Home /News /tech /

सिर्फ 140 रुपये में बिकती है आपकी प्रोफाइल, इंटरनेट पर ऐसे लगता है दाम

सिर्फ 140 रुपये में बिकती है आपकी प्रोफाइल, इंटरनेट पर ऐसे लगता है दाम

डार्क नेट

डार्क नेट

आपको जानकर हैरानी होगी कि आपका पर्सनल डेटा इंटरनेट के ‘Dark Web’ में बेचा जा रहा है,. ना सिर्फ हैकर्स बल्कि बड़ी कंपनियां और मार्केट रिसचर्स भी यह डेटा खरीद रहे हैं.

    इंटरनेट की दुनिया को सुरक्षित कहने वाले कितना भी दावा कर लें, लेकिन आपकी एक-एक जानकारी को हैक किया जा सकता है. इंटरनेट का एक हिस्सा ऐसा भी है, जो दुनिया की नज़रों से ओझल है. इंटरनेट के इस स्याह पाताल को कोई ‘डार्क वेब’ कहता है तो कोई ‘डीप वेब’. आपको जानकर हैरानी होगी कि आपका पर्सनल डेटा इंटरनेट के ‘Dark Web’ में बेचा जा रहा है. ना सिर्फ हैकर्स बल्कि बड़ी कंपनियां और मार्केट रिसचर्स भी यह डेटा खरीद रहे हैं. इससे भी ज़्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि आपके डेटा की कीमत रोज़ाना के हिसाब से महज़ 140 रुपये लगाई गई है. इंटरनेट के इस छिपे हुए हिस्से में, हैकर्स इंटरनेट यूज़र की जानकारी मुहैया करा रहे हैं. इनमें पासवर्ड, टेलिफोन नंबर और ईमेल आईडी जैसी जानकारियां शामिल हैं.

    'डार्क वेब' नाम की यह दुनिया रेगुलर ब्राउजर्स के ज़रिए ऐक्सेस नहीं कर सकती. सिर्फ टॉर जैसे ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर जो कि अनजान कम्युनिकेशन की अनुमति देते हैं, उनके जरिए ही डार्क वेब को ऐक्सेस किया जा सकता है.

    क्या है Tor?
    Tor एक सॉफ्टवेयर है, जो यूज़र्स की पहचान और इंटरनेट एक्टिविटी को ख़ुफ़िया एजेंसियों की नज़रों से बचाता है. यानी इसके ज़रिए इंटरनेट एक्टिविटी को ट्रेस नहीं किया जा सकता. लोग इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल अपना आईपी एड्रेस छिपाने के लिए करते हैं. Tor पर सर्फ़िंग के दौरान आप किसी यूज़र की सोशल मीडिया पोस्ट, ऑनलाइन एक्टिविटी, सर्च हिस्ट्री, वेबमेल किसी भी चीज़ का पता नहीं लगा सकते.  (ये भी पढ़ें-WhatsApp पर जिससे चाहें, उससे छुपाएं अपनी फोटोज़-वीडियोज़, यहां देखें पूरा तरीका )

    डार्क वेब पर मौजूद है 250 कंपनियों का डेटा
    डार्क वेब पर 250 से ज्यादा लोकप्रिय वेबसाइट्स का डेटा मौजूद है. यहां कई छोटी साइट्स के 7 से 8 हजार डेटाबेस भी हैं. हैकर्स इस डेटा पर साइबर अटैक करने के इरादे से खरीदते हैं. कई कंपनियां अपने प्रतिद्वंदी के कंज्यूमर बेस की जानकारी निकालने के लिए भी इस डेटा को खरीदती हैं. इस डेटा को इकठ्‌ठा करके किसी यूजर का पूरा प्रोफाइल तैयार किया जाता है, जिसे फिर बेच दिया जाता है.



    कैसे बिकती है प्रोफाइल
    यहां डेटा की कीमत 1 रुपये से शुरू होती है. हाई-प्रोफाइल लोगों का डेटा 500 रुपये से 2000 रुपये तक बिकता है. यह डेटा कई पैकेज में बेचा जाता है. पैकेज का रेट 140 रुपये प्रति दिन से लेकर 4,900 रुपये तीन माह हो सकता है. कस्टमर्स इस डेटा के लिए बिटकॉइन, लाइटकॉइन, डैश, रिपल और Zcash जैसी क्रिप्टोकरेंसी का इस्तेमाल करते हैं.  (ये भी पढ़ें-JioPhone के इन आसान Shortcut बटन से चुटकियों में कर सकते हैं कई काम, देखें वीडियो)

    मल्टीपल अकाउंट्स के लिए एक ही पासवर्ड ना रखें
    एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर किसी हैकर को एक यूज़र के मल्टीपल पासवर्ड मिल जाते हैं तो वह किसी प्रोफाइल को मिनटों में बिक्री के लिए उपलब्ध करा सकता है. कई यूजर्स अकसर मल्टीपल अकाउंट्स के लिए एक ही पासवर्ड का इस्तेमाल करते हैं, इससे उनके बिहेव का अनुमान लगाया जा सकता है. यूज़र डेटा को ट्रैक करना इंटरनेट पर किसी व्यक्ति के ऐक्टिविटी लेवल पर ही निर्भर करता है. क्विक हील में चीफ टेक्नॉलजी ऑफिसर संजय काटकर का कहना है कि यूजर को मजबूत पासवर्ड इस्तेमाल करने के साथ ही फिशिंग और स्पैम मेल खोलने से बचना चाहिए.

    -WhatsApp पर बिना ऑनलाइन आए पढ़ें किसी का भी मैसेज, नहीं बदलेगा ‘Last Seen’
    -WhatsApp पर आए Audio message को Call की तरह सुन सकते है आप, देखें तरीका

    Tags: Internet users, Mobile Phone, Tech news, Tech news hindi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर