होम /न्यूज /तकनीक /Explainer: IMC 2022 हुआ शुरू, जानें क्या है 5G और यूजर्स को कैसे मिलेगा फायदा

Explainer: IMC 2022 हुआ शुरू, जानें क्या है 5G और यूजर्स को कैसे मिलेगा फायदा

भारत में आज पेश की जाएगी 5G सर्विस (सांकेतिक तस्वीर)

भारत में आज पेश की जाएगी 5G सर्विस (सांकेतिक तस्वीर)

5G एक लेटेस्ट नेटवर्क है जो पहले से कहीं ज़्यादा तेज इंटरनेट स्पीड (मल्टी-Gbps पीक स्पीड), अल्ट्रा लो-लेटेंसी ऑफर करता ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

5G एक लेटेस्ट नेटवर्क है जो पहले से कहीं ज़्यादा तेज इंटरनेट स्पीड देता है.
5G को लो-बैंड, मिड-बैंड या हाई-बैंड मिलीमीटर-वेव 24 GHz में 54 GHz तक लागू किया जा सकता है.
4G के मुकाबले 5G टेक्नोलॉजी ज्यादा बेहतर इंटरफेस के साथ आएगी.

इंडिया मोबाइल कांग्रेस (IMC) के छठे एडिशन की शुरुआत हो चुकी है. IMC 2022, 1 से 4 अक्टूबर तक ‘न्यू डिजिटल यूनिवर्स’ की थीम के साथ पेश किया गया है. PM मोदी इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2022 के आयोजन स्थल पर 5जी सेवाओं के कामकाज का डेमो देख रहे हैं. प्रधानमंत्री मोदी थोड़ी देर में 5जी सर्विस का शुभारंभ करेंगे. 5G तकनीक की मदद से बिना रुकावट कवरेज, हाई डेटा रेट और बेहद विश्वसनीय कम्यूनिकेशन मिलेगा. इससे एनर्जी एफिशिएंसी, स्पेक्ट्रम एफिशिएंसी और नेटवर्क एफिशिएंसी को बढ़ावा मिलेगा. आइए जानते हैं क्या है 5G और कैसे इससे लोगों को फायदा मिलेगा.

5G एक लेटेस्ट नेटवर्क है जो पहले से कहीं ज़्यादा तेज इंटरनेट स्पीड (मल्टी-Gbps पीक स्पीड), अल्ट्रा लो-लेटेंसी ऑफर (बेहद कम रुकावट) करता है. इसमें यूज़र को ज्यादा भरोसेमंद बड़ी नेटवर्क क्षमता मिलती है.

(ये भी पढ़ें- 4G से कैसे बेहतर होगा 5G, कितनी होगी स्पीड और यूज़र्स को कैसे होगा फायदा? यहां जानिए सबकुछ)

कितनी हो सकती है Frequency रेंज
5G को लो-बैंड, मिड-बैंड या हाई-बैंड मिलीमीटर-वेव 24 GHz में 54 GHz तक लागू किया जा सकता है. लो-बैंड 5G, 600Mhz से 900Mhz के बीच 4G के समान फ़्रीक्वेंसी रेंज का इस्तेमाल करता है, मिड-बैंड 5G 1.7GHz से 4.7 GHz के बीच mmWaves का इस्तेमल करता है, और हाई-बैंड 5G 24-47 GHz की फ़्रीक्वेंसी का इस्तेमाल करता है.

4G के मुकाबले 5G टेक्नोलॉजी ज्यादा बेहतर इंटरफेस के साथ आएगी. जहां 4जी में 150Mbps तक की अधिकतम स्पीड मिलती है, वहीं 5जी में 10Gbps तक डाउनलोड स्पीड होने की बात कही जा रही है. यानी कि यूजर्स 5G स्पीड के साथ एक पूरी HD फिल्म को महज कुछ सेकेंड में डाउनलोड कर सकेंगे.

इतनी हो सकती है Upload स्पीड
अपलोड के मामले में 4G नेटवर्क पर 50Mbps अपलोड स्पीड की तुलना में 5G नेटवर्क 1Gbps तक अपलोड स्पीड मिलने का अनुमान है. इसके अलावा, 4G की तुलना में 5G कहीं ज्यादा डिवाइसेस से कनेक्ट कर सकता है. 5G को स्मार्टफोन की तुलना में कई दूसरी तरह के डिवाइस को जोड़ने के लिए डिजाइन किया गया है.

(ये भी पढ़ें- PM नरेंद्र मोदी ने लॉन्च किया 5G नेटवर्क, कहा- पहले 1GB डेटा की कीमत थी 300 रुपये, अब है सिर्फ 10 रुपये) 

रिपोर्ट के मुताबिक 5G यूजर्स के नेटवर्क कनेक्शन को बेहतर बनाने के अलावा और भी बहुत कुछ करेगा. 5G आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग स्पेस में भी कई अवसर लाएगा, क्योंकि वैज्ञानिक अपने सिस्टम में ज़्यादा से ज़्यादा डेटा प्रोग्राम करने में सक्षम होंगे, जिसके रिजल्ट और समाधान भी जल्दी ही सामने आ जाएंगे. कीमत को लेकर उम्मीद की जा रही है कि 4G के लिए जो पेमेंट की जा रही है, 5जी के लिए हमें उससे थोड़ा ज़्यादा ही देना होगा.

Tags: India Mobile Congress, Tech news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें