Google Fit App: कैमरे से अब हार्ट और रेस्पिरेटरी रेट भी नजर रख सकेंगे यूजर्स

नया फीचर सिर्फ पिक्सल डिवाइस के लिए गूगल फिट एप पर उपलब्ध हाेगा

नया फीचर सिर्फ पिक्सल डिवाइस के लिए गूगल फिट एप पर उपलब्ध हाेगा

हार्ट रेट का मेजरमेंट करने के लिए उंगली के पीछे के कैमरे को हल्के से 30 सेकंड तक के लिए दबाकर रखना हाेगा. उसके बाद कैमरा खुद जांचेगा कि कितनी तेजी के साथ स्किन का कलर बदल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 9, 2021, 10:12 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. पिक्सल (Pixel) डिवाइस की मदद से अब यूजर हार्ट और रेस्पिरेटरी (heart and respiratory ) रेट भी मेजर कर सकेंगे. यह उन लाेगाें के लिए बेहद काम का हाेगा जाे स्मार्टबैंड या मेडिकल इक्यूपमेंट का इस्तेमाल नहीं कर रहे है इन्हें मॉनिटर करने के लिए. यह नया फीचर सिर्फ पिक्सल डिवाइस (Pixel device)के लिए गूगल फिट एप (google fit app) पर उपलब्ध हाेगा. पिछले महीने गूगल ने अनाउंस किया था कि पिक्सल डिवाइसेस में कैमरे के जरिए जल्द ही हार्ट और रेस्पिरेटरी (heart and respiratory ) रेट काे मेजर करने का फीचर नए अपडेट के साथ आएगा.



इसके साथ ही नए अपडेट में आठ मार्च से यह फीचर पिक्सल डिवाइस के लिए एक्टिव हाे गया है. कुछ समय बाद यह दूसरे एंड्राइड डिवाइसेस में भी काम करने लगेगा. एक बार जब यह अपडेट आपके पिक्सल फाेन में चलने लगेगा, आप काे हाेम फीड में ही  "Respiratory" and "Check your heart rate" सामने नजर जाएगा.



ये भी पढ़े -  Paytm की नई सर्विस! नहीं हाेगी POS मशीन की जरूरत, माेबाइल पर कार्ड टच करते ही हाे जाएगा पेमेंट



गूगल ने इसे लेकर एक वीडियाे भी शेयर किया है. जिससे यूजर इसे आसानी से समझ सके कि इसके लिए उन्हें क्या करना हाेगा. हालांकि इस फीचर काे मेडिकल इक्यूपमेंट द्वारा लिए गए मेजर के जैसा पूरी तरह से सही नहीं माना जा सकेगा और ना ही इसका इस्तेमाल मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए हाेगा. हार्ट रेट काे मेजरमेंट करने के लिए आपकाे अपनी उंगली पीछे के कैमरे हल्के से 30 सेकंड तक के लिए रखनी हाेगी. फ्लैश का इस्तेमाल भी किया जा सकता है यदि आप किसी ऐसी जगह है जहां राैशनी नहीं है. उसके बाद कैमरा खुद जांचेगा कि कितनी तेजी के स्किन का कलर बदल रहा है, जो ब्लड के पंप होने के कारण होता है. ऐसे में वह सारा डाटा इकट्ठा करके एक खास एल्गोरिद्म पर मांपेगी, जिसके बाद यूजर्स का हार्ट रेट (heart rate, respiratory rate) बताएगी. प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने बताया है कि इस डाटा को गूगल के डाटा सेंटर्स में मौजूद आपके अकाउंट में रखा जाएगा, जिसे दूसरा कोई नहीं देख पाएगा.



ये भी पढ़े - Jio का छोटे कारोबारियों के लिए खास ऑफर! कनेक्टिविटी खर्च घटाने के साथ ही बिजनेस बढ़ाने में ऐसे करेगी मदद







श्वास संबंधी गतिविधि (respiratory rate) को बताने के लिए कंपनी छाती के फुलाव पर भी ध्यान देगी. जैसे कैमरे के सामने खड़े व्यक्ति की सांस लेने पर छाती कितनी फूलती है और छोड़ने पर कितनी अंदर जाती है. यह एक मिनट का रिकॉर्ड हाेगा जिसके बाद वह इस डाटा को एनालाइज करेगी और यूजर्स को जानकारी देगी. यह गणना इतनी तेजी से होगी कि यूजर्स को बहुत ही कम समय में इसकी जानकारी मिल सकेगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज