आखिर क्यों लगा गेमिंग ऐप पर बैन? सरकार को क्या होगा इससे फायदा- जानें

आखिर क्यों लगा गेमिंग ऐप पर बैन? सरकार को क्या होगा इससे फायदा- जानें
गेमिंग ऐप को लेकर सरकार की रणनीति

पीएम मोदी ने पिछले हफ्ते खिलौना उद्योग को लेकर एक बैठक की थी. उसी समय विदेशी गेमिंग ऐप को लेकर सरकार की रणनीति के संकेत सामने आने लगे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 11:30 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले हफ्ते खिलौना उद्योग को लेकर पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक से ही सरकार की रणनीति के संकेत मिलने लगे थे. उसके बाद पीएम ने मन की बात (Mann Ki Baat) कार्यक्रम के दौरान भी कई 'स्वदेशी ऐप्स' का जिक्र किया था और उनकी खासियत के बारे में भी बताया था. आपको बता दें कि 2019 में दुनिया भर की गेमिंग इंडस्ट्री का आकार 152 अरब डॉलर का था, जो कि दुनिया भर के कुल बॉक्स ऑफिस कारोबार का 3 गुना था. इसमें आने वाले समय में और बढ़त का अनुमान है. केंद्र सरकार (Central Government) ने बुधवार को भारत की रक्षा, ​सुरक्षा, संप्रभुता और अखंडता का हवाला देते हुए 118 विदेशी ऐप्‍स को बैन (Chinese Apps Ban) कर दिया.

चुनौती में सरकार तलाश रही अवसर
ये समय काफी चुनौतीपूर्ण है, जिसमें सरकार अवसर तलाश रही है. खिलौना उद्योग को लेकर हुई इस बैठक में सरकार ने स्वदेशी ऑनलाइन गेमिंग को बढ़ावा देने के उपायों पर भी चर्चा की थी. सरकार जानती है कि इन ऐप पर प्रतिबंध लगाने से सुरक्षा तो तय होगी लेकिन गेमिंग इंडस्ट्री में एक बड़ा अंतर पैदा हो जाएगा, ये चुनौती भारतीय गेमिंग उद्योग के लिए एक बड़ा अवसर बन सकता है. सरकार ने देशी ऑनलाइन गेम्स पर युवाओं से अपने आइडिया को सामने रखने को कहा.

ये भी पढ़ें : Chinese App Ban: आपके फोन में हैं पबजी समेत बैन ऐप तो तुरंत करें डिलीट वरना होगा ये बड़ा नुकसान
टिकटॉक बैन से देशी ऐप को हुआ था फायदा


चाइनीज ऐप टिकटॉक को बैन करने के बाद देशी ऐप के यूजर्स में तेजी से बढ़ोतरी हुई. सरकार पिछले ऐप बैन से मिलने वाले दोतरफा फायदे को देख चुकी है. जहां एक तरफ गेमिंग ऐप पर बैन लगाने से भारत की सुरक्षा से जुडी चिंताएं कम होंगी वहीं दूसरी तरफ स्वदेशी ऑनलाइन गेमिंग इंडस्ट्री को भी अपनी पहचान बनाने में मदद मिलेगी.

पीएम ने 4 कमाल की स्वदेशी ऐप्स की बताई खासियत
पीएम मोदी ने कहा, 'आज जब हम देश को आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास कर रहे हैं, तो हमें पूरे आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ना है, हर क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाना है.' उन्होंने आगे कहा, 'आत्मनिर्भर ऐप इनोवेशन चैलेंज के नतीजे देखकर आप भी जरूर प्रभावित होंगे. काफी जांच परख के बाद अलग-अलग कैटेगरी में लगभग दो दर्जन ऐप्स को अवॉर्ड्स भी दिए गए हैं'. इसके बाद उन्होंने 4 कमाल के स्वदेशी ऐप्स का जिक्र भी किया, साथ ही ये भी बताया कि वह कैसे काम करते हैं.

ये भी पढ़ें : सबसे ज्यादा पापुलर गेम पर भी भारत में लगा बैन, 19 करोड़ हैं मंथली एक्टिव यूजर्स

Kutuki: कुटुकी kids learning app. ये छोटे बच्चों के लिए ऐसा interactive app है जिसमें गानों और कहानियों के जरिए बात-बात में ही बच्चे math science में बहुत कुछ सीख सकते हैं. इसमें activities भी हैं, खेल भी हैं.

KOO: इसी तरह एक micro blogging platform का भी App है. इसका नाम कू (KOO) है. इसमें अपनी मातृभाषा में text, video और audio के जरिए अपनी बात रख सकते हैं, interact कर सकते हैं.

Ask Sarkar : इसके अलाव एक App है ‘Ask सरकार’. इसमें chat boat के जरिए आप interact कर सकते हैं और किसी भी सरकारी योजना के बारे में सही जानकारी हासिल कर सकते हैं, वो भी text, audio और video तीनों तरीकों से. ये आपकी बड़ी मदद कर सकता है.

Step set go:  Step set go एक फिटनेस ऐप है, इस ऐप के ज़रिए आप कितना चले, कितनी calories burn की, जैसा सारा हिसाब पा सकते हैं, और ये आपको fit रहने के लिए motivate भी करता है. PM Modi ने कहा, ‘आप ज़रूर इन Apps के बारे में जाने और उनसे जुड़ें.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज