अपना शहर चुनें

States

Google Chrome का नया अपडेट रोकेगा हैकिंग, कमजोर पासवर्ड बनाने पर जारी करेगा अलर्ट

यूजर क्रोम की सेटिंग्स में जाकर कमजोर पासवर्ड की जांच, पहचान और उन्हें आसानी से फिक्स कर सकेंगे.
यूजर क्रोम की सेटिंग्स में जाकर कमजोर पासवर्ड की जांच, पहचान और उन्हें आसानी से फिक्स कर सकेंगे.

Google ने बताया क्रोम 88 के नए प्राइवेसी फीचर के आने के बाद से यूजर्स को मजबूत पासवर्ड बनाने के लिए कई तरह के विकल्प मिलेंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. इंटरनेट यूजर्स के अकाउंट की सेफ्टी के लिए गूगल (Google) अपने सर्च इंजन गूगल क्रोम (Google Chrome) को लगातार अपडेट करता रहता है. अब गूगल ने लेटेस्ट क्रोम 88 वर्जन में कई शानदार फीचर्स लॉन्च किए हैं जो यूजर्स सेफ्टी के लिहाज से महत्वपूर्ण होंगे. ये फीचर यूजर्स को कमजोर पासवर्ड पर अलर्ट भी भेजेंगे. गूगल ने इन फीचर्स को रोलआउट करना शुरू कर दिया है.

Google ने बताया क्रोम 88 के नए प्राइवेसी फीचर के आने के बाद से यूजर्स को मजबूत पासवर्ड बनाने के लिए कई तरह के विकल्प मिलेंगे. यूजर क्रोम की सेटिंग्स में जाकर कमजोर पासवर्ड की जांच, पहचान और उन्हें आसानी से फिक्स कर सकेंगे. इसके अलावा क्रोम उन पासवर्ड्स की भी पहचान कर सकेगा, जिनमें पहले सेंधमारी हो चुकी है.

कमजोर पासवर्ड को एडिट करने का ऑप्शन 
गूगल क्रोम यूजर को एक शार्टकट उपलब्ध कराएगा, जो कमजोर पासवर्ड की पहचान करेगा. इस पासवर्ड पर क्लिक करके कमजोर पासवर्ड को तत्काल एडिट किया जा सकेगा. अपने पासवर्ड को बदलने के लिए अपनी प्रोफाइल के नीचे दिए गए एडिट ऑप्शन पर क्लिक करना होगा. यूजर को अपना पासवर्ड मैन्युअली सेट करने की भी इजाजत होगी. गूगल की तरफ से यूजर की सुविधा के लिए कुछ सुझाव दिए जाएंगे, जिससे यूजर को पासवर्ड और यूजरनेम सेट करने में आसानी होगी.




एंड्रॉयड पर क्रोम में टच-टू-फील फीचर
गूगल का यह अपडेट सबसे पहले क्रोम के डेस्कटॉप और आईओएस वर्जन के लिए उपलब्ध कराया जाएगा. हालांकि, जल्द इसे एंड्रॉयड ऐप के लिए उपलब्ध करा दिया जाएगा. नए क्रोम सेफ्टी चेक को हर हफ्ते 14 मिलियन सिक्योरिटी चेक से गुजरना होता है. इससे गूगल के पासवर्ड प्रोटेक्शन का अंदाजा लगाया जा सकता है. गूगल ने कहा है कि नए अपडेट में कई सारे सुधार किए गए हैं. इसके साथ ही एंड्रॉयड पर क्रोम में टच-टू-फील फीचर दिया जाएगा, जैसा कि आईओएस में होता है, ताकि सिक्योर पासवर्ड के लिए बायोमेट्रिक ऑथेंटिफिकेशन की सुविधा मिल सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज