Chandrayaan-2: चंद्रयान-1 के मिशन डायरेक्‍टर ने कहा, मिशन पर पूरी दुनिया की है नजर

इसरो के पूर्व निदेशक (Former Director of ISRO) एम. अन्‍नादुरई (M. Annadurai) ने कहा, इस बार चंद्रयान-1 (Chandrayaan-1) के मुकाबले सॉफ्ट लैंडिंग होगी. चंद्रयान-1 की क्रैश लैंडिंग हुई थी. चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) की लैंडिंग में अब कुछ ही घंटे बचे हैं.

News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 4:46 PM IST
Chandrayaan-2: चंद्रयान-1 के मिशन डायरेक्‍टर ने कहा, मिशन पर पूरी दुनिया की है नजर
इसरो के पूर्व निदेशक ने कहा, मिशन को लेकर बहुत उत्‍साहित हूं. यह भारत ही नहीं पूरी दुनिया के लिए अहम अवसर है.
News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 4:46 PM IST
नई दिल्‍ली. चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) की चांद (Moon) पर लैंडिंग से कुछ घंटे पहले चंद्रयान-1 (Chandrayaan-1) के मिशन डायरेक्‍टर एम. अन्‍नादुरई (M. Annadurai) ने कहा कि इस बार की लैंडिंग भारत के पहले मिशन के मुकाबले सॉफ्ट (Soft Landing) होगी. दोनों मिशन के बीच अंतर के बारे में बता करते हुए अन्‍नादुरई ने कहा कि इस समय मेरी घबराहट हर पल बढ़ रही है. साथ ही मैं मिशन को लेकर बहुत उत्‍साहित भी हूं. यह भारत ही नहीं पूरी दुनिया के लिए अहम अवसर व कार्यक्रम है. इस समय पूरी दुनिया की नजर भारत के इस मिशन पर टिकी हैं. बता दें कि चंद्रयान-2 की चांद पर लैंडिंग में अब कुछ ही घंटे बचे हैं.

इस बार नियंत्रित लैंडिंग के लिए कई बार किया गया रिहर्सल
अन्‍नादुरई ने कहा कि चंद्रयान-1 लैंड करते वक्‍त दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था. वह क्रैश लैंडिंग थी. इस बार की लैंडिंग काफी नियंत्रित होगी. उनके मुताबिक, सॉफ्ट लैंडिंग की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है. सभी कमांड अपलिंक कर दी गई हैं. ग्राउंड सिस्‍टम ने हर जरूरी चीज का सत्‍यापन कर लिया है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के पूर्व निदेशक (Former Director) ने कहा कि इस बार नियंत्रित लैंडिंग के लिए कई बार रिहर्सल किया गया. उन्‍होंने उम्‍मीद जताई कि इस बार भारत सॉफ्ट लैंडिंग में सफलता हसिल कर लेगा.

7 सितंबर की सुबह रोवर प्रज्ञान विक्रम से बाहर निकलेगा

चंद्रयान-2 का लैंडिंग मॉड्यूल 'विक्रम' और उसके अंदर मौजूद रोवर 'प्रज्ञान' के 7 सितंबर को देर रात 1.30 बजे से 2.30 बजे के बीच चंद्रमा की सतह पर उतरने की उम्मीद है. चंद्रमा की सतह पर उतरने के बाद विक्रम से रोवर प्रज्ञान उसी दिन सुबह 5.30 बजे से 6.30 बजे के बीच निकलेगा. पूरी दुनिया की नजर विक्रम की सेफ लैंडिंग पर टिकी हैं. इस बीच, इसरो के चेयरमैन के. सिवान (Chairman K. Sivan) ने कहा कि चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग को लेकर सभी में घबराहट है, क्‍योंकि इसरो ने इससे पहले कभी ऐसा नहीं किया है. आखिरी के 15 मिनट इसरो के लिए एकदम नए होंगे.

साउथ पोल पर यान उतारने वाला पहला देश बन जाएगा भारत
चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के चांद पर कदम रखने की उलटी गिनती शुरू हो गई है. चंद्रयान-2 जैसे ही चांद की सतह पर लैंड करेगा, भारत ऐसा करने वाला दुनिया का चौथा देश बन जाएगा. अभी तक अमेरिका, रूस और चीन ने ही ये कारनामा किया है. खास बात यह है कि चंद्रयान-2 चांद के साउथ पोल (South Pole) पर लैंड करेगा. अभी तक इस जगह पर कोई भी देश नहीं पहुंचा है. चांद के साउथ पोल पर स्पेसक्राफ्ट (Spacecraft) उतारने के बाद भारत ऐसा करने वाला पहला देश बन जाएगा.
Loading...

ये भी पढ़ें: 

बांग्‍लादेशी टका को रुपये से मजबूत बताकर बुरे फंसे सुरजेवाला, हटाना पड़ा ट्वीट

Chandrayaan 2: आज चांद को चूमेगा चंद्रयान, जानें कैसे काम करेगा 'लैंडर' विक्रम और 'रोवर' प्रज्ञान?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोबाइल-टेक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 12:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...