इस एयरटैक्सी को लाने की तैयारी में Google के को-फाउंडर, बिना पायलट करती है हवा से बातें

गूगल के को-फाउंडर लैरी पेज की कंपनी Kitty Hawk पायलटलेस टैक्सी की योजना पर काम कर रहे हैं.

News18Hindi
Updated: March 14, 2018, 4:19 PM IST
इस एयरटैक्सी को लाने की तैयारी में Google के को-फाउंडर, बिना पायलट करती है हवा से बातें
गूगल के को-फाउंडर लैरी पेज की कंपनी Kitty Hawk पायलटलेस टैक्सी की योजना पर काम कर रहे हैं.
News18Hindi
Updated: March 14, 2018, 4:19 PM IST
टेक्नोलॉजी के अलग-अलग क्षेत्र में अपना विस्तार करने के बाद तकनीक की दिग्गज कंपनी गूगल फ्लाइंग टैक्सी के क्षेत्र में निवेश कर सकती है. पर्सनल ट्रांसपोर्ट के क्षेत्र में क्रांति लाते हुए गूगल के को-फाउंडर पायलटलेस टैक्सी की योजना पर काम कर रहे हैं. इस टैक्सी टेस्ट ड्राइव न्यूज़ीलैंड में की गई है.

बदल दीजिए स्मार्टफोन की ये Setting, मक्खन की तरह चलेगा आपका फोन


लैरी पेज की कंपनी Kitty Hawk भविष्य में ट्रांसपोर्ट सिस्टम को आसान बनाते हुए, एयरटैक्सी के कांसेप्ट पर काम कर रही है. 'कोरा' नाम की यह टैक्सी भविष्य की योजनाओं को ध्यान में रखकर बनायी जा रही है. इस टैक्सी को इलेक्ट्रिक एयरक्राफ्ट के तर्ज बनाया जा रहा है. जिसके पंखों में छोटे-छोटे दर्जनभर लिफ्ट रोटोर्स लगाए गए हैं, जिससे यह हेलीकाप्टर की तरह वर्टीकल टेक-ऑफ और लैंडिंग कर सके.

हालांकि इस एयरक्राफ्ट की लैंडिंग और टेकऑफ़ हेलीकाप्टर से सरल होगी. जिसे छतों और पार्किंग जैसी कम जगहों पर भी आसानी से लैंड और टेकऑफ किया जा सकेगा. पर्यावरण और भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए ट्रांसपोर्टेशन के क्षेत्र में एयरटैक्सी एक क्रांतिकारी कदम है.

सावधान! SMARTPHONE दे रहा है धोखा, FACEBOOK कर रहा है आपकी जासूसी


कोरा प्रोटोटाइप को न्यूज़ीलैण्ड के साउथ आईसलैंड में टेस्ट किया गया है. इस एयरटैक्सी में दो पैसेंजर आसानी से बैठ सकते है. इसके साथ ही पैसेंजर की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए, एयरटैक्सी में पैराशूट दिया गया है. इससे पहले इस एयरटैक्सी का नाम Zee.Aero रखा गया था. 150 kmph की रफ़्तार से यह टैक्सी 900 मीटर की ऊंचाई तक आसानी से उड़ सकती है.

ये भी पढ़ें:
स्‍टीफन हॉकिंग, वो वैज्ञानिक जो जानते थे ब्रह्मांड के रहस्य
2 हजार रुपये में घर ले आएं 90 हजार का iPhone X
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर