कैम्ब्रिज एनालिटिका स्कैंडल में Facebook पर लगेगा 4.56 करोड़ रुपये का जुर्माना

News18Hindi
Updated: July 11, 2018, 9:42 AM IST
कैम्ब्रिज एनालिटिका स्कैंडल में Facebook पर लगेगा 4.56 करोड़ रुपये का जुर्माना
फेसबुक पर करोड़ों यूजर्स की निजी जानकारियों बेचने का आरोप है.

जांच कर रही ब्रिटिश सूचना आयुक्त एलिजाबेथ डेनम ने कहा कि वह फेसबुक पर इस हरकत के लिए 5 लाख पाउंड (4.56 करोड़ रुपये) का जुर्माना लगाना चाहती हैं.

  • Share this:
ब्रिटेन की सूचना रेगुलेटर ने बुधवार को कहा वह फेसबुक पर डेटा लीक करने के एवज में फाइन लगाना चाहती हैं. उन्होंने कहा कि उनके विभाग ने पता किया है कि कैसे कैम्ब्रिज एनालिटिका ने अनुचित तरीके से करोड़ों लोगों के डेटा का इस्तेमाल किया. पिछले महीनों के दौरान इसी मामले में यूएस और ईयू के द्वारा फेसबुक के सीईओ को तलब किया गया था और कई सारे सवाल किए गए थे.

राजनीतिक कैंपेन के लिए इस्तेमाल किए गए डेटा पर जांच कर रही ब्रिटिश सूचना आयुक्त एलिजाबेथ डेनम ने कहा कि वह फेसबुक पर इस हरकत के लिए 5 लाख पाउंड (4.56 करोड़ रुपये) का जुर्माना लगाना चाहती हैं. वैसे यह जुर्माना 590 बिलियन डॉलर वाली कंपनी फेसबुक के लिए छोटी रकम है.

डेनहम ने कहा कि जिस तरह से फेसबुक लोगों की जानकारी को बचाने में नाकामयाब रहा और दूसरों के द्वारा डेटा लिए जाने के बावजूद पारदर्शिता नहीं दिखाई, इन सभी मामलों को मद्देनजर रखते हुए फेसबुक ने कानून तोड़ा है. इसलिए फेसबुक पर कार्रवाई करना जायज है.

उन्होंने कहा, "नई तकनीकी जो डेटा एनालिटिक्स का इस्तेमाल जमीनी स्तर पर लोगों के मतों को जानने के लिए करती है. इसके जरिए कैंपेन करने वाले ग्रुप हर वोटर के साथ आसानी से जुड़ पाते हैं. लेकिन यह कानून के हिसाब से गलत है."

फेसबुक आयुक्त के आखिरी फैसले के पहले इस बारे में अपनी राय रख सकता है. फेसबुक ने कहा है कि वह रिपोर्ट का विश्लेषण कर रहा है और इस संबंध में जल्दी ही अपनी राय रखेगा.

ये भी पढ़ें : 5 नहीं, 8 करोड़ फेसबुक यूजर्स का डेटा हुआ लीक, इतने भारतीय शामिल

फेसबुक के चीफ प्राइवेसी अधिकारी एरिन इगान ने कहा, "जैसा कि हमने पहले ही कहा है कि हमें 2015 में ही कैम्ब्रिज एनालिटिका के दावों की जांच करनी चाहिए थी और कार्रवाई करनी चाहिए थी. अभी हम यूएस और अन्य देशों के अधिकारियों के जैसे ही ब्रिटेन में भी सूचना आयुक्त के साथ मिलकर कैम्ब्रिज एनालिटिका के बारे में जांच में सहयोग कर रहे हैं.
Loading...

ब्रिटिश सांसदों ने फेक न्यूज और उसके चुनाव कैंपेन में प्रभाव को लेकर जांच की घोषणा की है. इस दौरान उन्होंने कैम्ब्रिज एनालिटिका पर ज्यादा फोकस किया है. कैम्ब्रिज एनालिटिका को साल 2016 अमेरिकी चुनावों के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने काम पर रखा था. लेकिन इस कंपनी ने अमेरिकी चुनाव में डेटा के इस्तेमाल से इन्कार किया है.

बहरहाल, सूचना आयुक्त की रिपोर्ट के मुताबिक कैम्ब्रिज एनालिटिका की मुख्य कंपनी SCL Elections के खिलाफ आपराधिक मुकदमा चलाया जाएगा. उन्होंने साथ ही कहा कि वह 11 राजनीतिक पार्टियों को चेतावनी लेटर भीन भेजेंगी और उनकी डेटा प्रोटेक्शन वाले कामों को लेकर सतर्क रहने को कहेंगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोबाइल-टेक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 11, 2018, 8:12 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...