चीन की नापाक मंसूबे! देश के रेलवे सिस्टम को चायनीज वायरस से प्रभावित करने की कोशिश

चीन की नापाक मंसूबे! देश के रेलवे सिस्टम को चायनीज वायरस से प्रभावित करने की कोशिश
हैकर्स ट्रेनों की टाइमिंग सहित आवागमन की जानकारियों को हैक करने कि कोशिश में लगे

केन्द्रीय खुफिया एजेंसी आईबी (IB) ने रेलवे मंत्रालय को एक विशेष अलर्ट भेजा है, उस अलर्ट में इस बात का जिक्र है की कुछ चायनीज हैकर ने रेलवे (Indain Railway) के सिस्टम को प्रभावित करने और महत्वपूर्ण सूचनाओं को चोरी करने का प्रयास किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत चाइना संघर्ष के बाद देश की सुरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. केन्द्रीय खुफिया एजेंसी आईबी (IB) ने रेलवे मंत्रालय को एक विशेष अलर्ट भेजा है, उस अलर्ट में इस बात का जिक्र है की कुछ चायनीज हैकर ने रेलवे (Indain Railway) के सिस्टम को प्रभावित करने और महत्वपूर्ण सूचनाओं को चोरी करने का प्रयास किया है. खुफिया विभाग के इस अलर्ट से रेलवे मंत्रालय के अंदर काफी चर्चा शुरू हो गई, खास तौर पर रेलवे की सतर्कता विभाग के अधिकारी ज्यादा ही अलर्ट हो गए. कुछ चाइनीज हैकरों ने रेलवे के सतर्कता विभाग के कई बड़े अधिकारियों का कंप्युटर को हैक करके उसमें से सुचनाओं की चोरी करने का प्रयास किया था. डेटा चुराने के लिए एक विशेष तरह के वायरस का सहारा लिया गया है जिसको APT36 दिया गया है.

रिपोर्ट में किए कई बड़े खुलासे- इस मामले की जानकारी खुफिया विभाग से जुडे साइबर सेल वींग को मिल गई. उसके बाद सही वक्त पर उन जानकारियों को रेलवे मंत्रालय से साझा किया गया है. खुफिया विभाग ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र किया है कि कौन- कौन अधिकारियों और कर्मचारियों के कंप्युटर से महत्वपूर्ण जानकारियों को चोरी करने का प्रयास किया गया था.

ये भी पढ़ें : चीन की नई चाल! भारतीय कंपनियों को नुकसान पहुंचाने के लिए रच रहा है नई साजिश



ट्रेनों की टाइमिंग की जा रही नोट- मामले की गंभीरता को देखते हुए कई अधिकारियों के कंप्युटर को वायरस APT 36 से मुक्त करवाया जा रहा है. खुफिया विभाग के सूत्रों ने इस मामले में इस बात की भी जानकारी दी है की वो हैकर उन ट्रेनों की टाइमिंग सहित आवागमन की जानकारियों को हैक करने कि कोशिश में लगे हुए हैं जो डिफेंस से जुडे कार्यों में लगी हुई है, बॉर्डर इलाके में सामानों के लेकर आते-जाते हैं. इसके साथ ही जिस ट्रेन से डिफेंस से जुडे जवान आते जाते हैं.
ये भी पढ़ें : चाइनीज ऐप से ऐसे बढ़ता है फ्रॉड होने का खतरा, जानें ये जरूरी बातें

रेलवे हुआ सतर्क- इस मामले की जानकारी मिलने के बाद रेलवे और उससे संबंधित जांच एजेंसी सतर्क अवश्य हो गई हैं लेकिन अब ऐसे मामलों में जरूरत है की साईबर क्राइम और अंतराष्ट्रीय स्तर के हैकर के करतुतों से बचने के लिए सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों को विशेष तौर सतर्क कैसे करना है , इसके लिए भी प्रयास करना चाहिए . क्योंकी चीन के साथ हाल में भारतीय सैनिकों का मसला किसी से छूपा हुआ नहीं है. ऐसे हालत में चीन से जुडे हैकर लगातार ऐसी हरकतों को अंजाम देते रहेगें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज