Facebook के को-फाउंडर का जकरबर्ग पर हमला, कहा- जरूरत से ज्यादा ताकतवर हो गए हैं मार्क

फेसबुक के को-फाउंडर रहे क्रिस ह्यूज ने जकरबर्ग पर आरोप लगाया है और कहा हे कि वे जरूरत से ज्यादा ताकतवर हो गए हैं.

News18Hindi
Updated: May 10, 2019, 12:29 PM IST
Facebook के को-फाउंडर का जकरबर्ग पर हमला, कहा- जरूरत से ज्यादा ताकतवर हो गए हैं मार्क
फेसबुक के को-फाउंडर रहे क्रिस ह्यूज ने जकरबर्ग पर आरोप लगाया है और कहा हे कि वे जरूरत से ज्यादा ताकतवर हो गए हैं.
News18Hindi
Updated: May 10, 2019, 12:29 PM IST
कुछ दिनों पहले फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी वॉट्सऐप के को-फाउंडर ब्रायन ऐक्टन ने मार्क जकरबर्ग पर यूजर्स की प्राइवेसी का गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया था. इसके बाद यह मामला काफी दिनों तक चर्चा में रहा. अब फेसबुक के को-फाउंडर रहे क्रिस ह्यूज ने जकरबर्ग पर आरोप लगाया है और कहा हे कि वे जरूरत से ज्यादा ताकतवर हो गए हैं. ह्यूज ने कहा कि फेसबुक सोशल मीडिया के क्षेत्र में अपना वर्चस्व कायम रखने के लिए या तो अपनी प्रतिद्वंदी कंपनियों को खरीद लेता है या फिर उनकी नकल कर लेता है. इसके कारण इन्वेस्टर्स भी उसके किसी प्रतिद्वंदी कंपनी में पैसा नहीं लगाते क्योंकि उन्हें मालूम है कि कंपनी ज्यादा दिन तक नहीं चल सकती है..

जरूरत से ज्यादा ताकतवर बन गए हैं जकरबर्ग
क्रिस ने कहा कि जकरबर्ग जरूरत से ज्यादा ताकतवर हो गए हैं, इसलिए अब फेसबुक का टूटना जरूरी है. न्यूयॉर्क टाइम्स के संपादकीय में क्रिस ने कहा कि जकरबर्क ने फेसबुक को बढ़ाने के लिए यूजर्स की सिक्योरिटी और प्राइवेसी के साथ भी समझौता किया. उन्होंने कहा, “दुनिया पर जकरबर्ग का प्रभाव हैरान करने वाला है. वे सिर्फ फेसबुक के अलावा इंस्टाग्राम और वॉट्सऐप पर भी नियंत्रण रखते हैं. कंपनी का बोर्ड भी अपने हेड के कामों पर नजर रखने के तौर पर नहीं बल्कि एक सलाहकार समिति की तरह काम करता है.”

ये भी पढ़ेंः भारतीयों ने 2018 में Google पर सबसे ज्यादा सर्च की ये चीजें, शादी नहीं डेटिंग में दिखाई दिलचस्पी

जकरबर्ग के पास लोगों को कंट्रोल करने की ताकत
क्रिस ह्यूज ने कहा कि फेसबुक की बढ़ती ताकत का सबसे बुरा प्रभाव यह हो रहा है कि मार्क के पास लोगों की अभिव्यक्ति पर एकतरफा नियंत्रण बढ़ता जा रहा है. वे एक साथ दो अरब लोगों की बातचीत पर नजर रखने के साथ उसे सेंसर भी कर सकते है. उन्होंने आगे कहा कि जकरबर्क की पॉलिसीज के कारण ऑन्त्रप्रेन्योरशिप पर भी बड़ा खतरा है और इससे उपभोक्ताओं के विकल्प भी सीमित होते हैं.

फेसबुक को तोड़ने की अपील
उन्होंने अमेरिकी सरकार से फेसबुक का एकाधिकार खत्म करने की अपील की है. क्रिस ने कहा कि अमेरिकी सरकार को दो चीजें करनी चाहिए. पहली कि वे फेसबुक का मोनोपॉली खत्म करे और इसे नियम के मुताबिक चलाए. इसके अलावा इंस्टाग्राम और वॉट्सऐप को फेसबुक से अलग कर दे और कंपनी के किसी भी तरह के नए अधिग्रहण को कुछ सालों तक रोक दे.

ये भी पढ़ेंः शियोमी, ओप्पो समेत इन चार स्मार्टफोन्स में कैसे Block करें अनचाहे Calls, जानें स्टेप्स

कई साल पहले कंपनी छोड़ चुके हैं क्रिस
क्रिस ह्यूज ने करीब 10 साल पहले ही अपने आप को फेसबुक से अलग कर लिया था. जकरबर्ग और क्रिस ने 2004 में दो अन्य दोस्तों के साथ मिलकर हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में फेसबुक की शुरुआत की थी.

-WhatsApp खोले बिना भी दिनभर कर सकते हैं दोस्तों से Chatting, यहां देखें पूरा तरीका
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...