Google के कर्मचारियों को सख्त निर्देश, ऑफिस में नहीं कर सकते ये काम

News18Hindi
Updated: August 25, 2019, 11:09 AM IST
Google के कर्मचारियों को सख्त निर्देश, ऑफिस में नहीं कर सकते ये काम
गूगल (Google) ने अपने कर्मचारियों के लिए नई गाइलाइंस (Guidelines) जारी की है. बाकी चीज़ो के साथ इस लिस्ट में ये भी बताया गया है उनके कर्मचारी ऑफिस में क्या नहीं कर सकते हैं...

गूगल (Google) ने अपने कर्मचारियों के लिए नई गाइलाइंस (Guidelines) जारी की है. बाकी चीज़ो के साथ इस लिस्ट में ये भी बताया गया है उनके कर्मचारी ऑफिस में क्या नहीं कर सकते हैं...

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2019, 11:09 AM IST
  • Share this:
गूगल (Google) ने अपने कर्मचारियों के लिए नई गाइलाइंस (Guidelines) जारी की है. बाकी चीज़ो के साथ इस लिस्ट में ये भी बताया गया है उनके कर्मचारी ऑफिस में क्या नहीं कर सकते हैं. गूगल ने अपने ऑफिशियल ब्लॉग (official blog post) पोस्ट में लिखा कि  गूगल के कर्मचारी ऑफिस में राजनीति और लेटेस्ट न्यूज़(latest news) पर बहस नहीं कर सकते हैं. गाइडलाइंस में लिखा गया कि कर्मचारी वह काम करें, जिसके लिए हमने उन्हें भर्ती किया, हम नहीं चाहते कि वह गैरजरूरी मुद्दों को लेकर बहस करके समय बर्बाद करें. गूगल का कहना है कि कर्मचारियों के बीच हुई बहस से उनकी टिप्पणी सार्वजनिक होगी, जिससे कंपनी को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है और इसका गलत असर पड़ेगा.

गूगल ने कहीं ना कहीं अपने कर्मचारियों को ये बता दिया है कि गूगल कंपनी के लिए काम करना एक जिम्मेदारी की तरह है. ब्लॉग पोस्ट में आगे लिखा गया है, 'गूगल के साथ काम करना का मौका कई चैलेंज के साथ आता है.  दुनियाभर में करोड़ों लोग गूगल पर क्वॉलिटी, भरोसेमंद जानकारी के लिए भरोसा करते हैं.

google
गूगल


इसलिए यह ज़रूरी है कि हम लोगों के विश्वास का सम्मान करें और हमारे प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की अखंडता को बनाए रखें. ब्लॉग में कर्मचारी से गूगल ने कहा गया कि, आप जो कहते हैं वो मायने रखता है. आप अपने शब्दों के लिए जिम्मेदार हैं और उनके प्रति आपकी ही जवाबदेही बनती है.

इसके अलावा गूगल ने ट्रोलिंग को लेकर भी लिखा है. गूगल का कहना है कि कर्मचारियों को ट्रोलिंग के प्रति सचेत रहने की ज़रुरत है. गूगल ने लिखा, 'किसी को ट्रोल ना करें, ना नाम लें या ना किसी ऐसे विज्ञापन का हिस्सा बने जो किसी व्यक्ति को निशाना बनाने के लिए किया गया हो या निशाना बना रहा हो. गूगल की गाइडलाइन में ये बदलाव एक पूर्व सॉफ्टवेयर इंजीनियर के किए दावे के बाद किया गया है, जिसने गूगल पर राजनीतिक पक्षपात का आरोप लगाया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गैजेट्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 11:09 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...