डिजिटल लुटेरों से सावधान! कोरोना काल में बढ़ें साइबर फ्रॉड, जानें डिजिटल लाइफ में फ्रॉड से कैसे बचे?

इण्टरपोल की एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोनाकाल में विश्व में साइबर फ्रॉड के मामलों में 350 गुना बढ़ोत्तरी हुई है.
इण्टरपोल की एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोनाकाल में विश्व में साइबर फ्रॉड के मामलों में 350 गुना बढ़ोत्तरी हुई है.

इण्टरपोल (Interpol) की एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोनाकाल में विश्व में साइबर फ्रॉड (Cyber fraud) के मामलों में 350 गुना बढ़ोत्तरी हुई है. इसकी बड़ी वजह है कि कोरोनाकाल में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के चलते ज्यादातर लोग अपने काम इंटरनेट और ई-कॉमर्स वेबसाइट (E-commerce website) की मदद से कर रहे हैं. जिसका फायदा उठा कर हैकर (Hacker) साइबर फ्रॉड को अंजाम दे रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 9:39 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. साइबर फ्रॉड के बारे में आप अक्सर अपने दोस्तों और मीडिया के माध्यम से सुनते हैं. आप में से कई लोग हो सकता है साइबर फ्रॉड के शिकार भी हुए हो. आपको बता दें देश में कोरोनाकाल के दौरान साइबार फ्रॉड के मामले तेजी से बढ़े हैं. इण्टरपोल की एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोनाकाल में विश्व में साइबर फ्रॉड के मामलों में 350 गुना बढ़ोत्तरी हुई है. इसकी बड़ी वजह है कि कोरोनाकाल में सोशल डिस्टेंसिंग के चलते ज्यादातर लोग अपने काम इंटरनेट और ई-कॉमर्स वेबसाइट की मदद से कर रहे हैं. जिसका फायदा उठा कर हैकर साइबर फ्रॉड को अंजाम दे रहे हैं. ऐसे में बड़ा सवाल उठता है कि साइबर फ्रॉड से किस तरह से बचा जा सकता हैं. आइए अब हम आपको साइबर फ्रॉड से बचने के लिए कुछ टिप्स देते है. जिससे आप हैकरों के चंगुल में फंसने से बच सकते हैं.

किस तरह से होता है साइबर फ्रॉड- हैकर साइबर फ्रॉड करने के लिए आम लोगों पर साइकोलॉजिकल दबाव बनाते है. जिसमे कई बार हैकर आपको नगदी, उपहार या किसी तरह के अन्य लाभ का लालच देकर अपने जाल मे फसाने की कोशिश करते है. यदि आप एक बार उनके प्रलोभन में आए और आपने अपनी बैंक खातों की डिटेल हैकरों के साथ साझा की. वैसे ही हैकर आपको बैंक अकाउंट खाली कर देते हैं.






ई-मेल या पॉप-अप के जरिए साइबर फ्रॉड- हैकर फर्जी कंपनी या संस्था का ईमेल आईडी बनाकर लोगों को अक्सर मेल करते है. यदि आप इन मेल को खोला और उसमें दिए गए लिंक पर आपने क्लिक किया वैसे ही आपकी सारी डिटेल हैकर के पास पहुंच जाती है. ठीक इसी तरह से आप जब इंटरनेट के माध्यम से काम कर रहे होते है तो साइड में अचानक पॉप-अप आता है और लैपटॉप या कोई सॉफ्टवेयर अपडेट करने के लिए कहता है. जैसे ही आप इस पर क्लिक करते है वैसे ही आपका सारा डाटा हैकर के पास पहुंच जाता है. जिसके बाद वह साइबर फ्राड बड़ी आसानी से करते हैं.

यह भी पढ़ें: Apple ने लॉन्च की MacBook Air, MacBook Pro और Mac Mini, जानें कीमत और खासियत

लोन माफी कॉल, मौसेज से फिशिंग- कोरोना काल में ज्यादातर लोगों की सैलरी में कटौती हुई है और कुछ लोगों की नौकरी भी गई है. ऐसे में लोगों के पास पैसों की तंगी का फायदा हैकरों ने खूब उठाया है. क्योंकि आज के दौर में ज्यादातर लोगों पर कोई न कोई लोन है. जिसके चलते हैकर लोन माफी के लिए कॉल या मैसेज करके आपकी बैंक से जुड़ी डिटेल हासिल कर लेते है और फिर साइबर फ्रॉड को अंजाम देते है.



पेटीएम मनी रिक्वेस्ट भेजकर ठगी- कई बार हैकर आपके मोबाइल पर पेटीएम या किसी अन्य मोबाइल वॉलेट की ओर से OR कोड भेजकर लकी ड्रॉ या पैसे जीतने का प्रलोभन देते है. इस OR कोड को जैसे ही आप स्कैन करते है वैसे ही आपके अकाउंट से सारे पैसे गायब हो जाते है और आप साइबर ठगी का शिकार हो जाते हो.



फ्री रिचार्ज और कैशबैक का ऑफर- हैकर कई बार नामी कंपनी की ओर से फर्जी मैसेज भेजकर कैशबैक ऑफर और फ्री रिचार्ज का ऑफर देते है. यदि आप इस तरह के कैशबैक या फ्री रिचार्ज के झांसे में आए. तो आप निश्चित ही साइबर फ्रॉड का शिकार हो सकते हैं.  



ऑनलाइन साइबर फ्रॉड से कैसे बचे- यदि आपको ऑनलाइन साइबर फ्रॉड से बचना है तो सबसे पहले आप यह सुनिश्चित करें की आपके लैपटॉप या कंप्यूटर में कोई पाइरेंटेट सॉफ्टवेयर तो नहीं है. इसके साथ ही आप अपने सिस्टम में एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का प्रयोग जरूर करें.

यह भी पढ़ें: ब्रह्मपुत्र पर बनेगा देश का सबसे लंबा ब्रिज, L&T को मिला ठेका, जानिए कब तक तैयार होगा ब्रिज

बैंक और पर्सनल डिटेल साझा न करें- यदि आपके पास कोई अनचाहा मेल, मैसेज या कॉल आए तो आप अपना एटीएम नंबर, ओटीपी, सीवीवी, आधार नंबर और बैंक अकाउंट का नंबर कतई साझा न करें. यदि आपने इन में से किसी चीज को भी हैकर के साथ साझा किया. तो आप साइबर ठगी के शिकार हो सकते हैं.



विश्वसनीय ई-कॉमर्स वेबसाइट से करें खरीदारी- आप जब भी ऑनलाइन शॉपिंग करें तो विश्वसनीय वेबसाइट या ऐप से ही खरीदारी करें. ऐसा करने से आप का डाटा सुरक्षित रहता है और आप साइबर फ्रॉड से बच सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज