सावधान! अब गेमिंग वेबसाइट के जरिए हो रहा है लोगों के साथ फ्रॉड, जानिए पूरा मामला

कुछ ऐसे होता ऑनलाइन गेमिंग फ्रॉड

ऑनलाइन गेमिंग वेबसाइट (Online Gaming Website Fraud) के जरिए लोगों से पैसे लूटे जा रहे थे. चीनी नागरिक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आइए जानें पूरा मामला

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना संकट के बीच बीते कुछ महीनों के दौरान दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद जैसे कई बड़े शहरों में साइबर फ्रॉड संबंधी मामलों में बढ़ोतरी हुई है. इन घटनाओं के मद्देनजर देश के सभी बैंक और सरकारी एजेंसियां भी लगातार सतर्क रहने की सलाह दे रही हैं. आपको बता दें कि ऑनलाइन गैम्बलिंग कलर प्रिडिक्शन के जरिए होती है. कलर प्रिडिक्शन गेम एक ऐसा एप्लीकेशन है, जिसमें एक कलर पर पैसा लगाया जाता है. फिर एक कलर या कलर कॉम्बिनेशन की भविष्यवाणी की जाती है. अगर आपका प्रिडिक्शन सही है, तो आप पैसे जीत जाते हैं.

    कुछ ऐसे होता ऑनलाइन गेमिंग फ्रॉड -हैदराबाद पुलिस ने एक ऑनलाइन गेमिंग वेबसाइट के जरिए लोगों से हो रही है करोड़ों रुपये के फ्रॉड का खुलासा किया है. पुलिस के मुताबिक, ऑनलाइन गेमिंग का आयोजन टेलीग्राम ग्रुप्स के जरिए किया जाता है. इन ग्रुप्स में सिर्फ रेफरेंस के आधार पर एंट्री मिलती थी. ग्रुप्स से जुड़े लोगों को नए मेंबर बनाने पर कमीशन दिया जाता था. इसमें टेलीग्राम का इस्तेमाल होता था. टेलीग्राम ग्रुप में सिर्फ रेफरेंस से ही एंट्री मिल सकती है.

    टेलीग्राम पर मौजूद इन ग्रुप्स में एडमिन उन वेबसाइट्स के बारे में बताते थे जहां पर दांव लगाए जाते थे, ये वेबसाइट्स रोज बदल दी जाती थीं, जिससे पकड़े जाने की गुंजाइश बेहद कम हो जाए. इसके बाद एक रंग के जरिए दांव लगाने वाला गेम खिलाया जाता था, इसमें खिलाड़ियों को रंग पहचानने की भविष्यवाणी करनी होती थी.

    Xiaomi यूजर्स के लिए बड़ी खबर! इन 7 स्मार्टफोन को मिलेगी MIUI 12 अपडेट
    Oppo Reno 3 Pro की कीमत में हुई भारी कटौती, 3000 रु सस्ता हुआ धांसू स्मार्टफोन
    Realme C12 और C15, 18 अगस्त को होंगे लॉन्च, बजट फोन में है 6000mAh की बैटरी

    अगर आपने जो रंग बोला, वही रंग गेम में निकल आता तो आप जीत जाते, ऐसा करके करोड़ रुपये इन्होंने अब तक बना लिए थे. जांच में दो खातों का भी पता चला है जिनमें करीब 11 सौ करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ है, और ये सारा लेनदेन इस साल का ही है.

    ये सब गेमिंग वेबसाइट्स चाइना बेस्ड है, और जो इसका पूरा डेटा है, वो क्लाउड बेस्ड डेटा मैनेजमेंट है, पूरा ऑपरेशन चीन से ही ऑपरेट होता है.

    कैसे हुआ खुलासा- हैदराबाद पुलिस से दो लोगों ने शिकायत की थी कि उन्हें ऑनलाइन गेमिंग वेबसाइट द्वारा लूटा गया है, शिकायत के मुताबिक ऑनलाइन वेबसाइट पर इनसे दांव लगवाया गया. फिर एक से 97 हजार और दूसरे से 1 लाख 64 हजार रुपये धोखे से ले लिए गए. दोनों की शिकायत के आधार पर हैदराबाद पुलिस की साइबर क्राइम सेल ने जांच शुरू की, जांच के दौरान पता चला कि ऑनलाइन गेमिंग का आयोजन टेलीग्राम ग्रुप्स के जरिए किया जाता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.