Flipkart-आदित्य बिरला फैशन की डील पर CAIT ने उठाए सवाल, कही ये बात

फ्लिपकार्ट अब आदित्य बिरला फैशन एंड रिटेल में 7.8 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की योजना बना रही है.
फ्लिपकार्ट अब आदित्य बिरला फैशन एंड रिटेल में 7.8 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की योजना बना रही है.

ट्रेडर्स बॉडी कैट (CAIT) ने आदित्य बिड़ला फैशन एंड रिटेल लिमिटेड (Aditya Birla Fashion and Retail Ltd) और फ्लिपकार्ट ग्रुप (Flipkart) की प्रस्तावित डील पर सवाल उठाए हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. ट्रेडर्स बॉडी कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (Confederation of All India Traders) ने आदित्य बिड़ला फैशन एंड रिटेल लिमिटेड (Aditya Birla Fashion and Retail Ltd) द्वारा वॉलमार्ट के स्वामित्व वाली ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट (Flipkart) ग्रुप को 7.8 प्रतिशत हिस्सेदारी बिक्री के जरिए 1,500 करोड़ रुपये जुटाने की योजना पर आपत्ति जताई है. कैट (CAIT) ने कहा है कि प्रस्तावित सौदा सरकार की प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) नीति का उल्लंघन है.

CAIT ने पीयूष गोयल को लिखा पत्र
कैट ने इस बारे में मंगलवार को केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को एक पत्र लिखा है. पत्र में मंत्री से इस सौदे को अनुमति नहीं देने का आग्रह किया है. कैट ने कहा कि एबीएफआरएल को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तरीके से फ्लिपकार्ट समूह के स्वामित्व-नियंत्रण वाले मार्केटप्लेस प्लेटफॉर्म पर अपना सामान बेचने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए.

ये भी पढ़ें- Flipkart 1500 करोड़ में खरीदेगी आदित्य बिरला फैशन की 7.8 फीसदी हिस्सेदारी
कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने गोयल से आग्रह किया है कि इस प्रस्तावित एफडीआई को तब तक अनुमति नहीं दी जाए, जब तक कि एबीएफआरएल यह भरोसा नहीं दे देती है कि वह वॉलमार्ट के स्वामित्व वाले फ्लिपकार्ट समूह के मार्केटप्लेस के जरिए अपना तैयार माल नहीं बेचेगी.



ये भी पढ़ें- फ्लिपकार्ट की दिवाली सेल शुरू, इन स्मार्टफोंस पर मिल रही बंपर छूट

कैट ने कहा कि कंपनी की ओर से शेयर बाजारों को जो सूचना दी गई हे उससे फ्लिपकार्ट समूह के स्वामित्व और परिचालन वाले मार्केटप्लेस पर एबीएफआरएल को एक 'वरीयता विक्रेता' बनाने की मंशा का पता चलता है जो सरकार की नीति का उल्लंघन है.

FDI पॉलिसी का उल्लंघन
कैट ने कहा कि मौजूदा एफडीआई नीति किसी भी विदेशी कंपनी को ऐसी किसी भी कंपनी में जिसमें उसका निवेश हो, उसको ई-कॉमर्स सहित बहु ब्रांड खुदरा व्यापार में किसी भी प्रकार के गठजोड़ की अनुमति नही देती है फिर चाहे वो ऑनलाइन ई-कॉमर्स प्लेटफार्म से ही क्यों न जुड़ा हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज