भारत में बढ़ी एलन मस्क की मुश्किलें, TRAI ने ISRO को सैटेलाइट ब्रॉडबैंड सर्विस पर रोक लगाने को कहा

 एलन मस्क

एलन मस्क

अपने शुरुआती दिनों में ही एलन मस्क द्वारा स्थापित SpaceX टेक्नॉलॉजीज को इंडिया की सैटेलाइट ब्रॉड-बैंड सर्विस के बिड के दौरान चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा हैं. दावा किया गया है कि SpaceX के पास देश में ऐसी सर्विसेज को लॉन्च करने के लिए सरकार से लाइसेंस या ऑथराइज़ेशन नहीं है.

  • Share this:
नई दिल्ली. अपने शुरुआती दिनों में ही एलन मस्क द्वारा स्थापित SpaceX टेक्नॉलॉजीज को इंडिया की सैटेलाइट ब्रॉड-बैंड सर्विस के बिड के दौरान चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा हैं. अमेजन, Hughes, Google, माइक्रोसॉफ्ट और फेसबुक जैसी कंपनियों का प्रतिनिधित्व करने वाली एक उद्योग संस्था ने टेलीकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) को लिखा है कि वे SpaceX को भारत में इसकी स्टारलिंक सैटेलाइट इंटरनेट सर्विसेज की प्री-सेलिंग के बीटा संस्करण को बेचने से रोकने के लिए कहें. इस संस्था ने दावा किया हैं कि SpaceX के पास देश में ऐसी सर्विसेज़ को लॉन्च करने के लिए सरकार से लाइसेंस या ऑथराइज़ेशन नहीं है.

मामले होगी जाएगी

ब्रॉडबैंड इंडिया फोरम के अध्यक्ष टीवी रामचंद्रन ने ET को लिखे लेटर में कहा है कि निष्पक्ष प्रतिस्पर्धा, मौजूदा नीति और रेग्युलेटरी नोर्म्स का पालन करने के लिए इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप किया जाना चाहिए. ब्रॉडबैंड फ़ोरम के अनुसार, स्पेसएक्स-समर्थित स्टारलिंक के पास न तो भारत में अपना कोई ग्राउंड / अर्थ स्टेशन था, न ही दूरसंचार विभाग (DoT) और ISRO द्वारा ऐसी (बीटा) सेवाएं प्रदान करने के लिए कोई सैटेलाइट फ्रिक्वेन्सी औथोंराइजेशन. इस लेटर को आधार बनाते हुए ट्राई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस मामले की जांच की जाएगी.

ये भी पढ़ें-  Bank Holidays: बैंक 4 अप्रैल तक रहेंगे बंद! इस महीने 15 दिनों की रहेगी छुट्टी, घर से निकलने से पहले चेक करें पूरी लिस्ट
क्या है मस्क का प्लान?

एलन मस्क 100 Mbps सैटेलाइट बेस्ड इंटरनेट सर्विस के माध्यम से तेजी से बढ़ते भारतीय टेलीकम्यूनिकेशन इंडस्ट्री में अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं इसलिए मस्क ने भारत सरकार से अनुरोध किया है कि उन्हे देश में सैटेलाइट बेस्ड ब्रॉडबैंड टेक्नालजी की अनुमति दे. बता दे कि SpaceX ने भारत में अपनी सैटेलाइट-आधारित इंटरनेट सेवा के बीटा संस्करण का प्री-ऑर्डर बूकिंग शुरू कर दिया है जिसे आप $ 99 की डिपॉजिट अमाउंट (7,000 रुपये से अधिक)के साथ बूक कर सकते हैं. यह अमाउंट पूरी तरह से रिफंडेबल हैं. कंपनी, जो पहले से ही अमेरिका, कनाडा और ब्रिटेन में इस तरह की सर्विसेज़ प्रदान कर रही है, को उम्मीद है कि 2022 में सैटेलाइट के माध्यम से भारतीय उपयोगकर्ताओं को इंटरनेट कनेक्टिविटी के ऑफर शुरू हो जाएगी. कंपनी की वेबसाइट कहती है, "उपलब्धता सीमित होने के कारण पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर सर्विस अवेलेबल होगी."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज