग्रुप के एडमिन को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है. अगर मेंबर की तरफ से पोस्ट किए मेसेज में एडमिन का "कॉमन इंटेंशन" नहीं है या पहले से तय किया गया मेसेज नहीं है तो इसके लिए एडमिन को जिम्मेदार नहीं माना जा सकता है. 



मामले में सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने जुलाई 2016 में 33 साल के एक व्‍हाट्सऐप एडमिनिस्ट्रेटर के खिलाफ दायर केस खारिज कर दिया. इस फैसले के साथ कोर्ट ने कई व्‍हाट्सऐप एडमिन की बड़ी टेंशन को भी कम कर दिया है. ग्रुप में जुड़े मेंबर्स से कई बार गलती से भी कोई गलत पोस्ट ग्रुप में शेयर हो जाती है. वैसे भी यह तय करना मुश्किल होता है कि काैन सा मेंबर कब क्या पोस्ट कर दे.



ये है पूरा मामला?

दरअसल, 33 साल का यह शख्स जिस ग्रुप का ए़डमिन था, उस ग्रुप के एक मेंबर ने एक महिला सदस्य के खिलाफ गलत और अपमानजनक मेसेज किया था. जस्टिस जे़डए हक और जस्टिस अमित बी. बोरकर ने 33 साल के किशोर चिंतामन के खिलाफ पिछले महीने से दायर आपराधिक मामले में यह फैसला सुनाया है. इस मामले की सुनवाई करते हुए दोनों जस्टिस ने पाया, "एक बार जब कोई व्‍हाट्सऐप ग्रुप बन जाता है तो सभी सदस्यों को समान अधिकार होते हैं. एडमिन के पास विशेषाधिकार होता है किसी नए मेंबर को जोड़ने का. एडमिन के पास ग्रुप के किसी सदस्य की तरफ से पोस्ट कंटेंट को रेगुलेट, मॉडरेट या सेंसर करने का अधिकार नहीं होता है.


ये भी पढ़ें - कोविड-19 के खिलाफ Reliance Foundation की बड़ी पहल! मुंबई में की 875 कोरोना बेड की व्यवस्था



यह कहकर खारिज किया केस

जजों ने अपने फैसले में कहा कि जब कोई शख्स व्‍हाट्सऐप ग्रुप बनाता है तो उसे पहले से इस बात की जानकारी नहीं होती कि कौन सा मेंबर क्या मेसेज पोस्ट करेगा. इसलिए एडमिन को किसी ग्रुप पोस्ट के लिए जिम्मेदार नहीं माना जा सकता. इसके साथ ही गोंदिया जिला मजिस्ट्रेट के पास दायर याचिका भी कोर्ट ने खारिज कर दी है.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज