गूगल असिस्टेंट के ज़रिए सुनी जा रही हैं आपके बेडरूम की बातें!

एक रिपोर्ट में कहा गया है कि एक व्हिसलब्लोअर की मदद से VRT NWS ने करीब एक हज़ार एक्सर्पट्स को गूगल असिस्टेंट के ज़रिए सुना.

News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 8:48 AM IST
गूगल असिस्टेंट के ज़रिए सुनी जा रही हैं आपके बेडरूम की बातें!
एक रिपोर्ट में कहा गया है कि एक व्हिसलब्लोअर की मदद से VRT NWS ने करीब एक हज़ार एक्सर्पट्स को गूगल असिस्टेंट के ज़रिए सुना.
News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 8:48 AM IST
गूगल के लिए काम करने वाली थर्ड पार्टी कॉन्ट्रैक्टर, गूगल असिस्टेंट के माध्यम से आपके बेडरूम की बातें सुन रहा है. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यह लोगों की सुरक्षा को लेकर काफी चिंता का विषय बन गया है. बेल्जियन ब्रॉडकॉस्टर VRT NWS के अनुसार गूगल होम स्पीकर के ज़रिए लोगों की बातचीत को रिकॉर्ड किया जा रहा है. ऑडियो रिकॉर्डिंग को सब-कॉन्ट्रैक्टर्स को भेजा जा रहा है, जो कि गूगल स्पीच रिकग्निशन को और बेहतर बनाने के लिए इसे ट्रांसक्राइब कर रहा है.

रिपोर्ट में बुधवार को कहा गया है, 'एक व्हिसलब्लोअर की मदद से VRT NWS ने करीब एक हज़ार एक्सर्पट्स को गूगल असिस्टेंट के ज़रिए सुना. इन रिकॉर्डिंग्स में हम साफ-साफ लोगों के पते और दूसरी संवेदनशील सूचनाओं को सुन पा रहे थे.' (ये भी पढ़ेंः सावधान! Agent Smith, स्मार्टफोन से चुरा सकता है आपकी बैंक डिटेल और डेटा)





वीआरटी ने कहा, 'बहुत से पुरुषों ने पोर्न सर्च किया, पति-पत्नी के बीच बहस और यहां तक कि एक मामला जिसमें एक महिला आपातकालीन स्थिति में थी. इन सभी बातों का पता हमें रिकॉर्डिग से चला. इससे भी बड़ी चिंता की बात यह थी कि व्हिसलब्लोअर ने जिस प्लेटफॉर्म को दिखाया उसमें सारी दुनिया की रिकॉर्डिंग थी.

अंतरराष्ट्रीय डेटा निगम (आईडीसी) के अनुसार भारत में, अमेज़न एको ने 2018 में 59 प्रतिशत शेयर के साथ भारतीय स्मार्ट स्पीकर बाजार का नेतृत्व किया, इसके बाद गूगल होम 39 प्रतिशत यूनिट शेयर के साथ मौजूद रहा.



देश में 2018 में कुल 753 हजार यूनिट्स भेजी गईं. गूगल होम के मिनी व अन्य सभी स्मार्ट स्पीकर मॉडल बिक गए और वह एक शीर्ष विक्रेता के रूप में उभरा. बेल्जियन ब्रॉ़डकॉस्टर ने कहा कि रिकॉर्डिंग्स उस वक्त भी की जा रही थीं, जबकि गूगल होम यूज़र्स ने 'Ok Google' वेक-अप वर्ड भी नहीं कहा था.
Loading...

हालांकि, गूगल ने कहा कि वह वॉइस रिकग्निशन को बेहतर बनाने के लिए सिर्फ 0.2 फीसदी ही ऑडियो क्लिप्स को ट्रांसक्राइब करता है. कंपनी ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है क्योंकि कॉन्ट्रैक्टर ने डेटा सिक्युरिटी पॉलिसी का उल्लंघन किया है.' यह खबर उस वक्त आ रही है जब अमेज़न अलेक्सा पहले से ही लोगों की रिकॉर्डिंग सुनने विवादों में है.

(ये भी पढ़ें- 22 हज़ार रुपये से ज़्यादा की छूट पर घर लाएं ब्रांडेड AC, यहां है ऑफर)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...