जब Google Maps ने चार महीने बाद बेटी को पिता से मिलाया

गूगल मैप्स की मदद से दिल्ली पुलिस ने 12 साल की एक बच्ची को उसके पिता से मिला दिया.

News18Hindi
Updated: August 18, 2019, 4:58 PM IST
जब Google Maps ने चार महीने बाद बेटी को पिता से मिलाया
गूगल मैप्स की मदद से दिल्ली पुलिस ने 12 साल की एक बच्ची को उसके पिता से मिला दिया.
News18Hindi
Updated: August 18, 2019, 4:58 PM IST
गूगल मैप्स की मदद से दिल्ली पुलिस ने 12 साल की एक बच्ची को उसके पिता से मिला दिया. पुलिस अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. पुलिस के अनुसार बच्ची 21 मार्च को होली के दिन कीर्ति नगर के पास एक ई-रिक्शा में सवार हुई थी. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जब बच्ची मेट्रो स्टेशन पर नहीं उतरी तो ई-रिक्शा चालक ने उससे पूछा कि वह कहां जाना चाहती है, लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया. वह उसे रात 8 बजकर 33 मिनट पर कीर्ति नगर पुलिस थाने ले गया. अधिकारी ने कहा कि शुरुआती जांत के दौरान बच्ची अपना घर याद नहीं कर सकी और उसने केवल यह कहा कि वह "खुर्जा" गांव से है और उसके पिता का नाम जीतन है. (आने वाला है अब तक का सबसे सस्ता 5जी फोन, 22 अगस्त को होगा लॉन्च_

पुलिस ने दिल्ली के खजूरी खास और खुरेजी इलाकों में तलाश की चूंकि इन इलाकों का नाम 'खुर्जा' शब्द से मिलता-जुलता है, लेकिन उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दायर कराये जाने की कोई जानकारी नहीं मिली. इसके बाद वे मानसिक रूप से कमजोर बच्ची को नजदीकी जेजे कॉलोनी ले गए, लेकिन कोई भी उसे पहचान नहीं पाया. पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) मोनिका भारद्वाज ने कहा पुलिस की एक टीम बच्ची को चार बार उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के खुर्जा गांव ले गई, लेकिन उन्हें उसके परिवार के बारे में कोई सुराग नहीं मिला. (Flipkart ने शुरू की वीडियो स्ट्रीमिंग सर्विस, Netflix की तरह देखें फिल्में और शोज़)

इसके बाद पुलिस की टीम जब 31 जुलाई को एक बार फिर खुर्जा ले गई तो वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने उससे उसके गांव के आसपास के इलाकों के नाम पूछे. बच्ची ने बताया कि उसकी मां का गांव सोनबरसा है और उसके गांव के निकट साकापर नामक जगह है.


इसके बाद पुलिस को गूगल मैप के जरिये पता चला कि उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर जिले में साकापर, सोनबरसा और "खुर्जा" नाम के गांव हैं. पुलिस ने उसके परिवार का भी पता लगा लिया. एक अगस्त को खुर्जा निवासी उसका पिता जीतन गोरखपुर से दिल्ली आया.

जीतन ने बताया कि वह मानव व्यवहार एवं संबद्ध विज्ञान संस्थान (इहबास) में अपनी बेटी का इलाज कराने के लिये दिल्ली आया था. उसकी बेटी कीर्ति नगर के निकट जेजे कॉलोनी स्थित उसकी बहन के घर से लापता हो गई थी, लेकिन उसने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 18, 2019, 4:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...