लाइव टीवी

घर बैठे वोट दे सकेंगे बुज़ुर्ग और दिव्यांग, दिल्ली चुनाव में EC ला रहा है ये ऐप

News18Hindi
Updated: November 7, 2019, 10:58 AM IST
घर बैठे वोट दे सकेंगे बुज़ुर्ग और दिव्यांग, दिल्ली चुनाव में EC ला रहा है ये ऐप
चुनाव आयोग पहली बार ऐसा भी करने जा रहा है कि दिव्यांगों और 80 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वोट डालने के लिए बूथ तक नहीं जाना ज़रूरी नहीं होगा होगा

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) में चुनाव आयोग एक ऐसा लॉन्च करने वाला है जिससे पता चल जाएगा कि बूथ पर कितनी लंबी लाइन है या कितने वोटर अभी तक वोट देने (Voter turnout in election) के लिए आ चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2019, 10:58 AM IST
  • Share this:
आने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) में चुनाव आयोग (Election commission of India) एक ऐसा ऐप लॉन्च करने वाला है, जिससे बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं को बूथ तक आने की जरूरत नहीं होगी, वो घर बैठे ही मतदान कर पाएंगे. इसके साथ ही इस ऐप के जरिए रियल टाइम बूथ का डेटा (Real-time Election booth Data) उपलब्ध होगा. इस ऐप का नाम बूथ ऐप (Booth App) है. मुख्य चुनाव अधिकारी रणबीर सिंह ने सोमवार को इस बात की जानकारी दी.

बुज़ुर्गों को नहीं जाना पड़ेगा बूथ
चुनाव आयोग के इस ऐप से दिव्यांगों और 80 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वोट डालने के लिए बूथ तक नहीं जाना ज़रूरी नहीं होगा, बल्कि वे पोस्टल बैलट का प्रयोग करके वोट डाल सकेंगे. पहली बार इसे झारखंड विधानसभा चुनाव में लागू किया जाएगा. हालांकि, पोस्टल बैलट से वोटिंग करने के लिए अपने विधानसभा क्षेत्र में मतदाता को नोटीफिकेशन जारी होने के पांच दिनों के भीतर इसके लिए अप्लाई करना होगा.

कैसा करेगा काम?

रियल टाइम डेटा कलेक्ट करने के लिए जैसे ही कोई वोटर किसी भी बूथ में एंट्री लेता है उसके पहचान को मौजूद अधिकारियों द्वारा स्कैन करके वेरीफाई किया जाता है. पहचान वेरीफाई होने के बाद ऐप यूज़ करने वाला व्यक्ति यह जान पाएगा कि कोई शख्स वोट करने गया. फिर मतदान करने के बाद उसके फोटो पहचान पत्र को स्कैन किया जाएगा, जिससे ऐप पर यह पता चल जाएगा कि उस व्यक्ति ने मतदान कर दिया है. इस तरह से यूज़र को रियल-टाइम डेटा उपलब्ध होता रहता है.

पहले किया जा चुका है प्रयोग?
दिल्ली विधानसभा चुनाव में इसे पूरी तरह से प्रयोग किए जाने के पहले उत्तर प्रदेश, हरियाणा और महाराष्ट्र के उपचुनावों के दौरान इसका पायलट वर्ज़न प्रयोग किया जा चुका है. इस ऐप के बारे में विस्तृत जानकारी इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया के अधिकारियों ने राज्य चुनाव आयोग के अधिकारियों को एक मीटिंग के दौरान दी.
Loading...

क्या-क्या मिलेंगी जानकारियां?
अधिकारियों के मुताबिक इस ऐप को यूज़ करके वोटर्स जान पाएंगे कि बूथ पर कितनी लंबी लाइन है. साथ ही उन्हें यह भी पता लग सकेगा कि कितने वोटर अभी तक बूथ पर पहुंच चुके हैं. ये सारा डेटा रियल टाइम में इकट्ठा करते अपडेट किया जाता है.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 9:53 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...